'कवि मंच अब कपि मंच बन गया है'

ND

हिंदी के सुप्रसिद्घ मानते हैं कि कवि मंच अब पहले जैसा कवि मंच नहीं रह गया बल्कि कपि (बंदर) मंच बन गया है। उनका कहना है कि फिल्मों में भी गीत और गीतकार के सुनहरे दिन बीत गए हैं।

नीरज से बात करें तो वे किसी मुद्दे को शिक्षक की तरह समझाने लगते हैं। उनसे कविता और गीतों पर बात करते-करते लगेगा कि आप किसी दार्शनिक से बात कर रहे हैं।

जब तक आप नीरज के शिक्षक, गीतकार और दार्शनिक रूप को पकड़ने की कोशिश करेंगे, नीरज आपसे ज्योतिष के गूढ़ मुद्दों पर साधिकार बात करने लगेंगे।

82 साल के पद्मश्री नीरज कवि हैं, फिल्मी गीतकार हैं, दार्शनिक हैं, ज्योतिष के विद्वान हैं और प्राध्यापक तो वे रहे ही हैं। पिछले दिनों जब वे छत्तीसगढ़ आए तो आलोक प्रकाश पुतुल ने उनसे बातचीत की।
  हिंदी के सुप्रसिद्घ गीतकार गोपालदास नीरज मानते हैं कि कवि मंच अब पहले जैसा कवि मंच नहीं रह गया बल्कि कपि (बंदर) मंच बन गया है। उनका कहना है कि फिल्मों में भी गीत और गीतकार के सुनहरे दिन बीत गए हैं।      


* उम्र के जिस पड़ाव पर आप हैं, वहाँ कई बार अपने अतीत का सब कुछ व्यर्थ जान पड़ता है। आप अपने अतीत को किस तरह देखते हैं?
- सब कुछ व्यर्थ होने के बीच ही मैंने अपनी आँखें खोली हैं। मैंने बचपन से ही पीड़ा झेली है। छह साल की उम्र में पिताजी गुजर गए। पढ़ने के लिए मुझे बुआ के घर भेजा गया। पिता, माँ, बहन और भाइयों के प्यार से वंचित मैं दुख और अभाव में ही पला-बढ़ा। जीवन का एक बड़ा हिस्सा दुख और अभाव से ही लड़ते हुए गुजर गया। कई-कई बार एक-एक जून के खाने के लिए सोचना पड़ता था। फिर मैंने दुख से ही दोस्ती कर ली।

लेकिन बेहतर की उम्मीद कभी नहीं छोड़ी। आज भी नहीं। आज भी वही हाल है। हाँ, सब तरफ भ्रष्टाचार देख-देखकर मन में आक्रोश जरूर पैदा होता है।

* आप प्रेम, करुणा, पीड़ा के साथ-साथ विद्रोह के भी कवि माने जाते हैं। इनकी व्याख्या आप किस तरह करेंगे?
-ये सब तो जीवन के अनुभव हैं और इन सबने मुझे माँजा है। बचपन से ही जो पीड़ा और अकेलापन मैंने भोगा, वही मेरी रचनाओं में आया। पीड़ा और अकेलेपन ने कभी तो मुझमें करुणा उपजाई और कभी गहरे तक विद्रोह से भी भर दिया।

WD|
- (आलोक प्रकाश पुतुल, बिलासपुर)
जीवन भर प्रेम की तलाश में भटकता रहा। प्रेम के दौर में ही मैंने अपनी श्रेष्ठ रचनाएँ लिखीं। फिर प्रेम में असफलता मिली तो अध्यात्म की ओर गया। स्वामी मुक्तानंद से लेकर आचार्य रजनीश तक के संपर्क में रहा।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

पीरियड में यह 5 काम भूल कर भी न करें वरना....

पीरियड में यह 5 काम भूल कर भी न करें वरना....
आपका पहला पीरियड हो या अनगिनत बार आ चुके हों, इन्हें झेलना इतना आसान नहीं। मुश्किलभरे उन ...

6 बहुत जरूरी सवाल जो हर महिला को अपनी गायनोकोलॉजिस्ट से ...

6 बहुत जरूरी सवाल जो हर महिला को अपनी गायनोकोलॉजिस्ट से पूछना चाहिए
क्या आप उन लोगों में से हैं जिन्होंने कभी एक लेडी डॉक्टर से मिलने की जरूरत नहीं समझी? आप ...

3 स्वर, 3 नाड़ियां... जीवन और सेह‍त दोनों को बनाते हैं शुभ, ...

3 स्वर, 3 नाड़ियां... जीवन और सेह‍त दोनों को बनाते हैं शुभ, जानिए क्या है स्वरोदय विज्ञान
स्वर विज्ञान को जानने वाला कभी भी विपरीत परिस्थितियों में नहीं फंसता और फंस भी जाए तो ...

घर में रोशनी कम रहती है तो यह हो सकता है खतरनाक, पढ़ें रोशनी ...

घर में रोशनी कम रहती है तो यह हो सकता है खतरनाक, पढ़ें रोशनी बढ़ाने के 5 टिप्स
घर या कमरे में कम रोशनी न केवल घर की सजावट को कम करती है बल्कि रहने वाले सदस्यों की सेहत ...

बदल डालें घर का इंटीरियर और नए घर में रहने जैसा अहसास ...

बदल डालें घर का इंटीरियर और नए घर में रहने जैसा अहसास पाएं...
घर में सारा सामान सुव्यवस्थित जमा हुआ है फिर भी कुछ कमी लगती है? किसी नएपन के अहसास की ...

हिन्दी निबंध : क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद

हिन्दी निबंध : क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद
चंद्रशेखर आजाद का जन्म 23 जुलाई, 1906 को मध्यप्रदेश के झाबुआ जिले के भाबरा नामक स्थान पर ...

स्वतंत्रता संग्राम के महानायक चंद्रशेखर आजाद की जयंती

स्वतंत्रता संग्राम के महानायक चंद्रशेखर आजाद की जयंती
भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के महानायक आजाद 1920-21 के वर्षों में गांधीजी के असहयोग आंदोलन ...

सोशल मीडिया पर इन गलतियों से बचें

सोशल मीडिया पर इन गलतियों से बचें
सोशल मीडिया के सभी प्लेटफार्म अपनी अलग-अलग खूबियां रखते हैं। उन सबका उद्देश्य भी अलग-अलग ...

अमेरिका में रह रहे सिखों के लिए खुशखबर, न्यूयॉर्क के ...

अमेरिका में रह रहे सिखों के लिए खुशखबर, न्यूयॉर्क के स्कूलों में सिख धर्म के बारे में होगी पढ़ाई
न्यूयॉर्क। अमेरिका में 70 प्रतिशत से ज्यादा नागरिकों को सिख धर्म की जानकारी नहीं होने के ...

जिम में 'आपका' वजन कम हो रहा है या 'जेब' का, फिटनेस का शौक ...

जिम में 'आपका' वजन कम हो रहा है या 'जेब' का, फिटनेस का शौक है तो एक नजर इस पर जरूर डालें
ज्यादातर लोग जिम का भरपूर फायदा नहीं उठा पाते। कारण होता है गलत जिम का चुनाव। सवाल है ...