संजू सैमसन के 70 रन भी नहीं आए काम, दिल्ली राजस्थान को 33 रनों से हराकर पहुंची टॉप पर

Last Updated: शनिवार, 25 सितम्बर 2021 (19:57 IST)
कप्तान संजू सैमसन की 53 गेंद में नाबाद 70 रन की पारी भी को इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के मैच में शनिवार को के खिलाफ 33 रन की हार से बचाने के लिए काफी साबित नहीं हुई। > इस जीत के साथ ही दिल्ली कैपिटल्स आईपीएल तालिका में शीर्ष पर पहुंचने के साथ प्लेऑफ में जगह पक्की करने के करीब पहुंच गयी। टीम के नाम 10 मैचों में 16 अंक है। राजस्थान की टीम इस मुकाबले के बाद पांचवें से छठे स्थान पर खिसक गयी। उसके नौ मैच में आठ अंक है।> दिल्ली ने श्रेयस अय्यर की 43 और शिमरोन हेटमायर की ताबड़तोड़ 28 रन की पारी के दम पर छह विकेट पर 154 रन बनाने के बाद राजस्थान रॉयल्स को 20 ओवर में छह विकेट पर 121 रन पर रोक दिया।

सैमसन ने 53 गेंद की नाबाद पारी में आठ चौके और एक छक्का जड़ा। दिल्ली के लिए एनरिच नोर्जे ने चार ओवर में महज 18 रन देकर दो विकेट लिये।

दिल्ली की पारी में अय्यर ने 32 गेंद में एक चौके और दो छक्के की मदद से 43 जबकि हेटमायर ने 16 गेंद में पांच चौकों की मदद से 28 रन बनाये। राजस्थान के लिये मुस्ताफिजुर रहमान और चेतन सकारिया ने दो-दो विकेट लिये।

दिल्ली की इस जीत का श्रेय उनके गेंदबाजों को जाता है जिन्होंने पावर प्ले में राजस्थान को एक भी बाउंड्री लगाने का मौका नहीं दिया। राजस्थान की टीम शुरुआती छह ओवरों में तीन विकेट गंवाकर 21 रन ही बना सकी। आईपीएल के इतिहास में यह तीसरा मौका है जब पावर प्ले में एक भी चौका या छक्का नहीं लगा हो। इससे पहले 2009 में राजस्थान रॉयल्स बनाम रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु और 2011 में चेन्नई सुपर किंग्स बनाम कोलकाता नाइट राइडर्स के मैच में ऐसा हुआ है।
प्रतिस्पर्धी लक्ष्य का पीछा करने उतरी राजस्थान की शुरुआत बेहद ही खराब रही। आवेश खान (29 रन पर एक विकेट) ने पहले ओवर में लियाम लिविंगस्टोन (एक रन) तो वहीं एनरिच नोर्जे ने दूसरे ओवर में यशस्वी जायसवाल को चलता किया।

पांचवें ओवर में गेंदबाजी के लिए आये अश्विन (20 रन पर एक विकेट) ने डेविड मिलर (सात रन) को आउट किया। अश्विन की फ्लाइटेड गेंद पर मिलर आगे निकले और पंत ने गिल्लियां बिखेर दी। टी20 क्रिकेट में यह अश्विन का 250वां शिकार था। इस मामले में पीयूष चावला और अमित मिश्रा सबसे सफल भारतीय गेंदबाज है। उन दोनों के नाम एकसमान 262 विकेट है।

सैमसन ने हालांकि सातवें ओवर में अश्विन के खिलाफ पारी का पहला चौका लगाया तो वही महिपाल लोमरोर ने नौवें में इसी गेंदबाज के खिलाफ छक्का जड़ा। कैगिसो रबाडा (26 रन पर एक विकेट) ने हालांकि 11वें ओवर में लोमरोर को खतरनाक होने से पहले ही पवेलियन की राह दिखा दी। उन्होंने 24 गेंद में 19 रन बनाये।

अक्षर पटेल ने अगले ओवर में रियान पराग (दो रन) को आउट कर राजस्थान को पांचवां झटका दिया जिससे टीम का स्कोर पांच विकेट पर 55 रन हो गया।

सैमसन ने हालांकि एक छोर संभाले रखा और 14वें ओवर में नोर्जे के खिलाफ चौका जड़ने के बाद रबाडा के द्वारा किये गये 15वें ओवर में तीन बार गेंद को सीमा रेखा के पार भेजा।

राजस्थान को अब आखिरी पांच ओवरों में 73 रन की दरकार थी और सैमसन के साथ तेवतिया क्रीज पर मौजूद थे लेकिन वह बड़ा शॉट लगाने में नाकाम हो रहे थे। इस दौरानसैमसन ने 17वें ओवर की दूसरी गेंद पर दो रन लेकर 39 गेंद में अर्धशतक पूरा किया। अगले ओवर में तेवतिया के आउट होते ही राजस्थान की जीत की उम्मीद लगभग खत्म हो गयी थी। वह नोर्जे का दूसरा शिकार बने।

सैमसन ने आखिरी ओवर में छक्का जड़ा लेकिन तब तक टीम की हार तय हो गयी थी।

राजस्थान के टॉस जीतकर गेंदबाजी का फैसला करने के बाद मुस्ताफिजुर रहमान, महिपाल लोमरोर और चेतन सकारिया ने शुरुआती तीन ओवरों में कसी हुई गेंदबाजी से 18 रन ही दिये जिसका फायदा पिछले मैच के नायक युवा तेज गेंदबाज कार्तिक त्यागी (40 रन पर एक विकेट) को मिला। उन्होंने चौथे ओवर की पहली गेंद पर अनुभवी शिखर धवन (आठ) को चलता किया। शानदार लय में चल रहे धवन के बल्ले का छूकर गेंद स्टंप्स से टकरा गयी।

इसके अगले ओवर में सकारिया की पहली गेंद पर बड़ा शॉट लगाने की कोशिश में पृथ्वी साव (12) ने लियाम लिविंगस्टोन को कैच थमा दिया।

श्रेयस अय्यर और कप्तान ऋषभ पंत ने पावर प्ले के आखिरी ओवर में त्यागी के खिलाफ एक-एक चौका जड़ा जिससे शुरुआती छह ओवरों में टीम का स्कोर दो विकेट पर 36 रन हो गया।

अय्यर ने 10वें ओवर में आक्रामक रूख अख्तियार करते हुए राहुल तेवतिया (17 रन पर एक विकेट) के खिलाफ पारी का पहला छक्का जड़ा। उन्होंने इसके बाद टी20 के शीर्ष गेंदबाज (आईसीसी की मौजूदा रैंकिंग में) तबरेज शम्सी (बिना किसी सफलता के 34 रन) की गेंद को कवर के ऊपर से दर्शकों के पास भेजा। इसके साथ ही अय्यर और पंत ने अर्धशतकीय साझेदारी पूरी की।

कप्तान सैमसन ने खतरनाक होती इस साझेदारी को तोड़ने के लिए मुस्ताफिजुर को गेंद थमाई और इस गेंदबाज ने पंत को बोल्ड कर उनके फैसले को सही साबित किया। पंत ने 24 गेंद में 24 रन बनाने के अलावा अय्यर के साथ 62 रन की साझेदारी की।

पारी के 14वें ओवर में तेवतिया ने सैमसन के हाथों स्टंप कराकर अय्यर को पवेलियन की राह दिखा कर राजस्थान को बड़ी सफलता दिलायी।

हेटमायर ने हालांकि क्रीज पर आते ही 15 ओवर में सकारिया पर दो और 16वें ओवर में त्यागी के खिलाफ तीन चौके जड़े। मुस्ताफिजुर ने हालांकि 17वें ओवर में उन्हें सकारिया के हाथों कैच कराया।

अक्षर पटेल (12) ने 19वें ओवर की पहली गेंद पर छक्का जड़ा लेकिन सकारिया ने दूसरी गेंद पर उन्हें डेविड मिलर के हाथ कैच कराकर वापसी की।(भाषा)



और भी पढ़ें :