संपादकीय | डॉयचे वेले | विचार-मंथन | संविधान | बहस | पोल | बीबीसी हिंदी | ओशो वाणी | मीडिया दुनिया
मुख पृष्ठ » सामयिक (Current Affairs )
 
भोपाल की रहने वाली 22 वर्षीय तेजस्वी तेस्कर ने भेल की सारंगपाणी झील में कूदकर ख़ुद्कुशी कर ली। तेजस्वी एक होनहार छात्रा थी और उसने डॉक्टर बनने के सपने...
 
 
 
 
लोकसभा चुनाव के बाद से कांग्रेस सदमे में है। अभी तक वह अपनी न तो दिशा तय कर पा रही है और न ही दशा सुधारने के लिए कोई ठोस कदम उठा रही है। दस साल तक सत्‍ता में रहने वाली राष्‍ट्रीय पार्टी के लिए 44 के आंकड़े पर सिमटना वाकई में किसी पक्षाघात से कम नहीं है।
 
 
 
भारत में टेलीविजन पत्रकारिता अपनी चरम सीमा पर है। टेलीविजन ने कुछ ही दशकों में पत्रकारिता को एक नई दिशा दी है। इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में रेडियो की हमेशा से ही...
 
 
 
 
तीन हफ़्ते से गाज़ा में जारी इसराइली कार्रवाई के दौरान सोमवार रात को गाज़ा पर सबसे भीषण हवाई हमले हुए जिनमें 100 फ़लस्तीनी मारे गए। गाज़ा में मौजूद बीबीसी...
 
 
 
20 साल पहले फ्रैंकफर्ट के शिर्न आर्ट म्यूजियम में चोरों ने हाथ साफ किया। अमूल्य पेंटिंग्स चोरी कर ली गईं। नीदरलैंड्स और फ्रांस में भी मशहूर कलाकारों की पेंटिंग्स चोर ले...
 
 
 
 
....तो इसे दो प्रकार से जाना जा सकता है। या तो प्रारब्‍ध को देखकर या फिर कुछ लक्षण और पूर्वाभास है जिन्‍हें देखकर जाना जा सकता है। उदाहरण के लिए, जब कोई व्‍यक्‍ति मरता है तो मरने के ठीक नौ महीने पहले कुछ न कुछ होता है। साधारणतया हम जागरूक नहीं होते हैं। और वह घटना बहुत ही सूक्ष्‍म होती है। मैं नौ महीने कहता हूं- क्‍योंकि प्रत्‍येक व्‍यक्‍ति में इसमें थोड़ी भिन्‍नता होती है।