यहूदी धर्म को जानें

प्राचीन धर्मों में से एक

Widgets Magazine

अनिरुद्ध जोशी 'शतायु'
आज से करीब 4000 साल पुराना यहूदी धर्म वर्तमान में का है। दुनिया के प्राचीन धर्मों में से एक यहूदी धर्म से ही और धर्म की उत्पत्ति हुई है। यहूदी एकेश्वरवाद में विश्वास करते हैं। मूर्ति पूजा को इस धर्म में पाप समझा जाता है।

  ND
अब्राहम : यहूदी धर्म की शुरुआत पैगंबर अब्राहम (अबराहम या इब्राहिम) से मानी जाती है, जो ईसा से 2000 वर्ष पूर्व हुए थे। पैगंबर अलै. अब्राहम के पहले बेटे का नाम हजरत इसहाक अलै. और दूसरे का नाम हजरत इस्माईल अलै. था। दोनों के पिता एक थे, किंतु माँ अलग-अलग थीं। हजरत इसहाक की माँ का नाम सराह था और हजरत इस्माईल की माँ हाजरा थीं।

पैगंबर अलै. अब्राहम के पोते का नाम हजरत अलै. याकूब था। याकूब का ही दूसरा नाम इजरायल था। याकूब ने ही यहूदियों की 12 जातियों को मिलाकर एक सम्मिलित राष्ट्र इजरायल बनाया था।

याकूब के एक बेटे का नाम यहूदा (जूदा) था। यहूदा के नाम पर ही उसके वंशज यहूदी कहलाए और उनका धर्म यहूदी धर्म कहलाया। हजरत अब्राहम को यहूदी, मुसलमान और ईसाई तीनों धर्मों के लोग अपना पितामह मानते हैं। आदम से अब्राहम और अब्राहम से मूसा तक यहूदी, ईसाई और इस्लाम सभी के पैगंबर एक ही है किंतु मूसा के बाद यहूदियों को अपने अगले के आने का अब भी इंतजार है।

यहोवा : यहूदी अपने ईश्वर को यहवेह या यहोवा कहते हैं। यहूदी मानते हैं कि सबसे पहले ये नाम ईश्वर ने हजरत मूसा को सुनाया था। ये शब्द ईसाईयों और यहूदियों के के पुराने नियम में कई बार आता है।

धर्मग्रंथ : यहूदियों की धर्मभाषा 'इब्रानी' (हिब्रू) और यहूदी धर्मग्रंथ का नाम 'तनख' है, जो इब्रानी भाषा में लिखा गया है। इसे 'तालमुद' या 'तोरा' भी कहते हैं। असल में ईसाइयों की बाइबिल में इस धर्मग्रंथ को शामिल करके इसे 'पुराना अहदनामा' अर्थात ओल्ड टेस्टामेंट कहते हैं। तनख का रचनाकाल ई.पू. 444 से लेकर ई.पू. 100 के बीच का माना जाता है।

मूसा (मोजेस) : ईसा से लगभग 1,500 वर्ष पूर्व अबराहम के बाद यहूदी इतिहास में सबसे बड़ा नाम 'पैगंबर मूसा' का है। मूसा ही यहूदी जाति के प्रमुख व्यवस्थाकार हैं। मूसा को ही पहले से ही चली आ रही एक परम्परा को स्थापित करने के कारण यहूदी धर्म का संस्थापक माना जाता है।


वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iTunes पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।


Widgets Magazine
Widgets Magazine
Widgets Magazine
news

शनिदेव के 10 सिद्ध नाम का जाप, करें सारे संकट का नाश

शनिश्चरी अमावस्या को शनि के 10 नाम जपने से भारी शनिदोष में भी अत्यंत लाभ मिलता है। यदि ...

news

अजर-अमर पितृभक्त परशुराम की जयंती

परशुराम राम के समय से हैं। उस काल में हैहयवंशीय क्षत्रिय राजाओं का अत्याचार था। राजा ...

news

विशेष मंत्रों से करें शनि की पूजा, जानें पीपल का महत्व...

पीपल वृक्ष को प्राचीनकाल से ही पवित्र माना गया है। ऐसा भी माना जाता है कि पीपल की नियमित ...

news

शनिश्चरी अमावस्या पर करें यह विशेष दान

शनिदेव को काला रंग अतिप्रिय है। उन्हें प्रसन्न करने के लिए काली वस्तुओं का दान करना ...

Widgets Magazine

ज़रूर पढ़ें

एक हजार वर्ष पूर्व रूस में था हिन्दू धर्म?

एक हजार वर्ष पहले रूस ने ईसाई धर्म स्वीकार किया। माना जाता है कि इससे पहले यहां असंगठित रूप से ...

इन 20 चमत्कारिक मंदिरों पर जाने से होगी मुराद पूरी

गुप्तकाल तक को बौद्धकाल माना जा सकता है। बौद्धकाल और गुप्तकाल में कई मंदिरों का निर्माण हुआ। मंदिर ...

चाणक्य नीति : इन 7 को न जगाएं नींद से...

आचार्य चाणक्य कहते हैं कि जीवन को सुखी बनाए रखने के लिए शास्त्रों में कई अचूक नियम दिए गए हैं। अत: ...

नवीनतम

चाणक्य से सीखें जीवन जीने के अचूक मंत्र

इतनी सदियां गुजरने के बाद आज भी यदि चाणक्य के द्वारा बताए गए सिद्धांत और नीतियां प्रासंगिक हैं, तो ...

आप भी जानिए सितंबर 2015 के शुभ-अशुभ योग...

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कार्य-सिद्धि योग सकारात्मक ऊर्जा से सम्‍पन्न होते हैं। इसी कारण किसी भी ...

Widgets Magazine