फ़िराक़ गोरखपुरी : उर्दू के अज़ीम शाइर

इक उम्र तक ख़लिश पाली 'फ़िराक़' ने

WD|
'किसी का यूँ तो हुआ कौन उम्र भर फिर भी, ये हुस्नों इश्क धोखा है सब मगर फिर भी'...ये शेर अपनेआप में एक बेबसी, इक इंतिज़ार और तमाम उम्मीदें जज़्ब किए हुए है। और एक उम्र तक अपने सीने में ये तमाम ख़लिश पाले रक्खी, मक़्बूल शाइर फ़िराक़ गोरखपुरी ने, यानी रघुपति सहाय 'फ़िराक़' ने।

फ़िराक़ गोरखपुरी, 28 अगस्त 1896 को पूर्वी उत्तरप्रदेश के गोरखपुर में पैदा हुए। उनकी जिंदगी, उनकी शायरी और उनके गुफ्तगू करने के अंदाज से उर्दू वालों को बड़ी राहत और ज़ेहनी ताक़त मिलती थी। 'फ़िराक़' बड़ी बेबाकी, जुर्रत और निष्पक्षता के साथ उर्दू की हिमायत में गैर उर्दू भाषियों के बीच इतनी तर्कपूर्ण तकरीर करते थे कि वे लोग भी 'फ़िराक़' की जहानत के साथ-साथ उर्दू जबान की कशिश के कायल हो जाते थे।
उर्दू जबान हिन्दुस्तानियत की रूह : 'फ़िराक़', अपने कलाम को हिन्दुस्तानी मिट्टी की महक में डुबोकर उसे गंगा-जमुनी तहजीब की रंग-ओ-बू से तरबतर कर देते थे। उनका मानना था कि उर्दू जबान हिन्दुस्तानियत की रूह है। वहीं वो इस बात के भी पैरोकार थे कि जदीद (नए) हिन्दुस्तान की तहज़ीबी तामील उर्दू के बगैर नामुमकिन है।
'फ़िराक़' के बिना उर्दू अदब नामुकम्मल : नयी सोच और तसव्वुर को अपनी गजलों में पिरोकर 'जदीद ग़ज़ल' की ईजाद करने वाले 'फ़िराक़' को मीर तक़ी मीर और मिर्ज़ा ग़ालिब के बाद हिन्दुस्तान में उर्दू का सबसे महान शायर माना जाता है। उर्दू ज़बान और अदब की तारीख़ 'फ़िराक़' गोरखपुरी की अज़्मत के रौशन तज़्किरे के बग़ैर नामुकम्मल रहेगी।

इक़बाल के बाद फ़िराक़ दूसरी बड़ी शख़्सियत : मशहूर शायर अनवर जलालपुरी ने एक अदीब के रूप में 'फ़िराक़' का ज़िक्र यूँ किया कि, 'मेरी नज़र में 'फ़िराक़' साहब से पहले उर्दू में सिर्फ अल्लामा इक़बाल ही ऐसी शख़्सियत हैं, जो एशिया और यूरोप के उलूम (ज्ञान) पर गहरी नज़र रखते थे। दोनों इलाहों के मजहबों के फलसफों पर भी उनकी गहरी नज़र होती थी। 'फ़िराक़' दूसरी बड़ी शख़्सियत हैं जो एशिया और यूरोप के मुल्कों के मजहबी फलसफों और दोनों इलाकों के साहित्य पर भी बेइंतहा गहरी नज़र रखते थे।'
भारतीय संस्कृति को अपनी रचनाओं से महकाया : अनवर जलालपुरी ने आगे कहा कि, 'यहां 'फ़िराक़' उर्दू के दीगर शायरों से आगे हैं। 'फ़िराक़' की दूसरी ख़ूबी यह थी कि उन्होंने अपनी नज़रों में और अपनी रूबाइयात में भारतीय संस्कृति को बहुत ज्यादा उजागर किया। इस तरह उन्होंने उर्दू साहित्य को हिन्दुस्तान के कदीम फलसफे की खुशबू से महकदार बना दिया था।' उन्होंने कहा कि 'फ़िराक़' ने तन्क़ीदी (आलोचनात्मक) मजामीन भी लिखे, जिन्हें पढ़कर उनकी वसीउन्नजरी (व्यापक सोच) और दानिशवरी पर यक़ीन ताज़ा हो जाता है। 'फ़िराक़' उर्दू के बहुत ही नुमाया वकील भी थे।
नौकरी छोड़ आज़ादी के आंदोलन में कूदे : देश की आज़ादी के लिए संघर्षरत राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी ने 'असहयोग आन्दोलन' छेड़ा, तो फ़िराक़ गोरखपुरी भी अपनी नौकरी छोड़ आन्दोलन में कूद पड़े। गिरफ्तार हुए और डेढ़ साल की सज़ा काटी। जेल से छूटने के बाद जवाहरलाल नेहरू ने उन्हें 'अखिल भारतीय कांग्रेस' के दफ्तर में 'अण्डर सेक्रेटरी' की जगह दिलवा दी। बाद में नेहरू के यूरोप चले जाने के बाद उन्होंने कांग्रेस का 'अण्डर सेक्रेटरी' का पद छोड़ दिया। इसके बाद 'इलाहाबाद विश्वविद्यालय' में 1930 से 1959 तक अंग्रेज़ी के अध्यापक रहे।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

ऐसे लगाएं परमात्मा से योग

ऐसे लगाएं परमात्मा से योग
योग यानी जुड़ना और जुड़ना जिससे भी सच्चे मन से हो जाए, उससे ही योग लग जाता है। जब किसी को ...

शहद और लहसन साथ में लेने के यह 5 फायदे आपको चौंका देंगे, ...

शहद और लहसन साथ में लेने के यह 5 फायदे आपको चौंका देंगे, जरूर पढ़ें
शहद और लहसन, दोनों के सेहत से जुड़े 5 फायदे... लेकिन पहले जानिए कि कैसे करें लहसन और शहद ...

प्राणायाम से पाएं दीर्घायु

प्राणायाम से पाएं दीर्घायु
हर कोई चाहता है कि जब तक वह जीवित रहे, स्वस्थ ही रहे। स्वस्थ रहते हुए ही अपने बच्चों को ...

घी जरूर खाएं,नहीं करता है नुकसान, जानिए इसके बेमिसाल फायदे

घी जरूर खाएं,नहीं करता है नुकसान, जानिए इसके बेमिसाल फायदे
घी पर हुए शोध बताते हैं कि इससे रक्त और आंतों में मौजूद कोलेस्ट्रॉल कम होता है। क्या वाकई ...

एक साथ लीजिए दूध और गुड़, जानिए इस कॉंबिनेशन में कितने हैं ...

एक साथ लीजिए दूध और गुड़, जानिए इस कॉंबिनेशन में कितने हैं गुण
अगर आप दूध के साथ चीनी का इस्तेमाल करते है तो इसकी जगह आप गुड़ का इस्तेमाल करें। ऐसा करने ...

नशा क्या है? कैसे होगा इलाज

नशा क्या है? कैसे होगा इलाज
ड्रग एडिक्शन या नशे की लत किसी के शरीर को होने वाली ऐसी ज़रूरत है जिस पर नियंत्रण रखना ...

अंतरराष्ट्रीय नशा निरोधक दिवस : कोई कर रहा है नशा, पहचानें ...

अंतरराष्ट्रीय नशा निरोधक दिवस : कोई कर रहा है नशा, पहचानें ये 9 लक्षण
नशा करने से शर्तियातौर पर व्यक्ति का व्यवहार और हरकतें बदल जाती हैं। आपकी थोड़ी सी सजगता ...

जानिए कैसे-कैसे तरीकों से नशा करते हैं लोग और इसके ...

जानिए कैसे-कैसे तरीकों से नशा करते हैं लोग और इसके दुष्परिणाम
हर वर्ष 26 जून को 'अंतरराष्ट्रीय नशा निरोधक दिवस' मनाया जाता है। नशीली वस्तुओं और ...

जानिए, बरसात में कैसा हो आपका मेकअप?

जानिए, बरसात में कैसा हो आपका मेकअप?
चाहे मौसम जो भी हो ठंड, गर्मी या बरसात। शादी-ब्याह व किसी खास अवसर की पार्टी के मुहूर्त ...

नवग्रहों को सुगंध से प्रसन्न करें, हर ग्रह को है कोई खास ...

नवग्रहों को सुगंध से प्रसन्न करें, हर ग्रह को है कोई खास सुगंध पसंद...
सुगंध से ग्रह नक्षत्रों के बुरे प्रभाव को दूर कर सकते हैं। जानिए कि कैसे सुगंध से ग्रहों ...