सत्यम ने यूपेड को अदालत में घसीटा

नई दिल्ली| भाषा| पुनः संशोधित मंगलवार, 23 फ़रवरी 2010 (21:55 IST)
(पहले सत्यम कंप्यूटर) ने ब्रिटेन के अपने पुराने ग्राहक के खिलाफ कर देनदारी के संबंध में न्यूयॉर्क के एक न्यायालय में याचिका दायर की है।

याचिका में कहा गया है कि कि यूपेड के साथ उसके अदालत से बाहर हुए समझौते को लेकर अगर कोई कर बनता है तो उसकी देनदार ब्रिटेन की मोबाइल और ऑनलाइन भुगतान सेवाएँ उपलब्ध कराने वाली कंपनी यूपेड होगी।

पिछले साल दिसंबर में सत्यम ने यूपेड के साथ बौद्धिक संपदा अधिकार संबंधी विवाद को समाप्त करने के लिए ब्रिटेन स्थित इस कंपनी को सात करोड़ डॉलर का भुगतान करने की पेशकश की थी।
महिन्द्रा सत्यम सूत्रों के अनुसार इस समझौते में कर देनदारियों को लेकर यूपेड के साथ उसका समझौता नहीं हो पा रहा है।

बंबई शेयर बाजार को भेजी गई जानकारी में महिन्द्रा सत्यम ने कहा है कि 22 फरवरी 2010 को दायर याचिका में उसने न्यूयॉर्क कोर्ट से कहा है कि वे दोनों पक्षों के बीच हुए सुलहनामे को वैद्य करार दे। इसमें यह दावा किया गया है कि सत्यम के अनुसार उसके और यूपेड के बीच न्यायालय से बाहर हुए 7 करोड़ डॉलर के समझौते से पैदा होने वाले किसी भी कर देनदारी के लिए यूपेड ही पूरी तरह जिम्मेदार है। (भाषा)

 

और भी पढ़ें :