डेंटल असिस्टेंट व ऑप्टोमेट्री में बनाएं भविष्य

दीपिका शर्मा

ND|
ND
एक गहरी और अनमोल मुस्कराहट के लिए आप किस पर सबसे ज्यादा भरोसा करेंगे? हम यहां किसी टूथपेस्ट की बात नहीं कर रहे हैं। हम यहां चर्चा कर रहे हैं एक उभरते प्रोफेशन व ऑप्टोमेट्री की। लाखों रुपए सालाना वेतन और मॉर्डन लाइफस्टाइल। हाल ही में यू.एस. डिर्पाटमेंट ऑफ लैबर के ब्यूरो ऑफ लैबर स्टेटटिक्स ने भी डेंटल असिस्टेंट पर कुछ टिप्पणियां जारी की हैं। मेडिकल जगत में काफी तेजी से उभरे इस क्षेत्र ने कई युवाओं को प्रभावित किया है।

हालांकि भारत में मीडिया ने इस कोर्स को एक बड़े स्तर पर कभी नहीं दर्शाया लेकिन विदेशों में इस कोर्स की काफी मांग है और बड़ी-बड़ी अंतरराष्ट्रीय स्तर की कंपनियां आजकल मुहं मांगें वेतन पर डेंटल असिस्टेंट की नियुक्तियां कर रही हैं। धीरे-धीरे भारत में भी ऐसे संस्थान खुल रहे है जहां इस कोर्स का उत्तम प्रशिक्षण दिया जाता है।

वर्तमान परिप्रेक्ष्यडेंटल असिस्टेंट व ऑप्टोमेट्री एक उच्चस्तरीय करियर है। इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इसके रजिस्ट्रेशन व लाइसेसिंग का अधिकार डेंटल असिस्टिंग नेशनल बोर्ड जैसी प्रख्यात संस्थाओं के पास है। ताजा आंकड़ों के अनुसार भारत में करीब एक लाख से ज्यादा ऑप्टोमेट्री डॉक्टरों की जरूरत है। इससे स्पष्ट है कि फिलहाल आने वाले समय में इस क्षेत्र में नौकरियों की भरमार है। वर्ष 2009 में कमीशन ऑन डेंटल अक्रेडटेशन (सीओडीए) ने 281 डेंटल असिस्टिंग कार्यक्रमों को मंजूरी दे दी, जिसके बाद से जैसे इस कोर्स को चुनने वाले छात्रों की बाढ़ ही आ गई।
अगर अमेरिका का उदाहरण लें तो वर्ष 2008 में वहां आमतौर पर एक डेंटल असिस्टेंट की आमदनी 32,380 डॉलर सालाना थी जो कि भारतीय मुद्रा में लगभग 14.89 लाख रुपए है। वैसे वहां एक अनुभवी डेंटल असिस्टेंट सालाना 56,150 डॉलर लगभग 22.21 लाख रुपए आसानी से कमा सकते हैं।

विशेषज्ञों की राय
दिल्ली डेंटल क्लीनिक की डॉ. चंचल गोयल भी मानती हैं कि करियर के रूप में डेंटल असिस्टेंट व ऑप्टोमेट्री की भारत जैसे देश में अपार संभावानाएं हैं। इसमें करियर बनाने पर आप अच्छी आमदनी के साथ साथ सामाजिक सम्मान और सुनहरे भविष्य का सपना देख सकते हैं।
ND

दिल्ली डेंटल क्लीनिक के ही प्रधान डॉ. सुमित गोयल ने बताया कि शहरों में आज आपको डेंटल केयर अस्पताल और क्लीनिक की भरमार मिल जाएगी। बड़े शहरों में आमदनी भी अच्छी है। आप चाहें तो 12वीं के बाद सिर्फ बैचलर्स ऑफ डेंटल सर्जरी (बीडीएस) करके भी आप इस क्षेत्र में आ सकते हैं, यदि आप एमडीएस करते हैं तब तो सोने पर सुहागा होगा। एमडीएस के लिए आप अपनी रुचि के अनुरूप 8 विभिन्न क्षेत्रों में से किसी का भी चुनाव कर सकते है। आगे आपके हाथ में है चाहे तो अपना क्लीनिक खोल लें अथवा किसी भी अच्छे अस्पताल में व क्लीनिक में आप 30 से 40 हजार रुपए तक शुरुआती वेतन पर काम शुरू कर सकते हैं।
कोर्स एवं कार्यप्रणाली
इंडस्ट्री में एक प्रसिद्ध डेंटल असिस्टेंट बनने हेतु आपको डेंटल असिस्टिंग नेशनल बोर्ड द्वारा आयोजित किया रेडिएशन हेल्थ एंड सेफ्टी एग्जामिनेशन पास करना होता है। आमतौर पर एक डेंटल असिस्टेंट को मरीजों के डेंटल रिकॉर्ड जुटाने से लेकर डेंटल सर्जरी व जांच उपकरण संभालना, रेडियोग्राफी व एक्स-रे रिपोर्ट बनाना, नकली दांत बनवाने जैसे समस्त कार्य देखने होते हैं।
हालांकि इस कोर्स के दौरान आपको बायोलॉजी और केमेस्ट्री से लेकर हेल्थ और ऑफिस प्रैक्टिस जैसे विषय भी पड़ने पड़ेंगे। परंतु कोर्स पूरा होते ही आप एक अच्छी नौकरी पा सकते हैं। जिसमें मोटी आमदनी के साथ-साथ पूरा आराम हो और एक सामाजिक रुतबा भी।

यहां से करें कोर्स
1. मौलाना आजाद मेडिकल कॉलेज, नई दिल्ली।
2. सेठ जी.एस. मेडिकल कॉलेज, मुंबई।

3. आई.टी.एस. सेंटर फॉर डेंटल स्टडीज एंड रिसर्च, गाजियाबाद।

4. नैयर हॉस्पिटल डेंटल कॉलेज, मुंबई।

5. पटना डेंटल कॉलेज, पटना।

 

और भी पढ़ें :