निफ्टी में करेक्शन मिड-केप को समर्थन

ND| पुनः संशोधित सोमवार, 12 नवंबर 2007 (12:12 IST)
- शैलेंद्र कोठारी
नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में समीक्षाधीन सप्ताह के दौरान पॉवर, बैंक, कैपिटल गुड्स, टेलीकॉम तथा ऑइल एंड गैस सेक्टर के हैवीवेट शेयरों में उच्च स्तर पर बिकवाली दबाव बढ़ जाने के कारण नवंबर निफ्टी कुल 327 प्वॉइंट्स या साढ़े 5 प्रश के साप्ताहिक घाटे के साथ 5628 पर बंद हुआ।

बेचान सिर्फ लार्ज-कैप शेयरों तक सीमित था, क्योंकि उक्त सभी सेक्टरों के कई मिड-केप शेयरों के भाव या तो तेज हुए या फिर तुलनात्मक रूप से कम घटे हैं। पॉवर सेक्टर की फ्यूचर कंपनियों में नैवेली लिग्नाइट, जेपी हाइड्रो एवं एनटीपीसी के भाव साप्ताहिक मुनाफे में बंद हुए हैं। बैंकिंग एवं फाइनेंस के फ्यूचर शेयरों में फेडरल बैंक, पॉवर फाइनेंस, देना बैंक एवं रिलायंस कैपिटल मुनाफे में बंद हुए हैं।
रिफाइनरी शेयरों में चेन्नाई पेट्रो, एमआरपीएल एवं बोंगईगाँव रिफाइनरी भी बढ़त लेकर बंद हुए हैं। ऑइल एंड गैस सेक्टर की कंपनियों में गैल के भाव बढ़े हैं जबकि पेट्रोनेट एलएनजी के भाव मजबूती से टिके रहे हैं।

डेरिवेटिव्ज विश्लेषकों का कहना है कि फ्यूचर के 213 शेयरों में 46 कंपनियों ने साप्ताहिक बढ़त ली है जबकि 109 के भाव निफ्टी की तुलना में कम घटे हैं। निष्कर्ष यह है कि निफ्टी में भारी गिरावट आने के बावजूद अंतरप्रवृत्ति मजबूत बनी हुई है तथा निवेशक हॉट सेक्टर्स के मिड-कैप शेयरों में लगातार खरीदी कर रहे हैं।
उक्त शेयरों के अलावा आरपीजी ट्रांसमिशन, जीएमआर इंफ्रा, गोदरेज इंडस्ट्रीज, पॉवर ट्रेडिंग, गुजरात इंडस्ट्रीयल पॉवर, एडलैब्स फिल्म्स, केईसी इंटरनेशनल, मधुकॉन प्रोजेक्ट्स, बॉयोकॉन, आईएनजी वैश्य बैंक, पॉवर ग्रिड, इंडिया बुल्स फाइनेंशियल सर्विसेस, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, बिंदल एग्रो, यूनियन बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, गुजरात स्टेट फर्टिलाइजर्स, आरसीएफ, ज्योति स्ट्रक्चर, मोनेट इस्पात, एवरेस्ट कैंटो, नागार्जुन फर्टिलाइजर्स एवं रिलायंस एनर्जी इत्यादि शेयरों में भी बड़े खिलाड़ी खरीदी जारी रखे हुए हैं।
एमआरएफ, ड्रेजिंग कॉर्पोरेशंस, वोलटेंप, न्यूमेरिक पॉवर एवं प्राइम फोकस के भाव तेज गति से बढ़े हैं, इसलिए निवेशक इन शेयरों में नई खरीदी के लिए करेक्शन का इंतजार कर रहे हैं।

लंबे समय से अंडरपरफार्मर रहे ऑइल मार्केटिंग शेयरों में आईओसी के चार्ट पर अच्छे संकेत मिल रहे हैं। इस काउंटर पर बड़े खिलाड़ियों की सक्रियता दिख रही है। इसलिए निवेशक आईओसी, बीपीसीएल एवं एचपीसीएल के मूवमेंट में आ रहे बदलाव पर विशेष नजर रखते हुए सिर्फ दीर्घावधि उद्देश्य से खरीदी कर सकते हैं।
नए इश्युओं में मुंद्रा पोर्ट को संस्थागत निवेशकों का जोरदार रिस्पांस मिला है। इश्यू में 99,000 रु. की एप्लीकेशन लगाने वाले निवेशकों को 15 शेयर्स मिल सकते हैं। इस इश्यू में औसत से ज्यादा रिटर्न मिलने की संभावना है। अगले कुछ दिनों में इडेलवाइज कैपिटल एवं कोल्टे-पाटिल डेव्लपर के इश्यू खुलने वाले हैं। वित्तीय सेवा क्षेत्र में इंडेलवाइज की पकड़ एवं प्रतिष्ठा बढ़ रही है। निवेशक लिस्टिंग गेन को ध्यान में रखते हुए इश्यू में आवेदन कर सकते हैं। हालाँकि इस इश्यू में अलॉटमेंट टफ होंगे।
प्रॉपर्टी डेवलपमेंट क्षेत्र की कंपनी कोल्टे- पाटिल का इश्यू वाजिब भावों पर जारी हो रहा है। निवेशक इस इश्यू में संस्थागत निवेशकों के रिस्पांस को देखने के बाद आवेदन करें तो बेहतर होगा।

सोना
अमेरिकी अर्थव्यवस्था के बारे में बढ़ रही अनिश्चितता के कारण सुरक्षित निवेश के रूप में सोने की खरीदी करने की बढ़ती प्रवृत्ति को दर्शाते हुए इस सप्ताह अंतरराष्ट्रीय बाजारों में सोने के भाव सर्वकालिक ऊँचाई के करीब पहुँच गए थे। भावों में बढ़त के पैटर्न से संकेत मिल रहे हैं कि सोने में फंड वालों की लगातार खरीदी चल रही है तथा अब 800 डॉलर प्रति ट्राय औंस एक महत्वपूर्ण समर्थन स्तर बन गया है।
चाँदी
अंतरराष्ट्रीय बाजारों में मई 2006 में बनाए हाई को सिल्वर ने निर्णायक रूप से पार करते हुए तेजी के नए जोन में प्रवेश कर लिया है। सिल्वर में लो-फ्लोटिंग व सट्टात्मकता के कारण उतार-चढ़ाव ज्यादा हो रहे हैं। लेकिन नई ऊँचाई पर पहुँचने के कारण मुख्य प्रवृत्ति तेजी की ही बनी रहेगी तथा अब 14-14.50 डॉलर महत्वपूर्ण समर्थन स्तर बन गए हैं।


और भी पढ़ें :