तिपिटक में संग्रहित है बुद्धवाणी



* में संपादित हैं 84,000 बुद्ध उपदेश...

तिपिटक में मुख्यतया भगवान बुद्ध की धर्मवाणी संग्रहित है, जो साधारणतया मानव मात्र के लिए और विशेषतया विपश्यी साधकों के लिए प्रभूत पावन प्रेरणा और महामांगलिक मार्गदर्शन लिए हुए है। संपूर्ण तिपिटक में 84,000 धर्म शिक्षापद (धर्म स्कंध) हैं जिनमें 82,000 भगवान बुद्ध के और 2,000 उन भिक्षुओं के हैं, जो भगवान के परम शिष्य थे।

महास्थविर आनंद ने कहा है- मैंने 82,000 उपदेश भगवान से ग्रहण किए हैं और 2,000 भिक्षुओं से। इस प्रकार मुझे 84,000 उपदेश याद हैं, जो मुझे धर्म की ओर प्रवृत्त करते हैं।
- भिक्षुओं की वाणी में भी भगवान की वाणी ही समाई हुई है। उन्होंने जो कुछ कहा, भगवान से सीखकर ही कहा। इस विषय में आयुष्मान उत्तर का कथन है- हे देवेन्द्र जो सुभाषित हैं, वे सब उन भगवान अरहंत सम्यक संबुद्ध के हैं। उन्हीं से ले-लेकर हम तथा अन्य बोलते हैं।

- उन्होंने जो कुछ भगवान से सुना, सीखा और अपने अनुभव पर उतारा, वही कहा। जिस प्रकार भगवान तथागत 'यथावादी तथा कारी' थे, वैसे ही उनके ये प्रबुद्ध शिष्य भी थे। इसलिए इन संतों की वाणी भी बुद्ध वाणी के सदृश्य ही अत्यंत गरिमामयी है। स्वयं अनुभूत सत्य वाणी है अतः सारे तिपिटक को बुद्ध-वाणी कहना समीचीन ही है।
तिपिटक का संपादन, संगायन : तथागत द्वारा उपदेशित सद्धर्म को शुद्ध रूप में चिरस्थायी रखने के लिए स्वयं तथागत ने यह आदेश दिया था- ...जिन धर्मों को मैंने स्वयं अभिज्ञात करके तुम्हें उपदेशित किया है, तुम सब मिल-जुलकर बिना विवाद किए अर्थ और व्यंजन सहित उनका संगायन करो जिससे कि यह धर्माचरण चिरस्थायी हो...।

अतः भगवान बुद्ध के महापरिनिर्वाण के पश्चात देर-सबेर बुद्ध-वाणी का संपादन, संगायन तो होता ही, परंतु उसे इतना शीघ्र आयोजित किए जाने का एक विशेष कारण उपस्थित हुआ।
वृद्धावस्था में प्रवजित हुए एक नए भिक्षु सुभद्र ने अपनी बाल बुद्धि के कारण भगवान के महापरिनिर्वाण की सूचना पाने पर हर्ष प्रकट करते हुए यह घोर अमांगलिक घोषणा की।

ALSO READ:
बौद्ध धर्म के गौतम बुद्ध का जीवन दर्शन


-हम बिलकुल मुक्त हो गए उन महाश्रमण से। उनके ऐसे आदेशों से सदा पीड़ित रहा करते थे कि 'यह उचित है, यह अनुचित है।' अब हमारी जो इच्छा होगी वह करेंगे, जो इच्छा नहीं होगी वह नहीं करेंगे। कीचड़ में से कमल की भांति कभी-कभी घोर अमंगल में से भी महामंगल का प्रादुर्भाव हो जाता है यही हुआ।
सुदूरदर्शी महास्थविर महाकश्यप ने भिक्षु सुभद्र के इन अभद्र शब्दों को सुनकर तत्क्षण यह निर्णय किया कि लोक कल्याणार्थ बुद्धवाणी को चिरकाल तक अविकल रूप में सुरक्षित रखने के लिए शीघ्र ही संगायन का आयोजन करना चाहिए अन्यथा इस प्रकार के अपरिपक्व स्वार्थी लोग इसमें से अपनी अनचाही बातें निकाल देंगे और मनचाही जोड़ देंगे।

इसलिए उन्होंने हम पर अनुकंपा करके पांच सौ सत्य साक्षी महास्थविरों को एकत्र कर तीन महीने के भीतर ही राजग्रह में प्रथम संगायन का आयोजन किया जिसमें सारी बुद्धवाणी अपने शुद्ध रूप में संपादित एवं संग्रहित की गई।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

अत्यंत आश्चर्यजनक है श्री घंटाकर्ण यंत्र, जानिए कैसे करें ...

अत्यंत आश्चर्यजनक है श्री घंटाकर्ण यंत्र, जानिए कैसे करें पूजन
श्री घंटाकर्ण यंत्र अति विशिष्ट एवं प्रभावशाली है, जो वर्तमान में अन्य किसी पुस्तक में ...

गंगा में विसर्जित अस्थियां कहां गायब हो जाती हैं?

गंगा में विसर्जित अस्थियां कहां गायब हो जाती हैं?
हिन्दू धर्म में व्यक्ति को समाधी देने या दाह संस्कार दोनों की ही परंपरा है, जो कि शास्त्र ...

करोड़ों खर्च लेकिन फिर भी गंगा मैली की मैली, कौन है ...

करोड़ों खर्च लेकिन फिर भी गंगा मैली की मैली, कौन है गुनाहगार...
गंगा भारत की सबसे महत्वपूर्ण नदी है और इसका धार्मिक महत्व भी बहुत अधिक है। कहते है कि ...

किस दिशा में प्राप्त होगी सफलता, जानिए अपनी कुंडली से...

किस दिशा में प्राप्त होगी सफलता, जानिए अपनी कुंडली से...
अक्सर अपनी जन्म पत्रिका का परीक्षण करवाते समय लोगों का प्रश्न होता है कि किस दिशा में ...

कर्मकांड करवाने वाले आचार्य व पुरोहित कैसे हो, आप भी ...

कर्मकांड करवाने वाले आचार्य व पुरोहित कैसे हो, आप भी जानिए...
कर्मकांड हमारी सनातन संस्कृति का अभिन्न अंग है। बिना पूजा-पाठ व कर्मकांड के कोई भी हिन्दू ...

अप्सरा मेनका ने क्यों छोड़ दिया था विश्वामित्र को?

अप्सरा मेनका ने क्यों छोड़ दिया था विश्वामित्र को?
विश्वामित्र वैदिक काल के विख्यात ऋषि थे। उनके ही काल में ऋषि वशिष्ठ थे जिसने उनकी अड़ी ...

खुलासा, इन पांच में से इस स्त्री के कारण हुआ था महाभारत का ...

खुलासा, इन पांच में से इस स्त्री के कारण हुआ था महाभारत का युद्ध?
आम धारणा है कि जर, जोरू और जमीन के लिए ही युद्ध होते रहे हैं। महाभारत में भूमि बंटवारा ...

पुण्य फलदायी है मोहिनी एकादशी, पढ़ें पौराणिक व्रतकथा, आरती ...

पुण्य फलदायी है मोहिनी एकादशी, पढ़ें पौराणिक व्रतकथा, आरती एवं महत्व
वैशाख मास में जो एकादशी आती है उसका नाम मोहिनी एकादशी है। इसका व्रत करने से मनुष्य सब ...

यह है भगवान नृसिंह के रौद्र अवतार की पौराणिक कथा

यह है भगवान नृसिंह के रौद्र अवतार की पौराणिक कथा
हिरण्यकशिपु का शासन बहुत कठोर था। देव-दानव सभी उसके चरणों की वंदना में रत रहते थे। भगवान ...

इस एकादशी पर करें ये 3 उपाय, शीघ्र होगा आपका विवाह...

इस एकादशी पर करें ये 3 उपाय, शीघ्र होगा आपका विवाह...
धार्मिक शास्त्रों के अनुसार एकादशी के व्रत-उपवास का बहुत महत्व है।जिन लोगों की शादी नहीं ...

राशिफल