इस लेख के लिए टिप्पणियाँ बंद हो गयी है..

टिप्पणियां

क्षितिज त्रिवेदी

यह हमारा और हमारे देश का दुर्भाग्य है कि चेतन भगत जैसे लेखक इस तरह के विचार रखते हैं। उनके बहुत से युवा प्रशंसक है जो उनकी बातों का अनुसरण करते हैं, ऐसे वक्तव्य से वे अपने प्रशंसकों को गलत शिक्षा दे रहे हैं । उन्हें चाहिए कि वे हिंदी के साथ देवनागरी के भी संरक्षण और उत्थान में सहयोग दें क्योंकी लिपि के बिना भाषा अधूरी है ।
X REPORT ABUSE Date 09-01-15 (03:34 PM)

Chandan Kumar

kya sas se jada pyar mile ya wo jada prabhavshali ho to maa se alag ho jaoge.
X REPORT ABUSE Date 09-01-15 (05:40 PM)

Arun

my only question is who chetan bhagat, so why even discuss what he said?
X REPORT ABUSE Date 12-01-15 (02:21 AM)