शेरो-अदब | हमारी पसंद | मजमून | नई शायरी | नज़्म | आज का शेर | ग़ालिब के ख़त
मुख पृष्ठ » लाइफ स्‍टाइल » उर्दू साहित्‍य » नई शायरी » होली की रंगबिरंगी शायरी (Holi Shayri)
FILE

गुलजार खिले हो परियों के, और मंजिल की तैयारी हो
कपड़ों पर रंग के छींटों से खुशरंग अजब गुलकारी हो।
संबंधित जानकारी
Feedback Print