1. खबर-संसार
  2. समाचार
  3. राष्ट्रीय
  4. Currency ban : Cash Change Limit Rs 2,000
Written By
Last Updated: गुरुवार, 17 नवंबर 2016 (14:44 IST)

नोटबंदी : अब 4500 नहीं 2000 रुपये ही बदल पाएंगे

नोटबंदी पर सरकार ने गुरुवार को नई गाइडलाइंस जारी की। आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कई नए ऐलान किए। उन्होंने खास तौर पर किसानों को राहत देते हुए कई घोषणाएं कीं। लेकिन उन्होंने पैसे बदलने की लिमिट कम करते हुए जनता को झटका भी दिया।
दास ने कहा कि अब कल से 2 हजार के नोट ही बदले जाएंगे। अब तक ये सीमा 4500 रुपये थी। केंद्रीय कर्मचारी 10 हजार तक एडवांस सेलरी निकाल सकेंगे। साथ ही दास ने कहा कि भरपूर कैश उपलब्ध है। हम चाहते हैं कि पैसा अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचे।

इसीलिए बंद किए गए 1000 और 500 रुपए के पुराने नोटों को बदलने की सीमा को सरकार ने 4500 रुपए से घटाकर 2000 रुपये कर दिया है। यह व्यवस्था शुक्रवार से प्रभावी होगी।
 
आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास ने यहां पत्रकारों से कहा, 'ज्यादा लोगों को पुराने 1000 और 500 रुपये के नोट बदलने की सुविधा मिल सके इसलिए बैंकों के काउंटर से नोट बदलने की सीमा को 4500 रुपये से घटाकर 2000 रुपये किया गया है। यह व्यवस्था कल से प्रभावी होगी।'  काउंटर से बड़े मूल्य के पुराने नोट बदले नयी मुद्रा लेने की सुविधा '30 दिसंबर तक एक व्यक्ति एक बार' के आधार पर उपलब्ध रहेगी।

शक्तिकांत दास ने कहा, 'इससे बड़ी संख्या में लोग नोट बदल सकेंगे। नकदी की कोई कमी नहीं है और पर्याप्त मात्रा में नकदी उपलब्ध है।' सरकार ने नोट बदलने की सीमा को कम करने का फैसला लोगों की तर्जनी अंगुली पर ना मिटने वाली स्याही लगाने की घोषणा के एक दिन बाद किया है। अंगुली पर स्याही लगाने का निर्णय सरकार ने एक व्यक्ति के बार-बार नोट बदलने की स्थिति में पहचान करने के लिए किया था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आठ नवंबर की मध्यरात्रि से 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों को चलन से बाहर किए जाने की घोषणा की थी। इसे उन्होंने कालेधन, आतंकवाद को वित्तपोषण और नकली नोटों के खिलाफ जंग बताया था।
 
तब से अब तक प्रधानमंत्री और वित्तमंत्री को कई प्रतिनिधियों से शादी इत्यादि के लिए नकदी निकासी के नियमों को आसान बनाने की मनुहार की गई है।
 
दास ने कहा कि इसलिए शादियों के लिए नकदी निकासी सीमा को आसान बनाया गया है, जिस बैंक खाते से उन्हें नकदी का आहरण करना है उसकी केवाईसी (अपने ग्राहक को पहचानो) नियमों की प्रक्रिया पूरी होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि ढाई लाख रपये केवल एक खाते से निकाले जा सकते हैं। (भाषा)