इस लेख के लिए टिप्पणियाँ बंद हो गयी है..

टिप्पणियां

Rahul Indalkar

जो लोग नौकरी करते हे वह लोग टैक्स देना चाहिए. तो जो लोग बिज़नेस करते है क्या उनलोगो को भी टैक्स नहीं देना चाहिए? ४०००० की नौकरी वाला टैक्स भरता है. लेकिन ४०००० कमाने वाला रिक्शावाला टैक्स क्यों नहीं भरता? मेने देखा है की चाय की दुकान वाला १ महीने में ५०००० - ६०००० आराम से कमा लेता है. मनमोहन जी ये सब लोग भी भारत के ही नागरिक है. उनको जीतनी फैसिलिटी सरकार से मिलती है, हमको भी इतनी ही मिलती है. इन लोगो को पता नहीं हे की टैक्स क्या होता है इस लिए. मोदी जी ने ये सब बिज़नेस मैन को टैक्स की ABCD सीखना चालू करदिया है. जब ये लोग सिख जायेंगे तब देखना GDP कहा तक पहुँचता है. बुलेट ट्रैन के मामले में आपके साथ हु. अभी २ लाइन चल रही है ट्रैन में. मेरा मानना है की अगर हम २ लाइन की जगह ६ लाइन करदे तो और फायदा होगा. २ लाइन Goods ट्रैन के लिए + २ लाइन सुपर फ़ास्ट ट्रैन के लिए + २ लाइन लोकल लाइन के लिए इसके फायदे बहोत है. हाईवे के ऊपर जो ट्रक जाते है वह कम हो जायेंगे. प्रदुषण कम होगा. सस्ता ट्रांसपोर्टेशन मिलेगा. टोल टैक्स में भीड़ भी कम हो जाएगी.
X REPORT ABUSE Date 07-11-17 (06:47 PM)

Rahul Indalkar

मनमोहन जी मैं एक प्रामाणिक नौकरी करने वाला इंसान हु. मैं आपको एक बात साफ तौर से बता देना चाहता हु की नोटेबंदी चालू हुई तब से अभी तक मुझे कोई भी प्रकार की मुश्किल नहीं आई. नोटेबंदी के सात दिन बाद मेरी बहन को हॉस्पिटल में एडमिट करना पड़ा वहा भी मुझे कुछ भी प्रॉब्लम नहीं आई. मेरा मानना है की जो लोग विथाउट टैक्स बिज़नेस करते है उनको ही प्रॉब्लम आ रही है. अब आप बात करलो GST की. चीन को क्यों फायदा हुआ? क्या ये बात इंडिया वालो को नहीं बताएँगे? अगर सच बोलना है तो पूरा सच बोलो. एक बात बताओ मुझे जो आदमी ४०००० की नौकरी करता है क्या उसको ही टैक्स भरना पड़ेगा? ये जो रिक्शा चलाते है, चाय का धंधा करते है, हिरे और कापड का धंधा करते है वोह लोग तो ५०००० - ६०००० कमाते है एक महीने में. क्या उनलोगो को टैक्स भरना हमारे कानून के खिलाफ है. सरकार सभी लोगो को एक जैसी ही सर्विस देती है तो ये सब बिज़नेस मैन क्यों टैक्स ना भरे? इनके बाप दादा को पता नहीं की टैक्स क्या है इस लिए GST से डर गए है. मोदी जी ने इन सबको GST की ABCD सिखाना चालू करदिया है. जब ये लोग GST की ABCD सिख जायेंगे तब चीन को भी पीछे छोड़ देगा इंडिया. पिछले पांच सालो में चाइना के १०००००० भ्रष्टाचारी सरकारी कर्मचारीाओ को जेल में बंध किया है. ये बाते इंडिया वालो को भी बताओ. बुलेट ट्रैन के दृष्टिकोण से मैं आपके साथ हु. मेरा मानना ये है की अभी २ लाइन सभी जगह पर चल रही है. अगर हम २ लाइन की जगह ६ लाइन करदे तो.... २ लाइन गुड्स ट्रैन के लिए २ लाइन सुपर फ़ास्ट ट्रैन के लिए २ लाइन लोकल ट्रैन के लिए. इस से हमें फायदा ये होगा की हाईवे पर जो ट्रक का ट्राफिक है वोह कम हो जायेगा. प्रदुषण भी कम हो जायेगा. और ट्रांसपोर्टेशन और सस्ता हो जायेगा. टोल टैक्स की भी झंझट नहीं. सारी ट्रैन इलेक्ट्रिक पावर से चलाओ क्रूड आयल भी बच जायेगा. अब बात ये है की ये सब करके कितने सारे भ्रस्टाचारी चोरो की रोज़ी रोटी बंध हो जाएगी. टोल टैक्स की चोरी बंध हो जाएगी. ट्राफिक के चलन बंध हो जायेंगे पेट्रोल में मिलावट करने वाले पेट्रोल पंप में आकाल आ जायेगा. कार कंपनी वालो की तो बैंड बज जाएगी. etc .........
X REPORT ABUSE Date 07-11-17 (08:37 PM)