1. खेल-संसार
  2. »
  3. क्रिकेट
  4. »
  5. विश्वकप 2011
Written By WD

पाकिस्तान पर हमेशा भारी पड़े हैं सचिन

वैसे तो क्रिकेट के भगवान के आगे दुनिया की सभी टीमें हाथ जोड़ती है पर यह जीनियस कुछ टीमों के खिलाफ कुछ ज्यादा ही अच्छा खेलता है। मास्टर ब्लॉस्टर सचिन तेंडुलकर विश्वकप मुकाबले में भारत-पाक के बीच अब तक हुए पाँच मुकाबले में तीन बार मैन ऑफ द मैच का खिताब पा चुके हैं।
PTI
FILE

1992: क्रिकेट विश्व कप में भारत और पाकिस्तान पहली बार 1992 विश्व कप में आपने-सामने हुए थे। इस मैच में भारत ने पाकिस्तान को 217 रनों का लक्ष्य दिया था जिसमें पाकिस्तान को 43 रन से हार झेलनी पड़ी थी। भारत की ओर से कपिल देव, मनोज प्रभाकर और जवगल श्रीनाथ ने 2-2 विकेट लेकर इस मैच का रुख पलट दिया था। इस मैच में सचिन तेंडुलकर ने अर्धशतक लगा कर मैन ऑफ द मैच का खिताब अपने नाम किया था। पर यह विश्वकप पाकिस्तान जीता था।

1996 : भारतीय उपमहाद्वीप में हुए इस विश्व कप में बैगलुरू में एक बार फिर दोनों टीमें आमने-सामने हुई थी। इसमें भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए पाकिस्तान को 288 रनों का लक्ष्य दिया। आमिर सुहैल के अलावा कोई भी बल्लेबाज भारतीय गेंदबाजी के आगे नहीं चला और पाकिस्तानी टीम 248 पर ढेर हो गई। इस मैच में नवजोत सिंह सिद्धु 93 रन बना कर मैन ऑफ द मैच रहे।

1999: इंग्लैंड में आयोजित विश्वकप में मैनचेस्टर में फिर से भारत-पाक भिड़े। भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 227 का स्कोर किया। पर पाकिस्तान की टीम सिर्फ 180 रनों पर ही सिमट गई। इस मैच में वेंकटेश प्रसाद ने घातक गेंदबाजी करते हुए आधी पाक टीम को पैविलियन का रास्ता दिखा कर 'मैन ऑफ द मैच' हासिल किया।

2003: दक्षिण अफ्रीका के सेंचुरियन में पाकिस्तान ने पहले बल्लेबाजी करते हुए सईद अनवर के शतक की मदद से 273 रन बनाए। पर भारत ने सिर्फ 46 ओवर में चार विकेट के नुकसान पर पाकिस्तान को एक बार फिर हरा दिया। इस मैच में सचिन तेंडुलकर ने शोएब अख्तर और वकार यूनुस की गेंदों पर आतिशी पारी खेलते हुए 98 रन बना मैन ऑफ द मैच का खिताब झपटा था।

2011: एक बार फिर से भारतीय उपमहाद्वीप में हो रहे विश्वकप के सेमीफायनल मुकाबले में मोहाली में दोनों टीमों के महामुकाबले में भारत और पाकिस्तान आमने-सामने हुए। भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी कर पाकिस्तान को 261 रनों का लक्ष्य दिया। रोमांचाक मुकाबले में पाकिस्तान की पूरी टीम आखिरी ओवर तक किला लड़ाती रहे पर एक गेंद रहते ही 231 रनों पर ही सिमट गई। 85 रनों की पारी खेलने पर एक बार फिर सचिन तेंदुलकर को 'मैन ऑफ द मैच' चुना गया। (वेबदुनिया डेस्क)