इस लेख के लिए टिप्पणियाँ बंद हो गयी है..

टिप्पणियां

hlk joshi

जी हाँ.
X REPORT ABUSE Date 26-10-13 (12:20 PM)

D B S SENGAR

ये देश के मतदाता कि बेबसी ही हे कि पाँच साल में एक बार उसे अपना नेता चुनने का मौका हमारा सविधान देता हे,उसके बाद उस नेता पर हमारा सीधा कोई सरोकार नही होता,वो हमारे प्रीति उतरदायि होने के वो अपनी पार्टी कि नीतियाँ का हितचिंतक हो जाता हे,ऐसे में जनता सिर्फ़ अगले पाँच साल इंतज़ार के कुछ भी तो नही कर पाती, क्या ऐसा नही हो सकता कि एक जंन प्रितिनिधि पर मतदाताओं का अंकुश रहे,येहि बात सरकार पर लागू हो,
X REPORT ABUSE Date 28-09-13 (05:09 PM)

iqbalahmed jakati

right to reject sirf ek drama hai, waise bhi desh ki janata ab zahani gulaami me mubtala hai.paisa dekar vote kharidana ek aam baat banti ja rahi hai...kaisa bhi kaanoon paisewalo ke samne laachar nazar aa raha hai...kisi bhi right to reject ko political leader manage kar lete hai......kuch nahi hone wala.....ek hal ye hai ke political leader aur currupt police officers jail bhejna shuru karo sab thik ho jaayega....
X REPORT ABUSE Date 28-09-13 (11:12 AM)

Niraj kimar

मतदाता को 'राइट टू रिजेक्ट' नही मिल पाएगा, क्योकि चोर के सामने ताला क्या और बेईमान के सामने केवाला क्या, सब नेता समान है लुटो और अपना पेट भरो, जनता को प्याज के आँसू रोलाव| अँगरेज का नीति था फुट डालो राज करो और अभी के नेता का नीति है गरीब को लुटो अपना पेट भरो|
X REPORT ABUSE Date 27-09-13 (04:55 PM)

Harish Bisht

मेरे को तो दोनों Right To Reject और Right To Recall दोनों ही अछे निर्णय लगे सुप्रीम कोट के.... अब मजा आएगा. कांग्रेस के बहुत से नेता बाहर होने वाले है..... मुझे लगताहऐ सुप्रीम कोट अब जग गया हे. CBI को भी ये समझना चाहिए.
X REPORT ABUSE Date 27-09-13 (02:58 PM)

pramod kumar

यही काम पहले करना था, तो देश आज और भी आगे होता.
X REPORT ABUSE Date 27-09-13 (01:11 PM)

NITIN DUSANE

कयदेसे सोचे तो कंपनी फर्म व्यक्तिसमूह व्यक्ति देश राज्य इनका अपना स्वतंत्र अस्तित्व है और ये फ़ैसला देश के हिट में बहुत बड़ा फैसला है जो ग़लत को ग़लत साबित करना जनता के लिए सहज हो जयेगा ये जनता कि बहुत बड़ी जीत है और देश कि तरक्कि का अहम् कदम होगा जो लोग रजनीति को इन्वेस्टमेंट सेक्टर बनाना चहते है वो दस कदम दूर् ही रहेंगे.जनता को दिवाली बनाना चाहिए
X REPORT ABUSE Date 27-09-13 (01:04 PM)

sonu sharma

मा0 उच्च्तम नययलया के आदेश जोकि दोषी नेता से सम्बंदित था उस को बदल रहे है तो इस राईट टू रेकोल के आदेश को ये नेता लोग स्वीकार कैसे करेंगे
X REPORT ABUSE Date 27-09-13 (12:47 PM)