दुनिया की 5 सबसे खूंखार 'सुंदरियां'


WD|
4. - दिसंबर 2015 तक में महिलाओं की भागीदार का एक और सशक्त उदाहरण बनकर उभरी आईएसआईएस संगठन की पहली फियादीन हमलावर सैली जोन्स, जिसे मिसेस टेरर नाम दिया गया। सैली जोन्स, उम्म हुसैन और सकीना हुसैन के नाम से भी जानी जाती है।
 
> दो साल पहले तक ब्रि‍टेन में रहने वाली सैली अपने 10 वर्षीय बेटे को लेकर सीरिया में रहने लगी और अब में शामिल हो चुकी है। मिसेस टेरर ने खुद इस बात का खुलासा किया है कि उसकी चेचन्या की पहली महिला फियादीन हमलावर हावा बारायेव को श्रद्धांजलि देते हुए खुद को उड़ाने की योजना है और इसके बाद वह आईएस की पहली फियादीन हमलावर कहलाएगी। आपको बता दें कि‍ साल 2000 में रूस के साथ चेचन विद्रोहियों की लड़ाई में हावा बारायेव पहली महिला सुसाइड बॉम्बर बनी थी और इस विस्फोट में रूसी आर्मी के 27 सैनिक मारे गए थे। मिसेस टेरर भी सीरिया में महिलाओं को फियादीन हमले की ट्रेनिंग दे रही है।
>

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :