बस, इस एक प्रार्थना से प्रभावशाली बनता है व्यक्तित्व, चमकता है ओरा

अपने प्रभामंडल/ आभामंडल/ओरा को दिव्य, चमकदार, उन्नत तथा सदैव सकारात्मकता की ओर अग्रसर करने हेतु यह प्रार्थना आश्चर्यजनक रूप से असरकारी है। एक बार आजमा कर देखें...

प्रत्येक दिन सायं 7.30 बजे एक मोमबत्ती या दीपक जहां भी हो, जला लें। अकेले अथवा सामूहिक रूप से उसके सामने निम्न प्रार्थना करें : -

वयं हवनं करिष्यामहे। अस्मात्‌ अतिलोभं हर। दोषान्‌ स्मरामि। त्वां शरणं प्रपद्ये। गुणान्‌ स्मरामि। त्वां शरणं प्रपद्ये। आत्मज्ञानाय च। त्वां शरणं प्रपद्ये। प्रकाश गुणवान भव। शक्ति गुणवान भव। शांति गुणवान भव।
अर्थात्- हे प्रकाशमित्र, जिस पर हम एकाग्र होते हैं, उसके गुण हमारे शरीर में गुणित होते हैं। पांच विज्ञान शाखाओं से यही प्रमाण प्राप्त होते हैं। इसलिए मैं तुम्हारे सामर्थ्य पर एकाग्र हो रहा हूं!

हे विद्युतपुत्र, मेरी महत्वाकांक्षा पूरी करते समय दूसरों का कल्याण करना, यह मुझे अधिक लाभ देगा! इस श्रेष्ठ शक्तिदान और समता की एकता, केवल तुम में ही है। इसलिए, मैं तुम्हारे सामर्थ्य पर एकाग्र होकर शक्ति मांग रहा हूं!

हे प्रकाशपिता सूर्य, सविता से प्राप्त हुई प्रकाशपुंज शक्ति, जो कि आभास्वरूप प्रकट हो दूसरों को प्राप्त होती है, इस तत्व को स्मरण तथा स्वीकार कर रहा हूं! हे तेजश्रेष्ठा, जैसे आप मुझे देते हैं, वैसे ही मैं भी लोगों को दूंगा। कम से कम जानकारी ही सही!

हे तेजस्वी तमांत, तू आदित्य है, प्रभाकर है, दिवाकर है! तुम्हारे मार्तंड रूप से मैं आंतरबाह्य शुद्ध हो रहा हूं! सविता शक्ति से मेरे अवगुण कम हो रहे हैं।

हे लोकबंधु! प्रकाशपते, मेरी सभी कामनाएं, तुम्हारे चक्र काल में पूरी हो जाएं। मैं, मेरे बच्चों का, परिवार का, देश का और विश्व का कल्याण चाहता हूं। इसका मुझे पूरा विश्वास है कि नियमानुसार यह सब हो जाएगा! यही आश्वासन मैं मुझे दे रहा हूं। तथास्तु! तथास्तु! तथास्तु!

प्रतिदिन सायं 7.30 बजे व्यक्ति-विशेष के के चुम्बकीय चक्र में जहां-जहां ऋणात्मक धब्बे होते हैं वहां-वहां एक खास स्थान बन जाता है। उस वक्त अगर अग्नि तत्व के साथ रहा जाए तो उन स्थानों में सकारात्मकता लाई जा सकती है।


Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

राशिफल

अतिथि देवो भव:, जानिए अतिथि को देवता क्यों मानते हैं?

अतिथि देवो भव:, जानिए अतिथि को देवता क्यों मानते हैं?
अतिथि कौन? वेदों में कहा गया है कि अतिथि देवो भव: अर्थात अतिथि देवतास्वरूप होता है। अतिथि ...

यह रोग हो सकता है आपको, जानिए 12 राशि अनुसार

यह रोग हो सकता है आपको, जानिए 12 राशि अनुसार
12 राशियां स्वभावत: जिन-जिन रोगों को उत्पन्न करती हैं, वे इस प्रकार हैं-

वास्तु : खुशियों के लिए जरूरी हैं यह 10 काम की बातें

वास्तु : खुशियों के लिए जरूरी हैं यह 10 काम की बातें
रोजमर्रा में हम ऐसी गलतियां करते हैं जो वास्तु के अनुसार सही नहीं होती। आइए जानते हैं कुछ ...

कैसे करें गर्भाधान संस्कार, पढ़ें ज्योतिषीय जानकारी...

कैसे करें गर्भाधान संस्कार, पढ़ें ज्योतिषीय जानकारी...
श्रेष्ठ संतान के जन्म के लिए आवश्यक है कि 'गर्भाधान' संस्कार श्रेष्ठ मुहूर्त में किया ...

शुक्र आया अपनी राशि में, क्या होगा 12 राशियों के जीवन पर

शुक्र आया अपनी राशि में, क्या होगा 12 राशियों के जीवन पर असर
कला, धन, सौन्दर्य के कारक ग्रह शुक्र ने 20 अप्रैल, शुक्रवार को सुबह 2 बजे वृषभ राशि में ...

ऐसे मनाएं श्री नृसिंह जयंती-उत्सव, पाएं शक्ति और पराक्रम

ऐसे मनाएं श्री नृसिंह जयंती-उत्सव, पाएं शक्ति और पराक्रम
भगवान श्री नृसिंह शक्ति तथा पराक्रम के प्रमुख देवता हैं। वैशाख महीने के शुक्ल पक्ष की ...

नृसिंह जयंती 28 अप्रैल को, जानिए क्या करें इस दिन

नृसिंह जयंती 28 अप्रैल को, जानिए क्या करें इस दिन
भक्त प्रह्लाद की रक्षा करने के लिए भगवान विष्णु ने नृसिंह रूप में अवतार धारण किया था। इसी ...

इंदौर का चमत्कारी प्राचीन नृसिंह मंदिर, पढ़ें पौराणिक तथ्य

इंदौर का चमत्कारी प्राचीन नृसिंह मंदिर, पढ़ें पौराणिक तथ्य
नृसिंह मंदिर उस जमाने में सरकारी लश्करी मंदिर के नाम से मशहूर था। यूं इस मंदिर की स्थापना ...

26 अप्रैल 2018 का राशिफल और उपाय...

26 अप्रैल 2018 का राशिफल और उपाय...
रचनात्मक कार्य सफल रहेंगे। किसी आनंदोत्सव का आनंद मिलेगा। धन प्राप्ति सुगम होगी। शारीरिक ...

26 अप्रैल 2018 : आपका जन्मदिन

26 अप्रैल 2018 : आपका जन्मदिन
दिनांक 26 को जन्मे व्यक्ति का मूलांक 8 होगा। यह ग्रह सूर्यपुत्र शनि से संचालित होता है। ...