‘बनारस के घाट’ पर होगा कला और साहित्‍य का ‘संगम’

Last Updated: शनिवार, 13 नवंबर 2021 (16:06 IST)
हमें फॉलो करें
करीब दो साल के कोरोना वायरस की मार के बाद अब एक बार फि‍र से साहित्‍य जगत के आयोजन गुलजार होने लगे हैं। इसी सिलसिले में अब 26 से 28 नवंबर तक धार्मिक नगरी वाराणसी में महिन्द्रा कबीरा फेस्टिवल-2021 का आयोजन होने जा रहा है।

बनारस में गंगा नदी के घाट पर देशभर के साहित्यकार और कलाप्रेमी संगत करेंगे। इसमें लेखन, संगीत, साहित्य और आख्यान के आयोजन होंगे। विभि‍न्‍न आयोजन के माध्‍यम से 15वीं सदी के रहस्यवादी कवि कबीर को याद किया जाएगा।

दो दिन चलने वाले इस आयोजन में शास्त्रीय और लोकसंगीत के साथ वार्ता, सांस्कृतिक प्रस्तुतियां, कबीर के जीवन से जुड़ी जगह दिखातीं नौका की सैर, और सम्मोहित कर लेने वाली गंगा आरती प्रमुख आकर्षण होंगे।

महिन्द्रा ग्रुप की तरफ से जारी की गई प्रेस विज्ञप्‍ति में बताया गया कि एक बार फि‍र से यह आयोजन होगा, बहुत ही धूमधाम से यह आयोजन किया जा रहा है, इसमें सुप्रसिद्ध लोकगायिका मालिनी अवस्थी, शास्त्रीय गायिका कलापिनी कोमकली, प्रसिद्ध गायिका निराली कार्तिक, सितार वादक पुरबायन चटर्जी, मलयालम गायक गायत्री असोकन, कर्नाटक संगीत की बेमिसाल जोड़ी रंजनी-गायत्री, लोककवि जुम्मा खान, दास्तानगो और मुहर्रम कला के कलाकार अस्करी नकवी और बनारस घराना के पंडित अनूप मिश्रा अपनी प्रस्तुति देंगे।



और भी पढ़ें :