संपादकीय | डॉयचे वेले | विचार-मंथन | संविधान | बहस | पोल | बीबीसी हिंदी | ओशो वाणी
मुख पृष्ठ » सामयिक (Current Affairs )
 
तगड़े इन्फेक्शन के कारण गला तो बैठा ही हुआ था कि ऐसी ख़बर आई कि दिल भी बैठ गया...। ख़बर मिली कि दुबे सर नहीं रहे। दुबे सर यानी डॉ. रामकृष्ण दुबे, जिनकी...
 
 
 
 
गुरुवार को बनारस में नरेंद्र मोदी के रोड शो ने एक बात तो पक्की तौर पर साबित कर दी है कि देश में उनका करिश्मा देखने को लेकर जबरदस्त उत्साह है। कुछ दिन पहले...
 
 
 
तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयराम जयललिता जब किसी पर निशाना साधती हैं तो ये हमला जोरदार होता है। अपने मुकाबले में खड़े किसी भी व्यक्ति को वो छोड़ती नहीं हैं, फिर...
 
 
 
 
देश के एक बड़े महानगर का हिस्सा होने के बावजूद कोलकाता का एक इलाका ऐसा भी है जो लोकतंत्र के महाकुंभ यानी लोकसभा चुनावों के प्रति पूरी तरह उदासीन है।
 
 
 
भविष्‍य एकदम अनिश्‍चित नहीं है। हमारा ज्ञान अनिश्‍चित है। हमारा अज्ञान भारी है। भविष्‍य में हमें कुछ दिखाई नहीं पड़ता। हम अंधे हैं। भविष्‍य का हमें कुछ भी दिखाई नहीं पड़ता। नहीं दिखाई पड़ता है इसलिए हम कहते हैं कि निश्‍चित नहीं है लेकिन भविष्‍य में दिखाई पड़ने लगे… और ज्‍योतिष भविष्‍य में देखने की प्रक्रिया है।