जन्माष्टमी विशेष कविता: बांसुरी

बांसुरी वादन से, खिल जाते थे कमल 
वृक्षों से आंसू बहने लगते, 
स्वर में स्वर मिलाकर, नाचने लगते थे मोर ।   
गायें खड़े कर लेतीं थी कान,  
पक्षी हो जाते थे मुग्ध,  
ऐसी होती थी बांसुरी तान... ।
 
नदियां कल-कल स्वरों को, 
बांसुरी के स्वरों में मिलाने को थी उत्सुक 
साथ में बहाकर ले जाती थी, उपहार कमल के पुष्पों के, 
ताकि उनके चरणों में,  > रख सके कुछ पूजा के फूल  ।
 
ऐसा लगने लगता कि, बांसुरी और नदी मिलकर, करती थी कभी पूजा ।
जब बजती थी बांसुरी, घनश्याम पर बरसाने लगते, जल अमृत की फुहारें ।
 
अब समझ में आया, जादुई आकर्षण का राज 
जो  आज भी जीवित है, बांसुरी की मधुर तान में
 
माना हमने भी,  > बांसुरी बजाना पर्यावरण की पूजा करने के समान है, 
जो कि‍ हर जीव में प्राण फूंकने की क्षमता रखती, 
और सुनाई देती है कर्ण प्रिय बांसुरी ।



और भी पढ़ें :