0

गोगा पंचमी 2020 : Goga Panchami पर पढ़ें गोगा देव की रोचक कथा

शुक्रवार,अगस्त 7, 2020
Goga Dev ki Katha
0
1
भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की पंचमी तिथि को गोगा पंचमी का त्‍योहार मनाया जाता है। इस दिन गोगादेव और नाग देवता की पूजा की जाती है। इस वर्ष यह त्योहार 8 अगस्त 2020, शनिवार को मनाया जा रहा है।
1
2
प्रतिमाह कृष्ण पक्ष में श्रीगणेश संकष्टी चतुर्थी व्रत किया जाता है। इस दिन भगवान श्रीगणेश को अपनी राशिनुसार प्रसाद चढ़ाने से समस्त कष्ट दूर होकर
2
3
बहुला चतुर्थी व्रत से संबंधित एक बड़ी ही रोचक कथा प्रचलित है। जब भगवान विष्णु का कृष्ण रूप में अवतार हुआ तब इनकी लीला में शामिल होने के लिए देवी-देवताओं ने भी गोप-गोपियों का रूप लेकर अवतार लिया।
3
4
खुशी, संतान, नौकरी, प्रेम,यश, सुख, समृद्धि, धन-वैभव, पराक्रम, सफलता जैसे 10 बड़े आशीष पाने हैं तो जन्माष्टमी के दिन अवश्य पढ़ें श्री कृष्ण चालीसा...
4
4
5
वर्ष 2020 में शुक्रवार, 7 अगस्त को बहुला चतुर्थी व्रत मनाया जाएगा। बहुला चतुर्थी व्रत में गौ पूजन को बहुत महत्व दिया गया है।
5
6
12 अगस्त 2020 को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का शुभ पर्व है। इस दिन श्री कृष्ण को प्रिय सामग्री समर्पित करने से कान्हा का विशेष आशीर्वाद मिलता है। आइए जानें वह 10 चीजें क्या है?
6
7
जैसे ही रोहिणी की गोद के बालक को देखा तो गर्गाचार्य मोहिनी मुरतिया में खो गए अपनी सारी सुधि भूल गए खुली आंखों से प्रेम समाधि लग गयी गर्गाचार्य ना बोलते थे ना हिलते थे ना जाने इसी तरह कितने पल निकल गए यह देख बाबा यशोदा घबरा गए हिलाकर पूछने लगे बाबा ...
7
8
एक पौराणिक लोककथा के अनुसार एक लपसी था, एक तपसी था। तपसी हमेशा भगवान की तपस्या में लीन रहता था। लपसी रोजाना सवा सेर की लापसी बनाकर भगवान का भोग लगा कर जीम लेता था।
8
8
9
इस साल जन्माष्टमी पर राहुकाल दोपहर 12:27 बजे से 02:06 बजे तक रहेगा।
9
10
न्यूयॉर्क। भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए भूमिपूजन और शिलान्यास का जश्न अमेरिका के मशहूर टाइम्स स्क्वायर पर एक विशाल बिलबोर्ड पर भगवान राम की तस्वीर प्रदर्शित कर मनाया गया। यहां पर जश्न मनाने के लिए ...
10
11
शिव का सावन चाहे पूरा हो गया हो लेकिन जन्माष्टमी आने को है, शिव के साथ कान्हा हमारे हृदय में विराजते हैं। उनके बारे में कुछ ऐसी बातें जानते हैं, जो हमें उनकी विशेषताओं से चमत्कृत करती हैं-
11
12
मेष राशि वाले जातकों के लिए यह माह आर्थिक उन्नति वाला रहेगा। व्यापार में सफलता प्राप्त होगी। कृषि में उतार-चढ़ाव रहेगा। नौकरी में अधिकारी वर्ग से परेशानी आएगी।
12
13
कजली तीज की पौराणिक व्रत कथा के अनुसार एक गांव में एक गरीब ब्राह्मण रहता था। भाद्रपद महीने की कजली तीज आई।
13
14
16 अगस्त 2020 की रात्रि 8:45 मिनट पर मंगल गोचरवश अपनी राशि परिवर्तन कर अपनी स्वराशि मेष में प्रवेश करेंगे। सामान्यत: मंगल 57 दिनों में अपनी राशि बदलते हैं।
14
15
इस बार 6 अगस्त 2020, गुरुवार को कजली तीज पर्व मनाया जा रहा है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार रक्षाबंधन के तीन दिन बाद और कृष्ण जन्माष्टमी से पांच दिन पहले जो तीज आती है
15
16
कृष्ण अष्टकम्- चतुर्मुखादि-संस्तुं समस्तसात्वतानुतम्‌। हलायुधादि-संयुतं नमामि राधिकाधिपम्‌॥1॥
16
17
भये प्रगट कृपाला, दीनदयाला कौसल्या हितकारी, हरषित महतारी, मुनि मनहारी अद्भुत रूप बिचारी
17
18
श्री राम जय राम जय जय राम' यह सात शब्दों वाला तारक मंत्र है। साधारण से दिखने वाले इस मंत्र में जो शक्ति छिपी हुई है,
18
19
भगवान श्रीराम के मंत्रों का जाप करने से मनचाही कामना पूरी होती है। आइए, जानें सरल मंत्र...
19