शुभ और मंगलमयी होती है सरस्वती साधना


यदि आप चाहते हैं कि हर सुंदर गुण आपके जीवन में समा जाएं, तो आपको सरस्वती साधना सिद्धि अवश्य ही करनी चाहिए।
साधना विधान

* यह साधना प्रयोग किसी भी पुष्य नक्षत्र में प्रारंभ की जा सकती है। वसंत पंचमी पर विशेष रूप से करें।

* शुभ मुहूर्त में किसी शांत स्थान या मंदिर में पूर्व दिशा की ओर मुख करके बैठें।

* अपने सामने लकड़ी का एक बाजोट रखें। बाजोट पर सफेद वस्त्र बिछाएं तथा उस पर सरस्वती देवी का चित्र लगाएं।

* उस बाजोट पर एक तांबे की थाली रखें। यदि तांबे की थाली न हो, तो आप अन्य पात्र रखें।
* इस थाली में कुंकुम या केसर से रंगे हुए चावलों की एक ढेरी लगाएं।

* अब इन चावलों की ढेरी पर प्राण-प्रतिष्ठित एवं चेतनायुक्त शुभ मुहूर्त में सिद्ध किया हुआ 'सरस्वती यंत्र' स्‍थापित करें।

इसके पश्चात 'सरस्वती' को पंचामृत से स्नान करवाएं। सबसे पहले दूध से स्नान करवाएं, फिर दही से, फिर घी से स्नान करवाएं, फिर शकर से तथा बाद में शहद से स्नान करवाएं।
* केसर या कुंकुम से यंत्र तथा चित्र पर तिलक करें।

* इसके बाद दूध से बने हुए नैवेद्य का भोग अर्पित करें।

* अब आंखें बंद करके माता सरस्वती का ध्यान करें तथा सरस्वती माला से निम्न मंत्र की 11 माला मंत्र जाप करें-

ॐ श्री ऐं वाग्वाहिनी भगवती
सन्मुख
निवासिनि
सरस्वती ममास्ये प्रकाशं
कुरू कुरू स्वाहा:
* माता सरस्वती से अपने एवं अपने बच्चों के लिए ऋद्धि-सिद्धि, विद्यार्जन, तीव्र स्मरण शक्ति आदि के लिए प्रार्थना करें।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

कंस मामा की 10 खास बातें जानेंगे तो चौंक जाएंगे

कंस मामा की 10 खास बातें जानेंगे तो चौंक जाएंगे
भगवान श्रीकृष्ण के मामा का नाम था कंस। यह कंस न तो राक्षस, न ही असुर और न ही दावव था। सभी ...

अधिक मास में शुद्धता और पवित्रता के साथ करें श्रीहरि विष्णु ...

अधिक मास में शुद्धता और पवित्रता के साथ करें श्रीहरि विष्णु का पूजन
पौराणिक शास्त्रों के अनुसार हर तीसरे साल पुरुषोत्तम यानी अधिक मास की उत्पत्ति होती है। इस ...

पुरुषोत्तम मास शुरू, 13 जून तक नहीं होंगी शादियां

पुरुषोत्तम मास शुरू, 13 जून तक नहीं होंगी शादियां
वर्ष 2018 में 'अधिकमास' 16 मई से 13 जून के मध्य रहेगा। इस वर्ष ज्येष्ठ मास की अधिकता ...

कृष्ण के पुत्र ने जब किया दुर्योधन की पुत्री से प्रेम तो मच ...

कृष्ण के पुत्र ने जब किया दुर्योधन की पुत्री से प्रेम तो मच गया कोहराम
महाभारत में ऐसे कई किस्से हैं जो जनमानस में प्रचलित नहीं है। हो सकता है कि आप इनको जानकर ...

आपने नहीं पढ़ी होगी अधिक मास की यह पौराणिक कथा

आपने नहीं पढ़ी होगी अधिक मास की यह पौराणिक कथा
प्रत्येक राशि, नक्षत्र, करण व चैत्रादि बारह मासों के सभी के स्वामी है, परंतु मलमास का कोई ...

क्या आप जानते हैं सनातन परंपरा के यह 16 संस्कार

क्या आप जानते हैं सनातन परंपरा के यह 16 संस्कार
व्यास स्मृति में सोलह संस्कारों का वर्णन हुआ है। हमारे धर्मशास्त्रों में भी मुख्य रूप से ...

ज्योतिष की एक अनूठी शैली नंदी नाड़ी, पढ़ें क्या हैं ...

ज्योतिष की एक अनूठी शैली नंदी नाड़ी, पढ़ें क्या हैं विशेषताएं
भगवान शंकर के गण नंदी द्वारा जिस ज्योतिष विधा को जन्म दिया गया उसे नंदी नाड़ी ज्योतिष के ...

ग्रह कैसे असर डालते हैं हम पर, आइए पढ़ें रोचक जानकारी

ग्रह कैसे असर डालते हैं हम पर, आइए पढ़ें रोचक जानकारी
दूर बैठे ग्रह नक्षत्र कैसे मानव जीवन पर प्रभाव डाल सकते हैं? अक्सर यह सवाल मनुष्य के ...

भारत में हुआ है ज्योतिष का उदय, जानिए ज्योतिष के 10 महान ...

भारत में हुआ है ज्योतिष का उदय, जानिए ज्योतिष के 10 महान ग्रंथ
ज्योतिष का उदय भारत में हुआ, क्योंकि भारतीय ज्योतिष शास्त्र की पृष्ठभूमि 8000 वर्षों से ...

भगवान सूर्यदेव की 10 बातें जो आप नहीं जानते...

भगवान सूर्यदेव की 10 बातें जो आप नहीं जानते...
सूर्यस्वरूप सृष्टि में सबसे पहले प्रकट हुआ इसलिए इसका नाम आदित्य पड़ा।

राशिफल