जेटली ने अंशुमन को दिया सौ करोड़ रुपए के मानहानि का नोटिस

नई दिल्ली| Naidunia| पुनः संशोधित मंगलवार, 27 मार्च 2012 (01:24 IST)
राज्यसभा में विपक्ष के नेता अरुण जेटली ने प्रवासी भारतीय व्यवसायी मिश्र को उनके खिलाफ कथित झूठा आरोप लागाने पर सौ करोड़ रुपए की मानहानि का कानूनी नोटिस भेजा है। जेटली के नोटिस भेजते ही भाजपा नेताओं के खिलाफ विभिन्न प्रकार के आरोप लगा रहे अंशुमन मिश्र ने तत्काल उन सभी भाजपा नेताओं से माफी मांगना शुरू कर दिया जिनके खिलाफ वह आरोप लगा रहे थे। जेटली ने अंशुमन का साक्षात्कार प्रसारित करने वाले कुछ चैनलों को भी कानूनी नोटिस दिया है। राज्यसभा के चुनाव में भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व द्वारा अंशुमन मिश्र का समर्थन न करने के फैसले के बाद से ही अंशुमन ने भाजपा नेताओं पर आरोप लगाने शुरू कर दिए । वरिष्ठ भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी,मुरली मनोहर जोशी,अरुण जेटली आदि कई अन्य नेताओं के बारे में भी उन्होंने कई तरह के आरोप लगाए और सुर्खियों में रहे। अब भाजपा नेता अंशुमन की कानूनी घेराबंदी में जुट गए हैं।


राज्यसभा में विपक्ष के नेता अरुण जेटली ने मिश्र को मानहानि का कानूनी नोटिस भेज दिया है जिन्होंने जेटली और मुरली मनोहर जोशी समेत कई कई नेताओं पर आरोप लगाए थे। मिश्र ने झारखंड से राज्यसभा के लिए नामांकन दाखिल किया था लेकिन ऐनवक्त वक्त पर वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा और शांता कुमार द्वारा टिकटों की खरीद का आरोप लगाए जाने के बाद पार्टी हाईकमान ने राज्य के विधायकों को मतदान नही करने का आदेश दे दिया। बाद में मिश्र ने अपना नामांकन वापस ले लिया था। मिश्र ने नामांकन वापस लेने के बाद जोशी पर टूजी स्पेक्ट्रम घोटाले के अभियुक्तों से उनकी उपस्थिति में मिलने का आरोप लगाया जिसका उन्होंने एवं पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गडकरी ने खंडन कर दिया।


धन्नासेठ मिश्र ने जेटली पर आरोप लगाया कि वह उनसे खतरा महसूस करने लगे है जबकि एक समय दोनो अक्सर मिला करते थे।जेटली के कानूनी नोटिस की खबर मिलते ही अंशुमन ने भी सुर बदल लिए और उन्होंने एक बयान में भाजपा के उन सभी नेताओं से माफी मांगी है जिन पर उन्होंने चौबीस घंटे पहले गंभीर आरोप लगाए थे। मिश्र ने कहा कि वह इस मुद्दे पर देश का और समय बर्बाद करना नहीं चाहते हैं क्योंकि देश के सामने आर्थिक,नक्सल और भ्रष्टाचार से संबंधित कई गंभीर मुद्दे हैं। सूत्रों के अनुसार जेटली इस पूरे प्रकरण को लेकर खासे खफा हैं और अब मिश्र को कानूनी घेरे में लेने में जुट गए हैं।

और भी पढ़ें : जेटली अंशुमन