Widgets Magazine

महिला दिवस कविता : स्त्री ने छोड़ी अपनी चाल

WD|
सुनीता जैन स्त्री ने छोड़ी अपनी चाल 
हंसिनी की मंद मंद गति 
उसने छोड़ी अपनी शैया 
घर की चार दीवारी 
अब वह तेज सड़क पर थी 
बसों में धंसी हुई 
उसके हाथ चूड़ियों से नहीं 
बज रहे थे किबोर्ड पर 
कम्प्यूटर के 
उसके माथे पर नहीं थी 
एक बिंदी अलसाई सी 
स्त्री बेचारी क्या करती 
जिसके पीछे-पीछे आई थी वह 
वह आगे-आगे था ही नहीं 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :