शरीर को बलशाली बनाएंगे सर्दियों में खाएं जाने वाले ये गोंद के लड्डू...


* सर्दियों में बनाएं सेहत के लड्डू से
* गोंद के लड्डू खाएं और सर्दियों में सेहत बनाएं
 
 
 
 
 
 
सर्दियों में मौसम में हर रोज एक मुट्ठी नट्स खाने से आप खुद को दिनभर तरोताजा और एक्‍टिव महसूस करते हैं। नट्स में विशेष तौर पर बादाम, अखरोट, गोंद, घी और खजूर का ज्यादा महत्व है। यह भी कहा जाता है कि बादाम खाने से जहां दिमाग तेज होता है और खून बढ़ता है वहीं गोंद, अखरोट, खजूर, घी आदि के सेवन से शरी‍र बलशाली बनता है। 
 
सर्दी के मौसम में खासतौर पर इन सबको मिलाकर लड्‍डू बनाए जाते हैं, जो स्वास्थ्य की दृष्टि से बहुत ही फायदेमंद होते हैं। इसके मद्देनजर पाठकों के लिए हम लेकर आए हैं सर्दियों में सेहत बनाने वाले गोंद के लड्‍डू बनाने की सरल विधि। तो फिर देर किस बात की तुरंत तैयार कीजिए ये लड्‍डू और इस मौसम में बने बलशाली। 
 
सामग्री :
 
ढाई कप उड़द का आटा, 150 ग्राम गोंद, 500 ग्राम बादाम, खजूर और अखरोट की कतरन, 250 ग्राम खोपरा बूरा, 350 ग्राम शकर का बूरा, आधा चम्मच इलायची पावडर, आधा चम्मच सौंठ पावडर, शुद्ध घी आवश्यकतानुसार।
 
विधि :
 
सबसे पहले गोंद को छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़कर 2-3 घंटे के लिए धूप में रख दें। अब कड़ाही में घी गरम करके सबसे पहले थोड़ा-थोड़ा गोंद डालें। जब वह आकार में फूलकर दुगना हो जाए तब घी से बाहर निकाल लें। 
 
तत्पश्चात बचे हुए घी में आटा डालें और धीमी आंच पर करीब 15-20 मिनट तक भूनें। अब बादाम, खजूर और अखरोट, सौंठ पावडर को उस कड़ाही में डालकर हल्का-सा सेंक लें। अब सभी तली हुई सामग्री में खोपरा बूरा, इलायची और गोंद मिलाकर ठंडा होने के लिए छोड़ दें। मिश्रण ठंडा होने पर इसमें शकर का बूरा मिलाएं और मिश्रण को अच्छी तरह एकसार कर लें।> > हाथों में थोड़ा-सा घी लगाकर अपनी पसंद के साइज में छोटे-बड़े जैसे चाहे लड्डू बना लें। सर्दी के दिनों में खास उपयोगी ये लड्‍डू खुद भी खाएं और परिवार वालों को भी खिलाएं। 
- राजश्री कासलीवाल 

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

हिन्दी कविता : देह हूं मैं ...

हिन्दी कविता : देह हूं मैं ...
देह हूं मैं प्राणों से भरी , अहसासों से भरी देह हूं मैं जब छूते हो मुझे मेरी ...

मन की अभिव्यक्ति से मिलती है खुशी

मन की अभिव्यक्ति से मिलती है खुशी
वर्षों बाद वो दोनों सखियां मिलीं। मन में भावनाओं का ज्वार। आंखें ख़ुशी के आंसुओं से सिक्त। ...

प्रेम गीत : मुझको दीवाना कह लो

प्रेम गीत : मुझको दीवाना कह लो
तुम्हे प्यार नहीं तो क्या मुझको दीवाना कह लो। उम्मीदे वफ़ा नहीं तो क्या, मुझको दीवाना कह ...

बचा जा सकता है थायराइड से, यहां जानिए कैसे

बचा जा सकता है थायराइड से, यहां जानिए कैसे
योग के जरिए भी थायराइड से बचा जा सकता है। खासकर कपालभाती करने से थायराइड की समस्या से ...

तंत्र की देवी है मां बगलामुखी, हर आपदा से बचाता है उनका ...

तंत्र की देवी है मां बगलामुखी, हर आपदा से बचाता है उनका मंत्र
मां बगलामुखी यंत्र चमत्कारी सफलता तथा सभी प्रकार की उन्नति के लिए सर्वश्रेष्ठ माना गया ...

कहीं आपका स्वभाव भी तनाव लेने का तो नहीं है.. इसे पढ़ें

कहीं आपका स्वभाव भी तनाव लेने का तो नहीं है.. इसे पढ़ें
तनाव वास्तव में एक स्वभावगत समस्या है जो हमारे आत्मबल की कमी से उत्तपन होता है और फिर ...

नृसिंह जयंती 28 अप्रैल को, जानिए क्या करें इस दिन

नृसिंह जयंती 28 अप्रैल को, जानिए क्या करें इस दिन
भक्त प्रह्लाद की रक्षा करने के लिए भगवान विष्णु ने नृसिंह रूप में अवतार धारण किया था। इसी ...

इंदौर का चमत्कारी प्राचीन नृसिंह मंदिर, पढ़ें पौराणिक तथ्य

इंदौर का चमत्कारी प्राचीन नृसिंह मंदिर, पढ़ें पौराणिक तथ्य
नृसिंह मंदिर उस जमाने में सरकारी लश्करी मंदिर के नाम से मशहूर था। यूं इस मंदिर की स्थापना ...

महाभियोग पर कांग्रेस का महाप्रलाप

महाभियोग पर कांग्रेस का महाप्रलाप
सात विपक्षी दलों द्वारा मुख्य न्यायधीश दीपक मिश्रा के खिलाफ़ दिए गए महाभियोग नोटिस को ...

सावधान, अगर आप भी शौकीन हैं ईयरफोन के...

सावधान, अगर आप भी शौकीन हैं ईयरफोन के...
ईएनएटी विशेषज्ञों की मानें तो आपका कान बिना उपयोग की आवाजें पर्दे से टकराकर वापस भेज देता ...