अक्षय तृतीया : त्रेता युग का विलक्षण संयोग

फिर बन रहे हैं परशुराम के जन्म संयोग

FILE


कहा जा रहा है कि इस बार अक्षय तृतीया बिलकुल उन्हीं संयोगों के बीच मनाई जाएगी, जिन संयोगों में भगवान परशुराम का जन्म हुआ था। यानी अक्षय तृतीया पर्व पर वैशाख शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि, रोहणी नक्षत्र, सूर्य, चंद्र व शनि अपनी उच्च राशि में गोचर करेंगे।
इसी दिन राजयोग व रवि योग का संयोग भी बन रहा है।




और भी पढ़ें :