0

संकट काल में काम आएंगे महाभारत के ये 5 सबक

शुक्रवार,अप्रैल 3, 2020
0
1
जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर महावीर स्वामी अहिंसा के मूर्तिमान प्रतीक थे। उनका जीवन त्याग और तपस्या से ओत-प्रोत था। उन्होंने एक लंगोटी तक का परिग्रह नहीं रखा।
1
2
रंग लाग्यो महावीर, थारो रंग लाग्यो, थारी भक्ति करवाने म्हारो भाव जाग्यो ॥ रंग लाग्यो…॥
2
3
सूर्य माह की शुरुआत में मीन राशि में है। 13 अप्रैल को ये ग्रह मेष राशि में प्रवेश करेगा। इसी के साथ खरमास भी समाप्त हो जाएगा।
3
4
भगवान महावीर ने विभिन्न विषयों पर दुनिया के लोगों के लिए संदेश दिए हैं। जिन्हें हम महावीर के उपदेश के नाम से जानते हैं। यहा हमने महावीर स्वामी आत्मा पर दिए गए उपदेश प्रस्तुत कर रहे हैं। आप भी जानिए क्या कहते हैं भगवान महावीर-
4
4
5
धन के मामले में सावधानी से निर्णय लेना चाहिए। पारिवारिक जीवन में आपसी तालमेल की कमी रह सकती है। पूजा-पाठ और अध्यात्म के प्रति रुचि बढ़ेगी। अप्रैल का महीना सभी राशियों के लिए कैसा रहेगा आइए जानते
5
6
भीतर मेरे कई मुखौटे, कई पहरे परछाइयां,कई तहों में छिपे सिमटे, बंद आंखों में भीतर गुपचुप!
6
7
चिकित्सकों ने सीमित ज्ञान से चेचक हैजा जीता, अब अथक ज्ञान समुद्र से कोरोना जंग जीत लेंगे !
7
8
हिन्दू नववर्ष की पहली एकादशी 4 अप्रैल 2020, शनिवार को मनाई जा रही है। चैत्र शुक्ल एकादशी को कामदा एकादशी के नाम से जाना जाता है। आइए जानें एकादशी की व्रत कथा एवं मुहूर्त
8
8
9
राम का जीवन आम आदमी का जीवन है। आम आदमी की मुश्किल उनकी मुश्किल है.जब राम अयोध्या से चले तो साथ में सीता और लक्ष्मण थे। जब लौटे तो पूरी सेना के साथ। एक साम्राज्य को नष्ट कर और एक साम्राज्य का निर्माण करके. राम अगम हैं संसार के कण-कण में विराजते हैं।
9
10
दुनिया एक झमेला है, आने-जाने का एक मेला है, अनन्त बार जन्म लिए अनन्त बार मरण किए।
10
11
भगवान श्रीराम से रामनवमी पर आशीर्वाद मांगें कि हे परमात्मा, मेरे शरीर, मन और बुद्धि की रक्षा करना। साथ ही इस मंत्र का पाठ करें-
11
12
पूरा विश्व इस समय कोरोना वायरस-19 से लड़ रहा है। इतने भयानक समय में भी हम अपने-अपने ईष्ट का स्मरण कर रहे हैं। डॉक्टर के पास इस वायरस का स्थायी इलाज नहीं है।
12
13
मेष राशि वाले जातकों के लिए यह माह आर्थिक परेशानी वाला रहेगा। व्यापार ठीक-ठीक रहेगा। कृषि में परेशानी आ सकती है।
13
14
अप्रैल के प्रथम सप्ताह में अमेरिका, अंडमान निकोबार द्वीप, लंदन, रशिया, अफगानिस्तान, पाकिस्तान, दुबई, उत्तर कोरिया, दक्षिण कोरिया व दक्षिण अफ्रीका में आर्थिक स्थिति अत्यधिक कमजोर रहेगी।
14
15
या देवी सर्वभू‍तेषु मां सिद्धिदात्री रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।। हे मां! सर्वत्र विराजमान और मां सिद्धिदात्री के रूप में प्रसिद्ध अम्बे, आपको मेरा बार-बार प्रणाम है। या मैं आपको बारंबार प्रणाम करता हूं। हे मां, मुझे अपनी ...
15
16
नवरात्रि के आखिरी दिन यानी नवमी को मां सिद्धिदात्री की पूजा की जाती हैं। यह मां दुर्गा का नौंवा रूप हैं। कमल पर विराजमान चार भुजाओं वाली मां सिद्धिदात्री लाल साड़ी में विराजित हैं।
16
17
भगवान् शंकरजी ने मानस की चौपाइयों को मंत्र-शक्ति प्रदान की है- इसलिए भगवान शंकर को साक्षी बनाकर इनका श्रद्धा से जप करना चाहिए।
17
18
नवमी तिथि पर साधारणतया माता दुर्गा का पूजन, अर्चन, हवन किया जाता है। लेकिन इस‍ तिथि की अधिष्ठात्री देवी माता सिद्धिदात्री हैं।
18
19
तारक मंत्र 'श्री' से प्रारंभ होता है। 'श्री' को सीता अथवा शक्ति का प्रतीक माना गया है। राम शब्द 'रा' अर्थात् र-कार और 'म' मकार से मिल कर बना है। 'रा' अग्नि स्वरुप है। यह हमारे दुष्कर्मों का दाह करता है। 'म' जल तत्व का द्योतक है।
19