0

9वां रोजा : रोजे की गरिमा बढ़ाता है जकात का जेवर, जानिए क्या है ज़कात

शुक्रवार,मई 25, 2018
0
1
पूर्वकाल में त्रेयायुग में हैहय नामक राजा के वंश में कृतवीर्य नाम का राजा महिष्मती पुरी में राज्य करता था। उस राजा की ...
1
2
पुरुषोत्तम मास में अनेक पुण्यों को देने वाली एकादशी का नाम पद्मिनी है। इस वर्ष यह एकादशी 25 मई 2018, शुक्रवार को मनाई ...
2
3
'रोजा' रोशनी की लकीर और नेकी की नजीर (मिसाल) है। रमजान का तो हर रोजा खुशहाली का खजाना और पाकीजगी का पैमाना है। रमजान की ...
3
4
गंगा दशहरा हिन्दुओं का प्रमुख त्योहार है। पुराणों के अनुसार गंगा दशहरा के दिन गंगा स्नान का विशेष महत्व है। ज्येष्ठ ...
4
4
5
मां गंगा ज्येष्ठ मास, शुक्ल पक्ष, तिथि दशमी, दिन मंगलवार, हस्त नक्षत्र में पृथ्वी पर अवतरित हुई। पृथ्वी पर आते ही सबको ...
5
6
रमजान माह का पहला अशरा यानी शुरू के दस रोजे रहमत के माने जाते है। शुरुआती दस रोजे किसी दरिया के मानिन्द हैं जिसमें ...
6
7
वर्ष 2018 में गंगा दशहरा का पावन पर्व 24 मई, गुरुवार को मनाया जा रहा है। ज्येष्ठ शुक्ला दशमी को दशहरा कहते हैं।
7
8
छठवां रोजा सब्र और बुलंदी की सीढ़ी है। तो इसका सीधा-सा जवाब है कि मुकम्मल ईमानदारी और अल्लाह की फ़रमाबर्दारी के साथ रखा ...
8
8
9
ज्योतिष गणित में सूक्ष्म विवेचन के बाद अब स्वीकारा जा चुका है कि- जिस चंद्रमास में सूर्य का स्पष्ट गति प्रमाणानुसार ...
9
10
सब मज़हबों ने उपवास (रोजा) का तशबीहात (उपमाओं) से ज़िक्र किया है। मिसाल के तौर पर जैन धर्म में पर्युषण पर्व के उपवास ...
10
11
कोई शख़्स जब नेक नीयत और अच्छे जज़्बे के साथ रोजा रखता है, अल्लाह की रज़ामंदी हासिल करने के लिए रोजा रखता है यह सोचकर रोजा ...
11
12
अल्लाह की रहमत होती है तभी दिल को सुकून मिलता है। दिल के सुकून का ताल्ल़ुक चूंकि नेकी और नेक अमल (सत्कर्म) से है।
12
13
रोजे को समझना सबसे बड़ी बात है। रोजे को समझना यानी रोजे से जुड़े एहतियात बरतना और ग़ुस्से, लालच और हवस पर क़ाबू रखना ही ...
13
14
इस्लाम मज़हब में रोज़ा, मज़हब का सुतून (स्तंभ) भी है और रूह का सुकून भी। रोजा रखना हर मुसलमान पर फ़र्ज़ है।
14
15
पवित्र महीना रमजान शुरू हो गया है। मुस्लिम समुदाय में रमजान की तैयारियां हो गई हैं। रमजान को लेकर बाजार में रोजा इफ्तार ...
15
16
पुरुषोत्तम मास भगवान विष्णु का प्रिय महीना है। इस मास में प्रभु श्रीराम, भगवान कृष्ण और श्रीहरि की उपासना का बहुत अधिक ...
16
17
पौराणिक शास्त्रों के अनुसार हर तीसरे साल पुरुषोत्तम यानी अधिक मास की उत्पत्ति होती है। इस माह उपासना करने का अपना अलग ...
17
18
प्रत्येक राशि, नक्षत्र, करण व चैत्रादि बारह मासों के सभी के स्वामी है, परंतु मलमास का कोई स्वामी नही है। अत: अधिक मास ...
18
19
सावित्री के पति अल्पायु थे, उसी समय देव ऋषि नारद आए और सावित्री से कहने लगे, तुम्हारा पति अल्पायु है।
19