अलकायदा के खौफनाक मंसूबे, 2020 में इस्लाम की 'संपूर्ण विजय

Author राम यादव| Last Updated: गुरुवार, 3 दिसंबर 2015 (16:52 IST)
15 साल पहले, ओसामा बिन लादेन के अल क़ायदा ने इस्लाम को सात चरणों में विश्वविजयी बनाने का बीड़ा उठाया था। इस्लामी ख़लीफ़त 'आईएस' का जन्म अल क़ायदा की ही कोख से हुआ है। जॉर्डन के एक पत्रकार फ़उद हुसैन ने अल क़ायदा की विचारधारा के मुख्य प्रणेता मोहम्मद अल-मकदीसी और कुछ अन्य लोगों के साथ बातचीत के आधार पर एक पुस्तक लिखी थी, जिसे हम हिंदी में ''आतंकवाद का भविष्यः अल-क़ायदा आखिर क्या चाहता है'' कहेंगे। यस्सीन मुशरबाश नाम के एक अरब समीक्षक ने 2005 में इस पुस्तक पर एक समीक्षात्म पुस्तिका लिखी, जिसे समय के साथ भुला दिया गया। जर्मन पत्रिका 'देयर श्पीगल' ने इन्हीं दिनों इस समीक्षा का सारांश प्रकाशित किया है। 'आईएस'  वास्तव में इस्लाम को विश्वविजयी बनाने की अल कायदा वाली इसी योजना को पूरा करने में लगा है।
योजना का ''जागरण'' नाम का पहला चरण 2000 से 2003 के बीच इस्लामी जगत को यह दिखा कर जगाने के लिए था कि ''हम न्यूयॉर्क में सांप के सिर को एक ज़ोरदार चोट पहुंचायेंगे।'' 11 सिसंबर 2001 के दिन यात्रियों से भरे दो अमेरिकी विमानों का न्यूयॉर्क के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर के दोनों टॉवरों से दिन-दहाड़े टकराना इस चरण की परिणति बना। दूसरे चरण में इस्लामी बिरादरी को यह घुट्टी पिलाई जानी थी कि इस्लाम के विरुद्ध ''पश्चिमी जगत ने षड़यंत्र रच रखा है।''  2007 से 2010 तक चलने वाले ''विद्रोह'' नाम के तीसरे चरण में सीरिया में सरकार गिराने और सत्ता हथियाने की भविष्यवाणी की गई थी। चौथे चरण में मध्यपूर्व की यथासंभव सभी अरब सरकारों को गिरा कर वहां अल क़ायदा का झंडा फ़हराया जाना था।>  
अगले पन्ने पर पढ़िए अल-कायदा की दुनिया फतह करने की योजना के बारे में... 

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :