आतंक का घृणित चेहरा ISIS, जानिए 10 खास बातें...

Last Updated: मंगलवार, 1 दिसंबर 2015 (13:29 IST)
सीरिया और इराक में सक्रिय आतंकवादी संगठन पूरी दुनिया के लिए बड़े खतरे के रूप में उभरा है। हाल के पेरिस हमलों में भी इसका ही हाथ था। इसके खौफनाक इरादों पर यदि समय रहते दुनिया नहीं चेती तो इंसानियत के दुश्मन इस संगठन की ताकत और बढ़ जाएगी। दुर्भाग्य से इसके खिलाफ लड़ाई को लेकर अमेरिका और रूस में मतभेद हैं। 
इस्लामिक स्टेट इन इराक एंड सीरिया को इस्लामिक स्टेट इन इराक एंड दी लीवेंट भी कहते हैं। यह एक जिहादी संगठन है, जो कि इराक और सीरिया में इस्लाम के नाम पर हिंसा फैलाता है। पिछले दिनों हुए पेरिस हमले में भी इसी संगठन का हाथ था। अल कायदा से अलग हुए इस संगठन की स्थापना अप्रैल 2013 में हुई थी। 
 
अल कायदा से तक : इराक में अबू मुसाब अल-जरकावी के नेतृ्त्व में लादेन का आतंकवादी संगठन अल-कायदा काफी सक्रिय था। जरकावी ने इराक में बहुसंख्‍यक शियाओं के खिलाफ युद्ध भड़काने की भी कोशिश की। 2006 में इराकी अल-कायदा ने खुद को द इस्लामिक स्टेट इन इराक यानी आईएसआई कहना शुरू कर दिया था, लेकिन अप्रैल 2013 में सीरिया में गतिविधियां बढ़ने के बाद इसके साथ ‘एंड सीरिया’ भी जुड़ गया। यानी संगठन का नाम हो गया आईएसआईएस या आईएस। 
सरगना :  इब्राहिम अव्वद अल-बद्री उर्फ अबू बकर अल-बगदादी आईएसआईएस का मुखिया है। 29 जून 2014 को इस संगठन ने अपने मुखिया को पूरी दुनिया का खलीफा घो‍षित कर दिया। बगदादी कभी भी अपनी पहचान जाहिर नहीं करता। यहां तक कि अपने कमांडरों से बात करते समय भी वह मास्क पहनता है। इराक के समारा शहर में 1971 में जन्मा अल बगदादी इस्लामिक स्टडीज में डॉक्टरेट है। यह अपने शहर में धार्मिक कार्यकर्ता रह चुका है।
 
सबसे अमीर आतंकवादी संगठन : ISIS दुनिया का सबसे अमीर आतंकी संगठन है, जिसका सालाना बजट करीब 220 अरब डॉलर का है। एक जानकारी के मुताबिक आईएसआईएस की वर्तमान में कुल संपत्ति 14 हजार करोड़ रुपए से ज्‍यादा है।
इंसानियत और सभ्यता दोनों से नफरत है इस बर्बर संगठन को... पढ़ें अगले पेज पर....
 
 
 

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :