UP से Ground Report : उत्तर प्रदेश में कोरोनावायरस से जंग, Vaccine के संग...

Vaccination
Author हिमा अग्रवाल| Last Updated: रविवार, 17 जनवरी 2021 (10:54 IST)
तमाम दुश्वारियों के चलते आखिरकार 10 माह बाद कोरोना बचाव का टीका आ ही गया। कोरोना से जंग जीतने के लिए 16 जनवरी
2021 शनिवार का दिन मंगल टीके, शुभ टीके का सदा गवाह रहेगा, क्योंकि इस दिन कोरोना के खिलाफ देश भर में टीके का आगाज हुआ है। उत्तर प्रदेश के अधिकांश जिलों में स्वास्थ्यकर्मियों ने इस टीके को लगवाने में उत्साह दिखाया है।
उत्तर प्रदेश के मेडिकल कॉलेज, सरकारी अस्पतालों में इस टीके को लगवाने वाले कोरोना वॉरियर्स में मेडिकल कॉलेज के प्रिसिंपल, डॉक्टर, नर्स स्टाफ बॉय और सफाईकर्मी शामिल हैं। सुबह आज प्रधानमंत्री के उद्बोधन के साथ उत्तर प्रदेश में इस शुभ दिन की शुरुआत हो गई।

कोरोना से बचाव के लिए मेरठ जिले में टीकाकरण के लिए 7 केन्द्र बनाए गए, इन केन्द्रों पर 700 कोरोना योद्धाओं का सर्वप्रथम टीकाकरण हुआ। मेरठ के जिला अस्पताल में मेरठ के मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने सबसे पहले 19 कोविशील्ड टीका लगवाया और कहा कि ऑल इज वैल। वहीं, मेरठ लाला लाजपत राय मेडिकल कॉलेज के प्रधानाचार्य ने टीकाकरण करवा कर अपने स्टाफ का मनोबल बढ़ाया।
Vaccination

कोरोना के खात्मे के प्रयास के लिए टीकाकरण के समय प्रदेश के अधिकांश जिलों में वहां के सांसद, कमीश्नर, जिलाधिकारी व अन्य अधिकारी उपस्थित रहे। मेरठ में टीकाकरण के प्रथम चरण में आज शहर और देहात में 7 केंद्रों पर 700 स्वास्थ्यकर्मियों को कोविशील्ड टीके लगाए गए। आगामी टीकाकरण के लिए शासन के निर्देश पर अन्य चरणों को शुरू करने की रणनीति घोषित की जाएगी।

कोविशील्ड टीके लगाने के बाद सभी स्वास्थ्यकर्मियों का ब्योरा पोर्टल पर भी अपलोड किया जा गया है। वहीं, मेरठ मेडिकल कॉलेज, सुभारती अस्पताल, मेरठ जिला अस्पताल, मेरठ महिला जिला अस्पताल, सीएचसी सरधना, सीएचसी सरधना, सीएचसी मवाना और संतोष नर्सिंग होम पर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी की गई थी।

मुजफ्फरनगर जिले में तीन केंद्र कोरोना टीके लगाने के लिए तैयार किए गए थे, जहां पर 300 स्वास्थ्यकर्मियों का टीकाकरण किया जा रहा है। कोरोना का प्रथम शुभ टीका हेल्थ सुपरवाइजर योगेश त्यागी को मुखिया ली मेघा खेड़ी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर लगाया गया। वहीं खतौली सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर सर्वप्रथम टीका डॉक्टर राकेश बंसल को लगाया गया है।

सहारनपुर में कोरोना को हराने के लिए जिले के 5 केंद्रों पर कोविड टीकाकरण अभियान चल रहा है। यहां पर पहले टीके के साक्षी मुख्य चिकित्सा अधिकारी सहारनपुर डॉ बीएस सोढ़ी बने। टीका लगवाने के बाद सीएमओ खुश नजर आए, जिसके चलते स्वास्थ्य कर्मचारियों का टीका लगवाते समय आत्मविश्वास बढ़ गया। पहले चरण में यहां 13730 स्वास्थ्य कर्मचारियों को टीका लगना है।
Vaccination
बागपत में तीन केन्द्रों पर 300 स्वास्थ्यकर्मियों का टीकाकरण चल रहा है। यह केन्द्र सीएचसी बड़ौत, पिलाना सीएचसी और बागपत जिला अस्पताल है। बागपत में इस टीके को लगवाने वाला स्वास्थ्यकर्मी जिला अस्पताल का वीरसिंह है। वहीं शामली में भी 3 केन्द्रों पर टीकाकरण जारी है, जहां सबसे पहले वार्ड बॉय ने टीका लगवाकर शुभ टीके की शुरुआत की।

वाराणसी में 6 केन्द्रों पर यह शुभ टीकाकरण शुरू हुआ। पुलिस-प्रशासनिक अधिकारियों की देखरेख में टीकाकरण हो रहा है, लेकिन एक केन्द्र पर 1 हेरीटेज एएनएम के हाथ से गिनती करते हुए हड़बड़ाहट में गिर पड़ी। फर्श में टीका गिरते ही कांच फैल गया। वाराणसी के डीएम कौशल राज के मुताबिक कोविड प्रोटोकॉल के तहत टीके का डिस्पोजल किया गया है, जो वैक्सीन गिरने के कारण कम पड़ रही थी, उसको सेंटर पर पुनः उपलब्ध करा दिया है। वाराणसी में प्रथम चरण में 600 लोगों का टीकाकरण होना है।

उत्तर प्रदेश के प्रमुख मंडलों में कोरोना टीकाकरण का प्रथम चरण चल रहा है। कमोवेश आगरा मंडल, मुरादाबाद मंडल में भी उत्साह के साथ स्वास्थ्य कर्मचारियों ने टीके की पहली डोज ली है। अब 28 दिन बाद इन कोरोना योद्धाओं को टीके की दूसरी डोज दी जाएगी।




और भी पढ़ें :