जानिए, हनुमान आराधना के सामान्य नियम


WD|
हनुमान जी की आराधना से ग्रहों का दोष शांत हो जाता है। हनुमान जी और सूर्यदेव एक दूसरे के स्वरूप हैं, इनकी परस्पर मैत्री अति प्रबल मानी गई है। इसलिए हनुमान साधना करने वाले साधकों में सूर्य तत्व अर्थात आत्मविश्वास, ओज, तेजस्विता आदि स्वत: ही आ जाते हैं। 
 
 
* हनुमान साधना में शुद्धता एवं पवित्रता अनिवार्य है।
*  प्रसाद शुद्ध घी का बना होना चाहिए।



और भी पढ़ें :