0

International Day of the Girl Child : अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस क्यों मनाया जाता है, जानिए इतिहास

रविवार,अक्टूबर 11, 2020
0
1
लेफ्टिनेंट जनरल माधुरी कानिटकर सशस्त्र बलों में करियर की तलाश में एक युवा महिला के लिए एक प्रेरणास्रोत हैं जिन्होंने लेफ्टिनेंट जनरल का पद ग्रहण किया है। बता दें कि यह सेना में ऐसी तीसरी महिला हैं, जो इस पोस्ट पर पहुंची हैं......
1
2
कहावत तो सात वार नौ त्योहार की है, पर हमारी बई के तो सात वार में नौ बरत आते थे। कभी सोमवार के साथ ग्यारस आ जाती तो कभी गुरुवार के साथ प्रदोष।
2
3
बात ज्यादा पुरानी नहीं है। मेरे पास एक सहायक थी घरेलू कामों में सहायता के लिए। बेहद ईमानदार, मेहनती, दुबली-पतली पर जीवट। नाम था पूनम। आई तो खाना बनाने के लिए थी पर कुछ समय बाद उसने सभी काम करने के लिए मुझसे पूछा।मैंने भी उसे परखा हुआ था, सो उसी को ...
3
4
5 भाई-बहनों में सबसे बड़ी जया ने अभी तक 2 किताबें लिखी हैं- एक कविता संग्रह 'पुरानी डायरी से, दूसरी लघुकथा संग्रह 'आई एम स्पेशल'। इसके साथ ही स्वयं के लिखे, गाए भजनों की सीडी भी रिकॉर्ड कर निकाल चुकी हैं।
4
4
5
'नकारात्मक तथ्यों को सकारात्मक तरीके से मनुष्य के अंदर प्रवेश कराना चाहते हो तो गीता पढ़ो', ऐसा मैंने कहीं पढ़ा है। पर इस सुंदर, सादी, भोली, निश्छल मुस्कान से सजी गीता से मिलिए। यकीन भी होने लगेगा कि गीता वाकई में केवल पढ़ी-सुनी जाए, जरूरी नहीं। हमारे ...
5
6
डॉ. हेमा काबरा लड्ढा : एक एथलेटिक्स की सफलता का रोमांचक सफर...बात 1972 की है। खेल के मैदान में एक 11 वर्ष की नन्ही-सी गुड़िया अपनी बड़ी बहनों के साथ कौतूहल से सब गतिविधियों को आंखें फाड़-फाड़कर देख रही है। ऐसा नहीं था कि उसके लिए यह सब नया था। उसकी ...
6
7
अहमदाबाद में जन्म लेने वाली 49 वर्षीय केतकी के जीवन में सन् 2010 तक सब कुछ सामान्य था, जैसे सभी का खुशहाल जीवन होता है। पर अचानक से वे 'एलोपेशिया' नाम की बीमारी का शिकार हुईं जिसमें खोपड़ी से बालों के गुच्छे अचानक से गिरने लग जाते हैं, गंजे होने लगते ...
7
8
'अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस' पूरे देश के लिए बहुत महत्व रखता है। इस दिन महिलाओं के विकास, हर जगह महिलाओं की मौजूदगी और उनके साहस को सलाम किया जाता है। मां हो, बहन हो, पत्नी हो या बेटी- जिंदगी के हर मोड़ में नारी मजबूती के साथ आगे बढ़ती रही है....
8
8
9
जब तक निर्भया के गुनाहगारों को फांसी नहीं होती, मैं महिला दिवस के किसी भी कार्यक्रम में नहीं जाऊंगी। यह कहना है जानीमानी लेखिका ऋचा दीपक कर्पे का।
9
10
नाम है ऋचा कर्पे... सकारात्मकता से लबरेज, उमंग से भरपूर एक ऐसी शख्सियत जिसने विषम परिस्थितियों में धैर्य, लगन, उत्साह और आशा की सुनहरी किरणों को थाम कर अपना आकाश खुद बनाया है। उनकी असाध्यता राहों में बाधक नहीं वरन प्रेरक बनी। वे न दया चाहती हैं, न ...
10
11
पेशे से इंजीनियर है लेकिन इन दिनों इंडिया के मशहूर एक ब्यूटी कॉन्टेस्ट India's Miss TGPC में प्रतिभागिता कर रही है। आरंभी माणके...इंदौर शहर की रहने वाली है। नामी कंपनी में बिजनेस एनालिस्ट है। आइए जानें कि आरंभी क्यों है खास?
11
12
साल 2018 का सर्वोच्च नागरिक सम्मान और शांति का नोबेल पुरस्कार नादिया मुराद को दिया गया है। नादिया एक ईराकी नागरिक और यजीदी कार्यकर्ता है। उन्हें यह पुरस्कार दुनियाभर के युद्धग्रस्त क्षेत्रों में यौन हिंसा के खिलाफ काम करने के लिए दिया गया है। ...
12
13
इन दिनों जबकि कश्मीर से युवाओं की बस एक ही तस्वीर आ रही है। वह है हाथों में पत्थर, मुंह पर कपड़ा, अजीब से नारे, आर्मी और पुलिस के लिए गालियां... ऐसे डरावने मंजर से कोई एक खबर ऐसी आती है कि लगता है कश्मीर की केसर क्यारियां फिर मुस्कुराने वाली है। ...
13
14
चाहे आप कितने ही सुंदर व आकर्षक क्यों न दिखते हो... यह सब केवल दूर से देखने भर तक ठीक है। लेकिन आपके व्यक्तित्व से कोई व्यक्ति उस समय रूबरू हो जाएगा, जब आप उनसे कुछ बोलेंगे और बात करेंगे यानी कि जब कोई व्यक्ति आपकी बोली और आवाज सुनेगा। अगर उसे आपकी ...
14
15
ज़िंदगी में एक ऐसा समय आता है जब आपको लगने लगता है कि आपके आसपास सभी की शादी हो रही है। फेसबुक, व्हाट्सएप, टीवी, एक्टर, बॉलीवुड और तो और हॉलीवुड में भी सभी की लवलाइफ या शादी पटरी पर है।
15
16
हम बात कर रहे हैं नौसेना की जांबाज महिला अफसरों के उस दल की जिन्होंने छोटी पाल नौका से समुद्र का चक्कर लगाया है और 21 मई को वे लौट आई हैं अपने खूबसूरत लेकिन खतरनाक सफर से...
16
17
अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर आज हम आपको मिलवा रहे हैं उस होनहार प्रतिभा से जो निश्चित रूप से भविष्य में भारत का परचम लहराएगी। नाम: सावनी भट्ट ...
17
18
ऐसा माना जाता है दुनिया को सारी नई चीजें पुरुषों की ही देन है। हम आपको बताने जा रहे हैं 10 ऐसी बेहतरीन खोज के विषय में जो इस विश्व को महिलाओं की देन हैं।
18
19
अर्पिता राउत ओडिशा के एक छोटे-से अनजान गांव पाल तमुंदाई की एक छोटी-सी लड़की। बचपन से ही इंजीनियर बनना चाहती थी। स्कूल, मां-पिता और शिक्षकों के सहयोग से अपने सपने को पूरा करने में लगी रही।
19