वो जगह जहां महिलाओं को मछली से रिझाते हैं पुरुष

पुनः संशोधित सोमवार, 6 अगस्त 2018 (11:07 IST)
सेक्स, यानी बनाना- दुनिया का सबसे प्राचीन और सार्वभौमिक चलन है। लेकिन दुनिया के अलग-अलग देशों में करने के तरीकों में काफ़ी विविधता है। बीबीसी के एक कार्यक्रम 'क्रॉसिंग कॉन्टिनेंट' ने इस पर शोध किया और पता लगाया कि दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में संबंध बनाने के लिए लोग क्या-क्या करते हैं।

पारंपरिक रूप से हवाई के मूलनिवासी अपने निजी अंगों की पूजा करते रहे हैं। ये लोग अपने निजी अंगों के 'प्यारे-प्यारे' नाम रखते आए हैं। लेकिन ये रस्म सिर्फ़ नाम रखने तक सीमित नहीं है। शाही परिवारों से लेकर आम लोगों तक, सभी अपने निजी अंगों के बारे में गीत भी लिखते हैं। इन गीतों में निजी अंगों के बारे में विस्तार से बताया गया होता है।


डॉक्टर मिल्टन डायमंड उन हवाई मूलनिवासियों के विशेषज्ञ हैं जिनसे बाहरी दुनिया का संपर्क नहीं हुआ था। उन्होंने बताया कि लिलि यूकूलानि नाम की रानी ने अपने निजी अंग का नाम 'फ़्रिस्की' रखा था।

जापान के लोग कम सेक्स करते हैं
जापान में शिशु जन्म दर गिर रही है। सिर्फ़ यही नहीं, जापान में कंडोम का इस्तेमाल भी तेज़ी से कम हुआ है। यहाँ गर्भ निरोधक गोलियाँ, गर्भपात और यौन रोग की शिक़ायतों में भी गिरावट दर्ज की जा रही है।


जापान के परिवार नियोजन एसोसिएशन के प्रमुख कूनियो कीटामूरा कहते हैं कि इसका सिर्फ़ एक ही कारण है कि जापानी लोग कम सेक्स कर रहे हैं। एक ताज़ा शोध में बताया गया है कि यहां सेक्स के बिना वैवाहिक जीवन बिता रहे जोड़ों की तादाद रिकॉर्ड स्तर पर बढ़ी है।

जापान के एक तिहाई पुरुषों का कहना है कि वो इतने थके हुए होते हैं कि सेक्स नहीं कर पाते। वहीं जापान की एक चौथाई महिलाओं का कहना है कि उन्हें सेक्स परेशानी और दर्द भरा लगता है।


18 से 34 साल के बीच के लोगों के बीच किए गए एक और शोध में बताया गया है कि बीते एक दशक में यहाँ वर्जिनिटी बहुत ज़्यादा बढ़ी है। शोध में शामिल 45 फ़ीसदी जापानियों का कहना था कि उन्होंने कभी सेक्स किया ही नहीं है।

बच्चों को ना कह रही हैं दक्षिण कोरियाई महिलाएं
दक्षिण कोरिया में हर महिला औसतन 1.05 बच्चे पैदा करती है। लेकिन देश की जनसंख्या को स्थिर रखने के लिए प्रति महिला 2.10 बच्चों की जन्म दर बरक़रार रखना ज़रूरी है, जो कि मौजूदा दर से दोगुना है।


दक्षिण कोरिया की सरकार महिलाओं को बच्चे पैदा करने के लिए प्रेरित कर रही है। इसके लिए सरकार ने बीते एक दशक में दसियों अरब डॉलर ख़र्च किए हैं। लेकिन जन्म दर में गिरावट जारी है।

माना जा रहा है कि इसकी वजह दक्षिण कोरिया में रिहाइशी इलाक़ों की बेतहाशा बढ़ती क़ीमतें और बच्चों पर होने वाला ख़र्च भी हो सकता है। इसकी एक वजह ये भी हो सकती है कि दक्षिण कोरिया में लोगों को बहुत ज़्यादा काम करना पड़ता है।


बच्चों की देखभाल की ज़िम्मेदारी अभी भी औरतों पर ही है। बच्चे पैदा करने वाली महिलाओं को दोगुना काम करना पड़ता है। शायद यही वजह है कि महिलाओं ने अब बच्चों को ना कहना शुरू कर दिया है क्योंकि बच्चे पैदा करने का मतलब हमेशा के लिए अपने करियर को त्याग देना भी होता है।

रूस में होता है गर्भाधारण दिवस
रूस के एक इलाक़े में जनसंख्या बढ़ाने का पुराना तरीका अपनाया जा रहा है। उल्यानोवस्क प्रांत के गवर्नर ने 12 सितंबर को आधिकारिक तौर पर गर्भाधारण दिवस घोषित कर दिया है।


इस दिन लोगों को छुट्टी दी जाती है ताकि वो घर पर रह कर सेक्स कर सकें। जन्म दर बढ़ाने के लिए ये सरकार की एक योजना का हिस्सा है। जो दंपति 12 सितंबर से नौ महीने बाद बच्चा पैदा कर पाते हैं, उन्हें कैमरा, फ़्रिज और वॉशिंगमशीन जैसे ईनाम दिए जाते हैं।

महिलाओं को मछली से रिझाते हैं पुरुष
सेंट्रल ब्राज़ील के एक छोटे से गाँव मेहीनाकू में पुरुष महिलाओं को मछलियों से रिझाते हैं। जो पुरुष सबसे बड़ी मछली पकड़कर लाता है उसे ही महिला का प्यार मिल पाता है। इसके लिए पुरुष मछली पकड़ने की ख़ास प्रतियोगिता में भी शामिल होते हैं।


ऑस्ट्रिया में सेब का किस्सा
ऑस्ट्रिया के एक ग्रामीण इलाक़े में महिलाएँ अपनी बगल में सेब के टुकड़े रखकर पारंपरिक नृत्य में हिस्सा लेती हैं। नृत्य के बाद महिलाएँ अपनी पसंद के पुरुष को अपनी बगल में रखा सेब का वो टुकड़ा पेश करती हैं। और यदि पुरुष भी महिला को पसंद कर लेता है तो वो उस सेब के टुकड़े को खा लेता है। ज़ाहिर है कि सेब का ये टुकड़ा बहुत ख़ुशबूदार नहीं होता।

पुरुष को गिराकर सेक्स
कोलंबिया में एक समुदाय है जहाँ डांस फ़्लोर पर अनाड़ी होना, कुछ लोगों को सेक्स में खिलाड़ी साबित कर देता है। गुआज़ीरो समुदाय में एक विशेष नृत्य आयोजित किया जाता है। इस दौरान अगर कोई महिला किसी पुरुष को गिराने में क़ामयाब हो जाती है तो दोनों को सेक्स करना पड़ता है।


छुट्टियों पर बच्चे पैदा करते हैं निवासी
स्पाइस ट्रेवल्स नाम की एक कंपनी के शोध में पता चला है कि डेनमार्क के लोग सबसे ज़्यादा सेक्स छुट्टियों के दौरान करते हैं। छुट्टियों पर वो औसत से 46 प्रतिशत अधिक सेक्स करते हैं।

यही नहीं शोध के अनुसार डेनमार्क के 10 प्रतिशत बच्चों का गर्भधारण घर से बाहर, छुट्टियों के दौरान ही हुआ है। साल 2014 में इस कंपनी ने घर से बाहर गर्भधारण करने वाले दंपतियों के लिए एक विशेष ऑफ़र दिया था। छुट्टियों के दौरान गर्भाधारण करने वाले दंपतियों को 3 साल तक बच्चों से जुड़े उत्पाद मुफ़्त मुहैया कराये गए थे।


यूनानी करते हैं सबसे ज़्यादा सेक्स
कंडोम निर्माता डूरेक्स की ओर से किए गए एक सर्वेक्षण में पता चला है कि ग्रीस के लोग दुनिया में सबसे ज़्यादा सेक्स करते हैं। 26 देशों के 16 साल से अधिक उम्र के 30,000 से अधिक लोगों पर किये गए एक सर्वे में पता चला है कि सेक्स करने के मामले में ग्रीस के लोग सबसे आगे हैं।

वो एक साल में औसतन 164 बार सेक्स करते हैं। उनकी विरासत भी इसका एक कारण हो सकती है। प्राचीन काल में यूनानियों के विचार सेक्स को लेकर बेहद खुले थे। वो इसे लेकर सहिष्णु और प्रयोगात्मक भी रहे हैं।

विज्ञापन

और भी पढ़ें :