ये हैं उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री पद के चेहरे

Last Updated: रविवार, 12 मार्च 2017 (00:51 IST)
भाजपा को यूपी में बहुमत मिलने के साथ ही यह प्रश्न अहम हो गया है कि राज्य का अगला मुख्यमंत्री कौन होगा? इस पर यूपी की जनता के साथ-साथ पूरे देश की निगाहें भी टिकी हैं। 
अमित शाह :  प्रारंभ में इस बात की भी अटकलें लगाई गई थीं कि यूपी में जीत होने पर मुख्यमंत्री अमित शाह होंगे, लेकिन मोदी सरकार शायद ही अमित शाह को यूपी का मुख्यमंत्री बनाए क्योंकि प्रधानमंत्री की निगाह में शाह की भूमिका किसी राज्य के मुख्यमंत्री से बहुत बड़ी है और वे प्रधानमंत्री की सहायता करने के लिए दिल्ली में ही रहेंगे। आगामी दो-ढाई वर्षों में कई राज्यों में चुनाव होने हैं और वर्ष 2019 में मोदी फिर से प्रधानमंत्री पद के दावेदार होंगे तो उनके लिए मोदी की सहायता करना ज्यादा अहम होगी। इसलिए यूपी का मुख्यमंत्री कुछ अन्य दावेदारों में से कोई एक हो सकता है।
 
: देश के गृहमंत्री और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री राजनाथसिंह को यूपी की कमान सौंपी जा सकती है। राजनाथ पार्टी के भीतर साफ-सुथरी  छवि और देश मे मजबूत नेता माने जाते हैं और उनके नाम पर कोई विरोध नहीं होगा। यूपी से आने वाले राजनाथ की पहचान बड़े ठाकुर नेता के तौर पर भी है। हालांकि कहा यह भी जा रहा  है कि राजनाथ राष्ट्रीय राजनीति छोड़कर राज्य की राजनीति में नहीं आना चाहेंगे क्योंकि केंद्र सरकार में उन्हें नंबर दो का कद मिला हुआ है और वो इसे कम नहीं करना चाहेंगे।
 
केशव प्रसाद मौर्य : यूपी भाजपा के अध्यक्ष और फूलपुर से लोकसभा सांसद केशव प्रसाद मौर्य भी सीएम पद की रेस में आगे हैं। केशव प्रसाद पिछड़ी जाति मौर्य से आते हैं जिसकी तादाद गैर यादव जातियों में सबसे अधिक है। संघ के सबसे करीबी और विश्व हिन्दू परिषद् के तेज तर्रार नेताओं में शुमार केपी मौर्य ने पार्टी के लिए धुआंधार प्रचार किया है। चुनाव में मौर्य अच्छे वक्ता साबित हुए और उन्होंने पार्टी के लिए सबसे ज्यादा 155 चुनावी सभाएं की हैं। वे भाजपा में पिछड़ी जाति का चेहरा कहे जाते हैं और मौर्य को अमित शाह और पीएम नरेंद्र मोदी की खोज माना जाता है और ये दोनों ही बड़े नेताओं के करीबी माने जाते हैं। मुख्‍यमंत्री पद के लिए मौर्य का नाम इसलिए भी तेजी से सामने आया है क्योंकि चुनाव परिणामों के बीच उन्हें दिल्ली तलब किया गया है। हालांकि आपराधिक मामले केशव की राह में रोड़ा बन सकते हैं।
 

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :