0

Gorakhnath jayanti 2022 : गुरु गोरखनाथ के बारे में क्या जानते हैं आप

शनिवार,मई 14, 2022
0
1
रामभद्राचार्य जी का नाम बहुत ही आदर के साथ हिन्दू संत समाज में लिया जाता है। धर्मचक्रवर्ती, तुलसीपीठ के संस्थापक, पद्मविभूषण, जगद्गुरु श्री रामभद्राचार्य जी वही हैं जिन्होंने सुप्रीम कोर्ट में रामलला के पक्ष में वेद पुराण के उद्धारण के साथ गवाही दी ...
1
2
Achyutananda das malika predictions : भारत में यूं तो कई भविष्यवक्ता हुए हैं लेकिन 16वीं सदी में ओड़िसा राज्य में जन्में अच्युदानंद दास की भविष्यवाणियों को खासी चर्चा होती है। दावा किया जा रहा है कि उनकी अब तक की भविष्यवाणियां सच हुई हैं। फ्रांस के ...
2
3
Chanakya ki kahani in hindi: आचार्य चाणक्य का नाम सभी ने सुना है। उनकी चाणक्य नीति बहुत प्रचलित है। सभी ने चाणक्य नीति के अनमोल वचन पढ़ें होंगे। आओ जानते हैं कि आखिर चाणक्य कौन थे, कैसे हुई थी उनकी मौत और क्या है उनके जीवन की कहानी।
3
4
भगवान श्री कृष्ण के भक्त संत सूरदास (Life story of Surdas) का जन्म तिथि के अनुसार वैशाख महीने के शुक्ल पक्ष की पंचमी को मनाया जाता है। उन्हें हिन्दी के अनन्यतम और ब्रजभाषा के आदि कवि कहा जाता है।
4
4
5
Who was Bhrigu Rishi : प्रतिवर्ष वैशाख मास की पूर्णिमा तिथि को महर्षि भृगु की जंयती मनाई जाती है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार इस बार यह जयंती 16 मई 2022 सोमवार को मनाई जाएगी। आओ जानते हैं संक्षिप्त में महर्षि भृगु का परिचय। महर्षि भृगु को भी सप्तर्षि ...
5
6
Indian guru satya sai baba गुरु श्री सत्य साईं बाबा (sathya sai baba) का जन्म 23 नवंबर 1926 को आंध्रप्रदेश के पुट्‍टपर्थी गांव में हुआ था। बचपन में उनका नाम 'सत्यनारायण राजू' था।
6
7
24 अप्रैल सत्य साईं बाबा की पुण्यतिथि : शिरडी के साईं बाबा के समाधि लेने के ठीक 8 साल बाद आंध प्रदेश के पुट्टपर्थी नामक स्थान पर 1926 में सत्यनारायण राजू का जन्म हुआ। राजू को 13 साल की उम्र में ही उन्हें साईं का अवतार मान लिया गया। आओ जानते हैं उनके ...
7
8
चैतन्य महाप्रभु या चैतन्य देव (Chaitanya Mahaprabhu) का आविर्भाव फाल्गुन पूर्णिमा, होली के दिन पूर्वबंग के अपूर्व धाम नवद्वीप में हुआ था। उनके पिता सिलहट के रहने वाले थे तथा उनका नाम पं. जगन्नाथ मिश्र और माता का नाम शचीदेवी था।
8
8
9
Ramakrishna Paramahamsa Birth Anniversary भारत के महान योगी संत रामकृष्ण परमहंस का जन्म फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया (phalgun Shukla Dwitiya) को हुआ था। इस वर्ष यह तिथि शुक्रवार, 4 मार्च 2022 को है। इस दिन रामकृष्ण परमहंस की 186वीं जयंती ...
9
10
छत्रपति शिवाजी महाराज जयंती: भारत के वीर सपूतों में से एक श्रीमंत छत्रपति शिवाजी महाराज जन्म सन्‌ 19 फरवरी 1630 में मराठा परिवार में हुआ। उन्होंने आततायी मुगलों से अपने साम्राज्य ही नहीं बल्कि अधिकांश भारत को सुरक्षित रखा। आओ जानते हैं उनकी जयंती पर ...
10
11
छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती : भारत के वीर सपूतों में से एक श्रीमंत छत्रपति शिवाजी महाराज के बारे में सभी लोग जानते हैं। बहुत से लोग इन्हें हिन्दू हृदय सम्राट कहते हैं तो कुछ लोग इन्हें मराठा गौरव कहते हैं, जबकि वे भारतीय गणराज्य के महानायक थे। ...
11
12
भारतीय महापुरुषों ने पूरे संसार को शांति का पाठ पढ़ाया है। ऐसे ही महापुरुषों में रामकृष्ण परमहंस (Ramakrishna Paramahamsa Jayanti 2022) भी थे। उनके बारे में यह कहा जाता है कि उन्होंने बिना अच्छी शिक्षा लिए ही रामायण, महाभारत, श्रीमद्‍भगवद्गीता जैसे ...
12
13
वैष्णव संप्रदाय के महान संत चैतन्य महाप्रभु की जयंती फाल्गुन शुक्ल पूर्णिमा को मनाई जाती है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार इस बार यह तिथि 18 मार्च को रहेगी, परंतु अंग्रेजी दिनांक के अनुसार उनका जन्म 18 फरवरी को है। आओ जानते हैं उनके बारे में 10 खास ...
13
14
संत शिरोमणि कवि रविदास जी एक महान संत थे। माघ माह की पूर्णिमा के दिन संत रविदास की जयंती रहती है। इस बार यह जयंती अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार 16 फरवरी 2022 को रहेगी। आओ जानते हैं संत रविदासजी के संबंध में 10 खास बातें।
14
15
Ramanandacharya jayanti 2022: रामानंद अर्थात रामानंदाचार्य एक महान संत थे। ईस्वी सन् 1299 को माघ माह की सप्तमी को उनकी जयंती मनाई जाती है। इस बार 24 जनवरी सोमवार को उनकी जयंती है। आओ जानते हैं उनके बारे में 5 रोचक जानकारी।
15
16
19 January Osho Nirwan Diwas: ओशो जैसी चेतना का जन्म सैकड़ों वर्षों के बाद होता है। बुद्ध के बाद ओशो ही एकमात्र ऐसे व्यक्ति हैं, जिन्होंने चेतना के गौरीशंकर को छू लिया है। पूरे ढाई हजार वर्षों बाद कोई ऐसा व्यक्ति हुआ, जिसे बुद्ध के समकक्ष रखा जा ...
16
17
19 January Osho Rajneesh Nirvana Day : ओशो रजनीश का जन्म 11 दिसंबर 1931 को कुचवाड़ा गांव, बरेली तहसील, जिला रायसेन, राज्य मध्यप्रदेश में हुआ था। उन्हें जबलपुर में 21 वर्ष की आयु में 21 मार्च 1953 मौलश्री वृक्ष के नीचे संबोधि की प्राप्ति हुई। 19 ...
17
18
Yuva divas 2022 : स्वामी विवेकानंद जी के जन्म दिवस को युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है। उनका जन्म 12 जनवरी सन्‌ 1863 को कोलकाता में हुआ था। मात्र 39 साल की उम्र में 4 जुलाई 1902 को उन्होंने महासमाधि ले ली थी। आओ जानते हैं स्वामी विवेकानंद की हमेशा ...
18
19
Yuva divas 2022 : स्वामी विवेकानंद जी के जन्म दिवस पर भारत में युवा दिवस मनाया जाता है। स्वामी जी का जीवन काल बहुत ही छोटा रहा है परंतु उन्होंने इस छोटे जीवन काल में मही संपूर्ण जीवन जी लिया था और इतने छोटे काल में ही उन्होंने इस देश, समाज और धर्म ...
19
20
Swami Vivekananda Jayanti: स्वामी विवेकानंद के जन्मदिवस पर युवा दिवस मनाया जाता है। स्वामीजी के जीवन से संबंधित कई रोचक किस्से हैं। वे रामकृष्‍ण परमहंस के शिष्य थे। उनका जन्म 12 जनवरी सन्‌ 1863 को कोलकाता में हुआ और मात्र 39 वर्ष की उम्र में 4 जुलाई ...
20
21
'ऑटोबायोग्राफी ऑफ योगी' के लेखक, योगदा सत्संग सोसाइटी के संस्थापक और भारतीय रहस्यदर्शी परमहंस योगादंन का जन्म 5 जनवरी 1893 को उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में हुआ। उन्होंने क्रिया योग की शिक्षा दी थी। स्वामी परमहंस योगानंद के बचपन का नाम मुकुंदलाल घोष
21
22
दत्तात्रेय को ब्रह्मा, विष्णु और महेश का अवतार माना जाता है। भगवान दत्तात्रेय जयंती (Datta Jayanti in India) या दत्त पूर्णिमा मार्गशीर्ष मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि पर मनाई जाती है।
22
23
18 दिसंबर 1756 को गुरु घासीदास (Guru Ghasidas) का जन्म ऐसे समय हुआ जब समाज में ऊंच-नीच, छुआछूत, झूठ और कपट का बोलबाला था। उनका जन्मस्थान छत्तीसगढ़ के रायपुर जिले में गिरौद नामक ग्राम में बताया जाता है।
23
24
दाउदी बोहरा समुदाय (Spiritual Leader) इस्लाम धर्म के शिया इस्माइली शाखा का ही एक धार्मिक संप्रदाय है और इसी समुदाय के धर्मगुरुओं के 51वें धर्मगुरु सैयदना ताहेर सैफुद्दीन साहब के घर सन् 1915 में एक तेजस्वी बालक ने जन्म लिया था
24
25
आध्यात्मिक गुरु सत्य साईं बाबा को उनके चमत्कारों के कारण जाना जाता है जिसके चलते वे विवादों में भी रहे हैं। हालांकि उन्होंने जो समाज सेवा की है वह अतुलनीय है। उन्हें उनकी समाज सेवा के लिए जाना जाना चाहिए। वे कहते भी हैं कि प्रार्थना करने वाले हाथों ...
25
26
आदि शंकराचार्यजी ने बहुत कम उम्र में ही बहुत बड़ा कार्य किया था। उनके बारे में कुछ लोगों ने बहुत ज्यादा भ्रम फैला रखा है और कई लोग उनके बारे में कम ही जानते हैं। आओ जानते हैं उनके बारे में 10 खास बातें।
26
27
पाण्डुरंग शास्त्री अठावले प्रसिद्ध भारतीय दार्शनिक तथा समाज सुधारक थे। उनका जन्म 19 अक्टूबर 1920 को मुंबई में और निधन 25 अक्टूबर 2003 को मुंबर में ही हुआ था। उन्हें समाज में 'दादा' (बड़ा भाई) के नाम से भी जाना जाता था। आओ जानते हैं उनका परिचय।
27
28
आज महाराष्ट्र के तेरहवीं सदी के महान संत ज्ञानेश्वर की पुण्यतिथि है। संत ज्ञानेश्वर का जन्म ई. सन् 1275 में भाद्रपद मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले में पैठण
28
29
ज्ञानेश्वर का जन्म 1275 ईस्वी में महाराष्ट्र के अहमदनगर ज़िले में पैठण के पास आपेगांव में भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को हुआ था। मात्र 21 वर्ष की उम्र में संसार का परित्याग कर समाधि ग्रहण की तथा 1296 ई. में उनकी मृत्यु हुई।
29
30
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार वाल्मीकि का जन्म आश्विन माह की शरद पूर्णिमा के दिन हुआ था। इस बार 20 अक्टूबर 2021 को उनकी जयंती मनाई जाएगी। आओ जानते हैं कि वह क्या कारण था जिसके चलते वाल्मीकि ने महाकाव्य रामायण की रचना की थी।
30
31
Meerabai Jayanti: प्रत्येक वर्ष अश्विन मास की शरद पूर्णिमा के दिन भगवान श्री कृष्ण की भक्त मीराबाई की जयंती का पर्व मनाया जाता है। इस बार मीराबाई जयंती 20 अक्टूबर 2021 दिन बुधवार यानि आज मनाई जा रही है।
31
32
आदिकवि महर्षि वाल्मीकि जी ने रामायण की रचना करके हर किसी को सद्‍मार्ग पर चलने की राह दिखाई। पावन ग्रंथ रामायण में प्रेम, त्याग, तप व यश की भावनाओं को महत्व दिया गया है। वाल्मीकि के अनुसार दुख और विपदा जीवन के 2 ऐसे मेहमान हैं, जो बिना निमंत्रण के ही ...
32