‘साँवरिया’ की नायिका : सोनम कपूर

Sonam Kapoor
IFM
संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘साँवरिया’ से ऋषि कपूर के बेटे रणबीर कपूर और अनिल कपूर की बेटी सोनम कपूर अपना करियर शुरू करने जा रहे हैं। सोनम के दादा सुरेन्द्रनाथ कपूर फिल्म निर्माता रह चुके हैं और कपूर खानदान के वे काफी नजदीक हैं। उनके तीनों बेटे बोनी, अनिल और संजय फिल्मों से जुड़े हुए हैं। सोनम के रूप में अब इस कपूर खानदान की तीसरी पीढ़ी बॉलीवुड में प्रवेश कर रही है।

घर पर नहीं था फिल्मी माहौल
फिल्म कलाकार होने के बावजूद अनिल कपूर के घर पर फिल्मी माहौल नहीं है। अनिल कभी भी फिल्मों की बातें घर पर नहीं करते थे। सोनम की मम्मी भी गैर-फिल्मी परिवार से हैं। सोनम कभी भी अपने डैड की फिल्मों के प्रीमियर या शूटिंग पर नहीं गई।

वह सलमान खान की जबरदस्त प्रशंसक है, इसलिए एक बार अनिल उसे अपने साथ सलमान से मिलवाने शूटिंग स्थल पर ले गए थे। सोनम की यह खुशकिस्मती है कि उसकी पहली फिल्म ‘साँवरिया’ में सलमान खान भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। सोनम को घर पर कभी भी स्टार की बेटी होने के कारण विशेष दर्जा नहीं मिला। बचपन में उसके साथ एक सामान्य लड़की की तरह ही व्यवहार किया जाता था।

अभिनय की चाहत
एक फिल्मी परिवार की होने के कारण सोनम का झुकाव भी फिल्मों की ओर था। टेलीविजन पर जब वह नायिकाओं को नाचते हुए देखती थी तो उसके दिल में भी अभिनय का खयाल आता था। लेकिन उसने यह बात कभी भी अपने माता-पिता को नहीं कही। सोनम बचपन में बहुत मोटी थी और अपने आपको सुंदर भी नहीं मानती थी, शायद इसीलिए वह अपनी इच्छा बताने में हिचकती थी।

भंसाली जैसा कोई नहीं
एक फिल्मकार के रूप में सोनम को भंसाली की‍ फिल्में बेहद पसंद हैं। उसने संजय द्वारा निर्देशित प्रत्येक फिल्म को पच्चीस बार से ज्यादा देखा है। पढ़ाई के सिलसिले में वह सिंगापुर दो वर्ष तक रही। वहाँ से लौटने के बाद उसने अपने पिता अनिल कपूर से भंसाली का सहायक बनने की इच्छा व्यक्त की। उस समय भंसाली ‘ब्लैक’ बना रहे थे। इस फिल्म में वह संजय लीला भंसाली की सहायक रही। भंसाली की काम करने की शैली से वह चकित थी। उस दौरान सोनम ने कभी सोचा भी नहीं था कि एक दिन वह भंसाली जैसे महान निर्देशक के साथ काम करेगी।

जब वह 18 वर्ष की थी तो भंसाली ने जब एक बार उससे पूछा कि क्या वह उनकी फिल्म में काम करना पसंद करेगी? सोनम ने अपने पिता से बात करने को कहा। अनिल कपूर के घर पहुँचकर भंसाली ने अनिल से पूछा कि वे सोनम को अपनी फिल्म में नायिका के रूप में लेना चाहते हैं। अनिल के हाँ कहते ही सोनम को ‘साँवरिया’ की नायिका बनने का अवसर मिल गया।

समय ताम्रकर|
Sonam Kapoor
IFM
उस समय सोनम का वजन बहुत ज्यादा था। भंसाली ने उसे वजन कम करने को कहा और उसके व्यक्तित्व में निखार लाया। भंसाली से सोनम बेहद ज्यादा प्रभावित हैं। उसके मुताबिक फिल्म की शूटिंग के दौरान लगातार भंसाली के साथ रहने से उनके बीच बेहद अच्छे संबंध बन गए हैं। वह भंसाली को अपना पिता, दोस्त और गुरू सब कुछ मानती है।



और भी पढ़ें :