1. लाइफ स्‍टाइल
  2. »
  3. एनआरआई
  4. »
  5. एनआरआई साहित्य
Written By WD

क्या सुहावना यह संसार

लेखिका : शिम्रीत ओर

GN

क्या सुहावना यह संसार
इस संसार में सदा रहे प्यार
धन्यवाद कहें और कहते रहें
कि भगवान ने यह विश्व बनाया है
और मनुष्यों को मिला यह उपहार

रात बीत जाए, दिन चढ़े
इसके गुण भी हम गा रहे हैं
जो हुआ था, उसकी जयकार, मेरे यार
और जो होने वाला है, उसकी जयकार

क्या सुहावना यह संसार
इस संसार में सदा रहे प्यार
और हमारी यह जय-जयकार
गूंजा करेगी हजारों बार
हर जगह, यहां और समुंदर पार
रात बीत जाए।

हर इंसान को सुख मिले
हर घड़ी वह मौज से रहे
हाथ मिलाकर बन जाएंगे हम रिश्तेदार
और मिलकर गाएंगे यह जय-जयकार
रात बीत जाए...।

- हिब्रू से हिन्दी अनुवाद : डॉ. गेनादी श्लोम्पेर