आखिर चीन कैसे बचा Coronavirus की दूसरी लहर से?

Last Updated: बुधवार, 21 अप्रैल 2021 (17:47 IST)
(Coronavirus) से दुनिया में कोहराम मचा हुआ है। अमेरिका, ब्राजील, ब्रिटेन, भारत, नेपाल, बांग्लादेश, जर्मनी, अर्जेंटीना, मंगोलिया समेत दुनिया के कई देशों में कोरोना महामारी की दूसरी लहर उफान पर है। चीन से अलग तरह की तस्वीरें सामने आ रही हैं। यहां पर लोग फेस्टिवल और पार्टियां मनाते दिखाई दे रहे हैं। चीन पर आरोप है कि उसने दुनिया में इस जानलेवा वायरस को फैलाया है।
ALSO READ:
केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक कोरोना से संक्रमित
आखिर इस भयावह वायरस पर चीन ने कैसे काबू पाया। दुनिया की सबसे बड़ी जनसंख्या वाले देश चीन में कोरोना के नियंत्रण की स्थिति बहुत अच्छी है। चीनी हेल्थ मिनिस्ट्री ने सोमवार को जानकारी दी कि अब सिर्फ 315 एक्टिव मामले हैं, जिनमें 241 मामले बाहर से आए हैं।
चीन ने कोरोना की सामान्य रोकथाम और कंट्रोल में कोई कसर नहीं छोड़ी। कोरोना कंट्रोल के लिए पूर्ण कार्य तंत्र स्थापित किया है। यातायात, दुकान, चिकित्सा सर्विस वगैरह संवेदनशील व्यवसायों में लगे लोगों के प्रति नियमित रूप से कोरोना जांच की जाती है और सार्वजनिक स्थलों पर शारीरिक तापमान जांच व क्यूआर कोड की पुष्टि की जाती है और मास्क पहनना अनिवार्य है। चीन बाहर से आने वाले लोगों के प्रति एक बंद दायरे वाली प्रबंधन व्यवस्था लागू करता है और कड़े क्वारंटीन कदम अपनाता है। चीन ने बाहर से आने वाले खतरे को निचले स्तर पर घटाया है।
जवाबदार अधिकारी : चीन में स्थानीय अधिकारियों के प्रति सख्त जबावदेह व्यवस्था है। महामारी के निपटारे में लापरवाही बरतने और अक्षमता होने वाले अधिकारियों को फौरन ही पद से हटा दिया गया और नियमों के मुताबिक सजा दी गई। इस मार्च में रुइली क्षेत्र में महामारी पैदा होने के बाद स्थानीय सीपीसी समिति के सचिव कोंग युनजुन को उनके पद से बर्खास्त कर दिया गया।

सरकार के दिशा-निर्देशों का पालन करते लोग : कोरोना से बचने के सरकार के दिशा-निर्देशों का चीनी लोगों ने पूरी तरह पालन किया। फरवरी में चीन का सबसे बड़ा वसंत त्याहोर आने से पहले चीन सरकार ने लोगों से कार्य स्थल पर त्योहार मनाने और गृहनगर वापस न जाने का आग्रह किया। अंत में वसंत त्योहार के दौरान यात्रियों की संख्या वर्ष 2019 और वर्ष 2020 की तुलना में अलग-अलग तौर पर 70.9 प्रतिशत 40.8 प्रतिशत कम हुई। वायरस की चेन तोड़ने और महामारी के नियंत्रण में आम लोगों का बड़ा सहयोग मिला।

कंट्रोल के लिए छोटे दायरे बनाना : चीन ने महामारी को कंट्रोल करने के लिए छोटे उपाय शुरू किए। पिछले साल 8 अप्रैल को चीन के वुहान शहर में लॉकडाउन हटाया गया, जिसका मतलब है चीन ने कोरोना के साथ लड़ाई में जीत पा ली। इसके बाद चीन में पेइचिंग का शिनफाती थोक बाजार, हपेइ प्रांत का शीचुआंग शहर और दक्षिण चीन के रुइली क्षेत्रों में महामारी फैली, लेकिन चीन ने जल्दी से उस पर कंट्रोल कर लिया।

चीन ने अपने पिछले अनुभव से इन पर भी काबू पा लिया, जैसे कोविड संक्रमित व्यक्ति से संपर्क में आने वाले लोगों का शीघ्र ही पता लगाकर उन्हें क्वारंटीन करना, संबंधित क्षेत्रों में लॉकडाउन लगाना, बड़े पैमाने पर कोरोना टेस्ट करना आदि।



और भी पढ़ें :