ज्योतिष के अनुसार जानें, ग्रहों की विविध दृष्टियां


में ग्रहों की दृष्टियां होती हैं। प्रत्येक की सप्तम् दृष्टि को पूर्ण दृष्टि माना गया है लेकिन कुछ ग्रहों की विशेष दृष्टियां भी होती हैं। आईए जानते हैं कि नवग्रहों की दृष्टियां कैसी होती हैं।
 
- सूर्य, चन्द्र, की सप्तम् दृष्टि को पूर्ण दृष्टि माना गया है अर्थात् यह ग्रह जिस भाव में स्थित होंगे वहां  से सप्तम् भाव पर अपनी पूर्ण दृष्टि डालेंगे।
 
- शनि की सप्तम् के अतिरिक्त तृतीय व दशम् दृष्टि को पूर्ण दृष्टि माना गया है अर्थात् शनि जिस भाव में स्थित हैं वहां से सप्तम्, तृतीय व दशम् भाव पर अपनी पूर्ण दृष्टि डालेंगे।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine

और भी पढ़ें :