जज्बातों पर काबू रख भिड़ेंगे भारत और ऑस्ट्रेलिया

पुनः संशोधित सोमवार, 8 दिसंबर 2014 (14:38 IST)
हमें फॉलो करें
एडिलेड। फिलीप ह्यूज की त्रासद मौत के कारण टेस्ट श्रृंखला से पहले चिर-परिचित आक्रामकता भले ही नजर नहीं आ रही हो लेकिन भारत और ऑस्ट्रेलिया कल से यहां शुरू हो रहे पहले क्रिकेट टेस्ट में उसी ‘ट्रेडमार्क’ तेवर के साथ एक-दूसरे से मुखातिब होंगे। यहां पहुंचने के दो सप्ताह बाद आखिर भारतीय टीम विराट कोहली की अगुवाई में कल से पहला टेस्ट खेलेगी। महेंद्रसिंह धोनी अभी तक दाहिने अंगूठे में हेयरलाइन फ्रेक्चर से उबर नहीं सके हैं। ऑस्ट्रेलियाई कप्तान को मैच के लिए फिट घोषित कर दिया गया है जबकि भारतीय मध्यम तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार का खेलना अभी तय नहीं है।
पिछली बार 2011-12 में धोनी की कप्तानी में भारत को यहां 4-0 से पराजय झेलनी पड़ी थी। इस बार भारतीय टीम का इरादा उसका बदला चुकता करने का होगा। हालांकि कल जब मैच शुरू होगा तो खिलाड़ियों के जेहन में यह ख्याल नहीं होगा। दोनों टीमें मैदान पर उतरेंगी तो जज्बात का तूफान उमड़ रहा होगा। एडीलेड ह्यूज का दूसरा घर था और मैच शुरू होने से पहले उसे श्रद्धांजलि दी जाएगी। क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया और साउथ ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट एसोसिएशन ने उसे श्रद्धांजलि देने के लिए कई योजनाएं बनाई हैं।> > ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट के लिए पिछले दो सप्ताह काफी कठिन रहे। ह्यूज की मौत ने पूरे देश को गमगीन कर दिया और खिलाड़ियों के लिए क्रिकेट हाशिए पर चला गया। श्रृंखला के कार्यक्रम में बदलाव किया गया जिससे बीसीसीआई ने भी मंजूरी दे दी। दु:ख के इस दौर में कप्तान क्लार्क उनकी ताकत बने रहे। भारतीय टीम जब यहां पहुंची तब क्लार्क की फिटनेस और पहले टेस्ट के लिए चयन को लेकर विवाद जारी था। ह्यूज के घायल होने के बाद से जिस तरह उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट समुदाय को संभाला, उससे कोई शक नहीं रह गया कि वे पहला टेस्ट खेलेंगे। ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटरों ने समय समय पर जाहिर किया कि उनके लिए पहले टेस्ट की तैयारी करना कितना मुश्किल था। ह्यूज के बाउंसर लगने से मैदान पर गिरने की घटना के बाद पहली बार उनके लिए बल्लेबाजी करना आसान नहीं होगा।
तीन दिन के अभ्यास सत्र के बाद खिलाड़ी अब सामान्य हो रहे हैं और उन्होंने आक्रामक खेल दिखाने का वादा किया है। भारतीय टीम के लिए यह लंबा दौरा हो गया है चूंकि टीम दो सप्ताह से पहले टेस्ट का इंतजार कर रही है।  भारत ने शुरुआत अभ्यास मैच से की । इसके बाद ऑस्ट्रेलिया के गम से उबरने का इंतजार करती रही। कुछ और अभ्यास के बाद एडीलेड में दूसरा अभ्यास मैच खेला।

भारतीय टीम ने अपने जज्बात जाहिर नहीं होने दिए और अभ्यास पर फोकस किया। पिछले कुछ समय में टेस्ट क्रिकेट में भारत का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा है। टीम फिलहाल आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में छठे स्थान पर है। भारत ने 2013 में वेस्टइंडीज को अपनी धरती पर हराया। उसके बाद दक्षिण अफ्रीका और न्यूजीलैंड से हारे और फिर इंग्लैंड ने उसे 3-1 से हराया।

युवा भारतीय टीम विदेश दौरे पर अच्छे प्रदर्शन का शउर सीख रही है। दक्षिण अफ्रीका, इंग्लैंड और न्यूजीलैंड में हालात उसके लिए नए थे चूंकि कुछ ही खिलाड़ी पहले वहां खेल चुके थे। ऑस्ट्रेलिया दौरा भी अलग होगा। मौजूदा टीम में से धोनी, कोहली, अजिंक्य रहाणे, रोहित शर्मा , ईशांत शर्मा, आर. अश्विन और उमेश यादव ही 2011 में यहां खेले हैं।

रहाणे और रोहित को तीन साल पहले खेलने का मौका नहीं मिला लेकिन पिछले एक साल में उन्होंने विदेश में काफी क्रिकेट खेला है। गेंदबाजों को ऑस्ट्रेलियाई पिचों का अनुभव हो गया है। भारत के लिए अहम बदलाव कप्तानी का होगा। धोनी वन-डे क्रिकेट में आक्रामक कप्तान रहे हैं लेकिन टेस्ट में खासकर विदेश दौरों पर अपेक्षित प्रदर्शन नहीं कर सके। इस टेस्ट में कोहली कप्तानी करेंगे जिनकी शैली जुदा है। धोनी की गैर मौजूदगी में रिद्धिमान साहा उनकी जगह लेंगे लेकिन क्या वे छठे नंबर पर बल्लेबाजी करेंगे।

भारत यदि अतिरिक्त बल्लेबाज को लेकर उतरता है तो चार गेंदबाज ही टीम में होंगे। भुवनेश्वर का खेलना संदिग्ध होने से ईशांत शर्मा, वरुण आरोन और मोहम्मद शमी पहली पसंद होंगे। स्पिनरों में रविंद्र जडेजा और आर अश्विन प्रबल दावेदार होंगे।

टीमें-
भारत-  विराट कोहली ( कप्तान) , शिखर धवन, मुरली विजय, चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य रहाणे, रोहित शर्मा, सुरेश रैना, रिद्धिमान साहा, रविंद्र जडेजा, आर. अश्विन, कर्ण शर्मा, ईशांत शर्मा, मोहम्मद शमी, वरुण आरोन, उमेश यादव, भुवनेश्वर कुमार, केएल राहुल, नमन ओझा, एमएस धोनी।

ऑस्ट्रेलिया : माइकल क्लार्क (कप्तान), डेविड वॉर्नर, क्रिस रोजर्स, शेन वॉटसन, स्टीव स्मिथ, मिशेल मार्श, ब्रॉड हैडिन, मिशेल जॉनसन, रियान हैरिस, पीटर सिडल, नाथन लियोन, जोश हेजलवुड। फिलीप ह्यूज टीम के मानद् 13वें सदस्य होंगे।

मैच समय- सुबह 5.30 से। (भाषा)



और भी पढ़ें :