मनमोहन की यात्रा ऐतिहासिक-अमेरिका

वॉशिंगटन| भाषा|
की यात्रा को ने ‘ऐतिहासिक’ बताते हुए कहा है कि दोनों देशों के कुछ चुनिंदा लक्ष्य इससे हासिल हुए हैं।

विदेश विभाग के प्रवक्ता इयान केली ने संवाददाओं से बातचीत में कहा कि 0यह वाकई एक ऐतिहासिक दौरा था जिसमें हमारे कुछ खास लक्ष्य थे।

केली सिंह के दौरे से संबंधित सवालों का जवाब दे रहे थे, जिसमें कई सहमति पत्रों पर दस्तखत हुए जबकि विशेषज्ञों के मुताबिक इसमें परमाणु करार से संबंधित ऐलान का अभाव रहा।
केली ने कहा मैं सोचता हूँ कि हम कुछ महत्वपूर्ण समझौतों पर पहुँचे और हमने यहाँ विदेश विभाग में कई समझौतों पर दस्तखत किए। विशेषज्ञों का लेकिन मानना है कि दौरे से बड़ी खबर नहीं आई जैसा कि पूर्ववर्ती बुश प्रशासन के दौरान सन् 2005 में परमाणु करार को लेकर आई थी।

लेकिन केली ने कहा मैं समझता हूँ कि मुख्य बात यह है कि इससे अमेरिका के दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के साथ बढ़ते संबंध रेखांकित हुए। ऐसे देश के साथ जिसकी न केवल क्षेत्रीय स्तर पर बल्कि विश्व स्तर पर महत्ता बढ़ रही है।
केली ने कहा कि हमने सहयोग और चर्चा खासकर ऊर्जा एवं जलवायु परिवर्तन के क्षेत्र में नए क्षेत्रों की शुरुआत के लिए की। लिहाजा मैं सोचता हूँ कि यह एक ऐतिहासिक यात्रा थी जिसमें हमने चुनिंदा लक्ष्य हासिल किए। उन्होंने कहा कि दीर्घकालिक संदर्भ में महत्वपूर्ण बात यह है कि हम क्षेत्रीय एवं वैश्विक मुद्दों पर एक सामरिक सहभागिता की जरूरत पर सहमत हुए। (भाषा)



और भी पढ़ें :