Widgets Magazine Widgets Magazine
Widgets Magazine
Widgets Magazine

कविता - मां मेरे कत्ल की हां क्यूं भरे

WD|
शकुंतला सरुपरिया
 
मां मेरे कत्ल की तू हां क्यूं भरे? 
खि‍लने से पहले इक कली क्यूं झरे ?
 
मेरे बाबुल बता, मेरी क्या खता? 
मेरे मरने की बददुआ क्यूं करे ?
कौन कहता है, रब की सूरत तू? 
कोई रब यूं किसी का खून क्यूं करे ?
 
तेरे कदमों में मां जो जन्नत है, 
उसे  कत्लगाह क्यूं करे? 
 
झांक के कोख में मशीनों से,
मुझे साजिश से परे क्यूं करे ?
 
कोख का तू किराया लेना वसूल,
कत्ल का पाप तेरे सर क्यूं धरे?
 
मुझसे क्या खतरा-खौफ तू बता ?
तेरी मूरत हूं, मुझसे तू क्यूं डरे ?
 
ये तो सच है कि मां तू पत्थर है, 
मुझपे पत्थर कोई, रहम क्यूं करे ?
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।
Widgets Magazine
Widgets Magazine
Widgets Magazine Widgets Magazine
Widgets Magazine