फनी जोक : समानता

मोबाइल और बीबी में क्या समानता है? दोनों नए-नए अच्छे लगते हैं। दोनों दूसरे के अच्छे लगते हैं।

Widgets Magazine

आपका कद

पारिवारिक मिलन में वर्षों बाद आपकी भेंट आपके दूर-दराज की मौसी से होती है...

अंडा किस देश का होगा...

सवाल- एक मुर्गे ने दो देशों की सीमा पर अंडा दिया। वह अंडा किस देश का होगा? ....

व्हॉट का मतलब...

व्हॉट का मतलब क्या होता

आदमी शराब क्यों पीता है?

आदमी शराब क्यों पीता है? .... पेट के कीड़े मारने के लिए।

शोएब व सानिया

शोएब व सानिया अपने वैवाहिक जीवन में मीडिया की दखलंदाजी से परेशान है। दोनों को चाहिए कि दूल्हा-दुल्हन के लिबास छोड़ कर अपनी-अपनी खेल वाली ड्रेस ...

ट्रैफिक जाम

ट्रैफिक जाम अच्छा हैं यदि लुटेरे और डकै‍त उनमें फँसकर पकड़े जाएँ।

कचरे का‍ डिब्बा

ताज्जुब की बात है कि लोग सुपारी के बदले में कत्ल कर देते हैं।

इंसान

इंसान का इंसान पर से भरोसा उठ गया है। (जिसमें वह खुद भी शामिल है)

यमराज

जब तक मरीज अस्पताल में जिंदा रहता है तब तक डॉक्टर भगवान लगता है। मरीज के मरते ही वही डॉक्टर यमराज लगने लगता है।

नकली कीटनाशक

नकली कीटनाशकों की वजह से लाखों कीटों की जान बच गई और उन्होंने दवा बेचने वालों को थैंक्यू तक नहीं कहा। क्योंकि कीटनाशक बिना बिल के खरीदा गया था ...

चिल्लर की कमी

देश में चिल्लर की कमी से निबटा जा सकता है अगर सरकार ग्यारह, बारह एवं पंद्रह रुपए के नोट भी छापने लगे।

पॉलिटिक्स

पॉलिटिक्स में जिधर नजर उठाकर देखो कचरा ही कचरा है। यह कचरा कभी कम नहीं होता क्योंकि यहाँ कोई कचरे का ‍िडब्बा ही नहीं है।

फेंके गए जूते

नामचीन नेताओं पर फेंके गए जूते कभी कचरे के डिब्बे का मुँह नहीं देखेंगे क्योंकि उन्हें तो म्युजियम में रखा जाएगा।

जेड प्लस सुरक्षा

जेड प्लस सुरक्षा को ही सबसे अच्छी सुरक्षा क्यों माना जाता है। ए- प्लस को क्यों नहीं? क्योंकि सबसे अच्छी ए-प्लस सुरक्षा सरकार दे ही नहीं ...

बदलती कहावत...

'नेकी कर दरिया में डाल' कहावत को अब बदलकर 'नेकी कर कचरे में डाल' कर देना चाहिए। आदमी के पास पीने को पानी नहीं है, दरिया कहाँ से आएगा।

कबाड़ा सेंटर का विज्ञापन

एक विज्ञापन हिन्दुस्तान कबाड़ा सेंटर की ओर से.... कबाड़ा दुकान एसोसिएशन में अपना नाम दर्ज करवाइए तथा बी टू बी केटेगरी के अंतर्गत अपने माल ...

न्यायाधीश को पत्र....

अपराधियों ने न्यायाधीशों की कमी के कारण अदालतों में लंबित फैसलों पर रोष जताया। उन्होंने माँग की कि उन पर वर्षों से लंबित मुकदमों का तुरंत ...

हवा...

आजकल हवा किधर बह रही है? फूल्ली फालतू जवाब - आजकल हवा मंदिरों की और बह रही है।

Widgets Magazine

जरूर पढ़ें

पीके : फिल्म समीक्षा

पीके फिल्म समीक्षा- आमिर खान और राजकुमार हिरानी एक बार फिर 'पीके' के रूप में बेहतरीन फिल्म लेकर आए ...

अलोन की कहानी

अलोन की कहानी घुमती है संजना (बिपाशा बसु) और कबीर (करण सिंह ग्रोवर) के इर्दगिर्द। दोनों की शादी को ...

पीके की स्पेशल स्क्रीनिंग (फोटो)

पीके देखने की उत्सुकता आम आदमी के साथ खास लोगों के बीच भी है। आमिर खान ने अपने कुछ चुनिंदा नजदीकी ...

Widgets Magazine

नवीनतम

ओम पुरी के साथ बोल्ड सीन करना मुश्किल था : मल्लिका शेरावत

मल्लिका शेरावत फिल्म में हों और बोल्ड सीन न हो ऐसा भला कैसे हो सकता है। मल्लिका की अरसे बाद 'डर्टी ...

बॉलीवुड 2014 : अभिनेताओं का स्कोरकार्ड

बॉलीवुड 2014 में कुछ अभिनेताओं के लिए बेहतरीन तो कुछ के लिए खास साबित नहीं हुआ। सलमान, शाहरुख और ...