गुलाबी नगरी रक्तरंजित, 65 मरे

आतंकवादी धमाकों में 200 से ज्यादा घायल

जयपुर (वेबदुनिया/एजेंसियाँ)| WD| Last Updated: बुधवार, 9 जुलाई 2014 (20:02 IST)
आतंकवादियों ने मंगलवार शाम पहली बार गुलाबी नगरी जयपुर को निशाना बनाया और संदिग्ध हूजी आतंकवादियों ने 12 मिनट के भीतर भीड़भाड़ वाली जगहों पर आठ सिलसिलेवार बम विस्फोट किए जिसमें करीब 65 लोगों की मौत हो गई और 200 अन्य घायल हो गए।

इन विस्फोटों को हवा महल के निकट सहित विभिन्न इलाकों में साइकिलों के जरिये अंजाम दिया गया, जहाँ विदेशी पर्यटक आमतौर पर आते हैं। विस्फोटोबाकाफदेशहमोबाइटेलीफोलाइनेजागईं, जिससदूसरशहरोमेमौजूलोअपनपरिजनोरिश्तेदारोखैरियजाननलिपरेशाहोतरहे
जयपुर के पुलिस महानिरीक्षक पंकजसिंह ने कहा ये धमाके त्रिपोलिया बाजार, जौहरी बाजार, माणक चौक, बड़ी चोपड़ और छोटी चोपड़ पर हुए। धमाकों की तीव्रता कम थी। त्रिपोलिया बाजार में भी एक विस्फोट हुआ, जहाँ एक हनुमान मंदिर है और उस समय वहाँ भारी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित थे।

ये सभी धमाके दो किलोमीटर के दायरे में हुए। पुलिस ने कहा कि हनुमान मंदिर के निकट बम निरोधक दस्ते ने एक विस्फोटक को निष्क्रिय कर दिया है। मौके पर खून बिखरा पड़ा था। धमाके इतने शक्तिशाली थे कि कुछ लोगों के शव तो कुछ फुट ऊपर तक उड़ गए।
हमले की साजिश काफी सावधानी से रची गई थी। पहला घमाका शाम सात बजकर 40 मिनट पर हुआ और उसके कुछ ही मिनटों के भीतर अन्य धमाके हुए। राजस्थान के पुलिस महानिदेशक एएस गिल ने कहा कि निश्चित तौर पर यह आतंकवादी हमला था।

विस्फोट के बाद राजस्थान में रेड अलर्ट घोषित कर दिया गया, जबकि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सभी राज्यों को सतर्क कर दिया। मंदिर नगरी अयोध्या और फैजाबाद में भी प्रशासन ने अलर्ट घोषित कर दिया और वहाँ सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है।
हूजी पर शक : जयपुर विस्फोटों के लिए प्रतिबंधित हरकत उल जेहादी (हूजी) पर शक किया जा रहा है, जो बांग्लादेश से अपनी गतिविधियाँ चलाता है। उल्लेखनीय है कि वाराणसी के संकटमोचन हनुमान मंदिर, कानपुर, लखनऊ आदि स्थानों पर हुए बम धमाकों में भी हूजी का हाथ था।

सूत्रों ने कहा कि जयपुर में आतंकवादी हमले की आशंका नहीं थी, लेकिन संदेह है कि इसे हूजी ने अंजाम दिया है। विदेशी पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र रहने वाले पुराने शहर में जैसे ही एक के बाद एक कर धमाके हुए कि वहाँ भगदड़ मच गई। मृतकों में नौ महिलाएँ भी हैं। आतंकवादियों ने पहली बार गुलाबी नगरी को अपने नापाक मंसूबे का निशाना बनाया है।
टाइमर का इस्तेमाल : प्राप्त जानकारी के अनुसार विस्फोटों के लिए टाइमर और रिमोट का इस्तेमाल किया गया है। विस्फोटक के रूप में आरडीएक्स का इस्तेमाल किए जाने की संभावना है। हालाँकि वास्तविकता फोरेंसिक जाँच के बाद ही सामने आ सकेगी।

दो संदिग्ध गिरफ्तार : खबर है कि पुलिस ने दो संदिग्ध लोगों को हिरासमेलियै, जिनसे पूछताछ के बाद विस्फोटों के बारे में कुछ जानकारी मिलनसंभावनहै
खून की कमी : सवाई मानसिंह अस्पताल समेत शहर के विभिन्न अस्पतालों में भर्ती घायलों के लिए रक्त की काफी कमी महसूस की जा रही है। खासकर 'ओ' और 'बी' नेगेटिव समूह का रक्त उपलब्ध नहीं हो पा रहा है, जिससे उपचार में काफी बाधाएँ आ रही हैं।

हाई अलर्ट : दिल्ली में केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल ने जयपुर में हुए बम धमाकों को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए घटना की कड़ी निंदा की है। उन्होंने कहा कि इस घटना के बाद देश के महानगरों के साथ ही साथ द्वितीय श्रेणी के शहरों को हाई अलर्ट पर रखा गया है। हम राज्य सरकार से आग्रह करेंगे कि वह अपनी सिस्टम का पुन: निरीक्षण करें।
हेल्पलाइन नंबर : 0141-2574456 (कंट्रोल रूम), 0141-2619728 (सांगानेरी अस्पताल), 0141-2560291, 92, 93 (सवाई मानसिंह अस्पताल)

धमाकों के पीछे हूजी का हाथ!
मृतकों के मोबाइल पर ही दी मौत की सूचना
पिछले कुछ विस्फोटों का ब्योराआंध्रप्रदेश में सतर्कता बढ़ाई गई
राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने निंदा की
संप्रग का नरम रवैया जिम्मेदार-भाजपा
सोनिया ने धमाकों की निंदा की
अमेरिका ने विस्फोटों की निंदा कीगुलाबी नगरी का इतिहास
युद्धक्षेत्र जैसा मंजर था!

 

और भी पढ़ें :