गर्भावस्था में स्ट्रेच मार्क्स से बचने के 4 आसान तरीके...

महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान स्ट्रेच मार्क्स होना एक आम समस्या है, क्योंकि इस दौरान आपका शरीर बदलता है और उस अवस्था में ढलता है, जो आपके होने वाले शिशु के विकास के लिए जगह दे व उसे आने के लिए अनुकूलता दें। इस दौरान आपका वजन व आकार बढ़ता है। और जब भी आपकी त्वचा अपनी फ्लेक्सिबिलिटी या जरूरत से ज्यादा खिंच जाती है तो त्वचा में मौजूद कोलेजन टिशू कमजोर होकर टूट जाते हैं। इस कारण आपकी त्वचा पर शुरू में गुलाबी या लाल रंग के यानी निशान दिखते हैं, जो बाद में सिल्वर या सफेद लाइन में तब्दील हो जाते हैं जिन्हें ही हम आम भाषा में स्ट्रेच मार्क्स कहते हैं।
स्ट्रेच मार्क्स ज्यादातर गर्भावस्था के दौरान पेट के साथ ही स्तन, जांघों और नितंबों पर दिखाई देते हैं, विशेष रूप से दूसरी और तीसरी तिमाही के दौरान ये दिखते हैं। हालांकि इसके आने के अन्य कारण भी हो सकते हैं, जैसे एकदम से वजन बढ़ जाना या कम हो जाना, आनुवांशिक व हार्मोन रिप्लेसमेंट थैरेपी आदि। स्ट्रेच मार्क्स गर्भावस्था की एक ऐसी छाप हैं, जो किसी भी महिला को पसंद नहीं हैं। लेकिन दुर्भाग्य से 75 से 90 प्रतिशत महिलाओं को मां बनने के सुखद अनुभव को पाने के लिए शरीर पर इन निशानों को झेलना होता है और यह छाप हमेशा के लिए रह जाती है। हालांकि अगर समय रहते ध्यान दिया जाए तो आप इन निशानों को काफी हद तक कम व हल्का कर सकती हैं।
आपको केवल यह सुनिश्चित करना है कि आपकी त्वचा गर्भावस्था के दौरान अपनी फ्लेक्सिबिलिटी बरकरार रख सकें जिससे कि शरीर में होने वाले खिंचाव को वह नियंत्रित कर सके। आइए जानते हैं स्ट्रेच मार्क्स हल्के करने के कुछ तरीके...

1. अपनी त्वचा को नम रखें

आप अपने पेट व अन्य हिस्से, जहां स्ट्रेच मार्क्स होने की आशंका है, की त्वचा को हाइड्रेट करने के लिए किसी भी अच्छे मॉइस्चराइजर का उपयोग करें। नारियल का तेल, कोको बटर, बादाम का तेल, शिया बटर और गेहूं के बीज का तेल त्वचा को मॉइस्चराइज रखने के लिए लोकप्रिय और प्रभावी विकल्प है। इन तेलों में एंटीऑक्सीडेंट्स गुण होते हैं, जो नई त्वचा को बनाने व स्किन को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। आप सुबह नहाने के बाद और रात को सोने से पहले इन मॉइस्चराइज का उपयोग करें। जिस हिस्से में आपको इरिटेशन ज्यादा हो, वहां ज्यादा बार मॉइस्चराइज करें। प्रभावित हिस्से पर अपनी पसंद का तेल लेकर सर्कुलर मोशन में धीरे-धीरे मसाज करें। आप एलोवेरा जेल का उपयोग भी कर सकती हैं। ये आपके स्ट्रेच मार्क्स को कम करने में मदद करता है।
2. अपना वजन संतुलित रखें

स्ट्रेच मार्क्स से बचने का एक और तरीका यह है कि आप अपना वजन नियंत्रित रखें। तेजी से वजन बढ़ने पर त्वचा बहुत ही कम समय में अधिक खिंचा जाती है जिससे खिंचाव के निशान ज्यादा गहरे हो जाते हैं। गर्भावस्था के दौरान बहुत ही कम समय में ही 9 से 12 किलो तक वजन का बढ़ना तो सामान्य है ही, लेकिन कोशिश कीजिए कि इससे ज्यादा वजन न बढ़ने पाए और इतना वजन भी एकदम से न बढ़ते हुए धीरे-धीरे बढ़े। इस समय आपको पहले से थोड़ी ज्यादा कैलोरी लेने की जरूरत होती है। लेकिन यह कैलोरी पौष्टिक खाने से ही आने दे। वजन बढ़ाने के लिए वसा, मीठा व क्रीम खाने की जरूरत नहीं है।
3. व्यायाम

गर्भावस्था के दौरान नियमित रूप से व्यायाम करते रहिए। इससे आपका ब्लड सर्कुलेशन अच्छा रहेगा जिससे कि स्किन का लचीलापन बना रहेगा। व्यायाम व स्ट्रेचिंग से पसीना आता है जिससे आपके शरीर से टॉक्सिन पदार्थ बाहर निकल जाते हैं और आपका वजन भी एकदम से नहीं बढ़ सकेगा जिससे कि आपको गहरे स्ट्रेच मार्क्स से बचने में मदद मिलेगी। अपने डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही आसन आप करें और प्रसूति के बाद भी अपने शरीर की कसावट बरकरार रखने के लिए, स्किन को टोंड रखने व मार्क्स को हल्के करने के लिए आप व्यायाम करना न छोड़ें।
4. हाइड्रेटेड रहिए

चाहे आप गर्भवती हों या न भी हों, लेकिन भरपूर मात्रा में पानी पीते रहना हमेशा ही एक स्वस्थ त्वचा के लिए जरूरी होता है। पानी डिटॉक्सिफिकेशन का काम तो करता ही है, साथ ही आपकी स्किन को भरा-पूरा रखता है व त्वचा में लोच बनाए रखने में मदद करता है। 8 से 10 गिलास पानी तो आपको पूरे दिन में कम से कम पीना ही चाहिए।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

दुर्घटनाएं अमावस्या और पूर्णिमा पर ही क्यों होती है? आइए ...

दुर्घटनाएं अमावस्या और पूर्णिमा पर ही क्यों होती है? आइए जानते हैं यह रहस्य-
पूर्णिमा के दिन मोहक दिखने वाला और अमावस्या पर रात में छुप जाने वाला चांद अनिष्टकारी होता ...

क्या आपका बच्चा भी अंगूठा चूसता है? तो हो जाएं सावधान, जान ...

क्या आपका बच्चा भी अंगूठा चूसता है? तो हो जाएं सावधान, जान लें नुकसान
शायद ऐसा कोई व्यक्ति नहीं होगा, जिसने किसी बच्चे को अंगूठा चूसते हुए कभी न देखा हो। अक्सर ...

यही है वह मौसम जब शरीर का बदलता है तापमान, रहें सावधान, ...

यही है वह मौसम जब शरीर का बदलता है तापमान, रहें सावधान, जानें वजह और बचाव के उपाय
मौसम आ गया है कि आपको चाहे जब लगेगा हल्का बुखार। तो क्या घबराने की कोई बात है? जी नहीं, ...

प्रेशर कुकर में नहीं कड़ाही में पकाएं खाना, जानिए क्यों...

प्रेशर कुकर में नहीं कड़ाही में पकाएं खाना, जानिए क्यों...
अगर आप से पूछा जाए कि प्रेशर कुकर में या कड़ाही खाना बनाना बेहतर है तो आप तुरंत प्रेशर ...

मलाईदार नारियल क्रश, सेहत के यह 8 फायदे पढ़कर रह जाएंगे दंग

मलाईदार नारियल क्रश, सेहत के यह 8 फायदे पढ़कर रह जाएंगे दंग
आजकल मार्केट में नारियल पानी से ज्यादा नारियल क्रश को पसंद किया जा रहा है। इसकी बड़ी वजह ...

क्या आपको भी होती है एसिडिटी, जानिए प्रमुख कारण और बचाव

क्या आपको भी होती है एसिडिटी, जानिए प्रमुख कारण और बचाव
मिर्च-मसाले वाले पदार्थ अधिक सेवन करने से एसिडिटी होती है। इसके अतिरिक्त कई कारण हैं ...

देवताओं की रात्रि प्रारंभ, क्यों नहीं होते शुभ कार्य कर्क ...

देवताओं की रात्रि प्रारंभ, क्यों नहीं होते शुभ कार्य कर्क संक्रांति में...
कर्क संक्रांति में नकारात्मक शक्तियां प्रभावी होती हैं और अच्छी और शुभ शक्तियां क्षीण हो ...

लिपबाम के फायदे जानते हैं और इसे लगाते हैं, तो इसके नुकसान ...

लिपबाम के फायदे जानते हैं और इसे लगाते हैं, तो इसके नुकसान भी जरूर जान लें
लिप बाम सौंदर्य प्रसाधन में आज एक ऐसा प्रोडक्ट बन चुका है, जिसके बिना किसी लड़की व महिला ...

सूर्य कर्क संक्रांति आरंभ, क्या सच में सोने चले जाएंगे सारे ...

सूर्य कर्क संक्रांति आरंभ, क्या सच में सोने चले जाएंगे सारे देवता... पढ़ें पौराणिक महत्व और 11 खास बातें
सूर्यदेव ने कर्क राशि में प्रवेश कर लिया है। सूर्य के कर्क में प्रवेश करने के कारण ही इसे ...

यदि आप निरोग रहना चाहते हैं, तो पढ़ें यह चमत्कारिक मंत्र

यदि आप निरोग रहना चाहते हैं, तो पढ़ें यह चमत्कारिक मंत्र
भागदौड़ भरी जिंदगी में आजकल सभी परेशान है, कोई पैसे को लेकर तो कोई सेहत को लेकर। यदि आप ...