अमेरिका-चीन विवाद में शेयर बाजार धराशायी

पुनः संशोधित शुक्रवार, 23 मार्च 2018 (17:32 IST)
मुंबई। आयात शुल्क और बौद्धिक संपदा को लेकर अमेरिका और चीन के बीच शुरू हुए विवाद से हतोत्साहित निवेशकों की बिकवाली के दबाव में दुनियाभर के बाजारों के साथ ही शुक्रवार को घरेलू में
भी तेज बिकवाली हुई।

वैश्विक गिरावट और यूनियन बैंक ऑफ इंडिया सहित 8 बैंकों में 1,400 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी की खबरों से बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 409.73 अंक लुढ़ककर 33,000 अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर से नीचे 32,596.54 अंक पर और एनएसई का निफ्टी 116.70 अंक फिसलकर 10,000 अंक के स्तर से नीचे 9,998.05 अंक पर बंद हुआ।

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन से आयातित करीब 60 अरब डॉलर के उत्पादों पर आयात शुल्क लगाने के ज्ञापन पर हस्ताक्षर कर दिया है और चीन ने भी करारा जवाब देने की धमकी देते हुए अमेरिका के आयातित 3 अरब डॉलर के 128 उत्पादों पर आयात शुल्क लगाने का प्रस्ताव रखा है।

अमेरिका और चीन के बीच बढ़ रहे विवाद को देखते हुए निवेशकों का भरोसा जोखिमभरे निवेश में घट गया है और वे सुरक्षित निवेश की ओर रुख कर रहे हैं। अमेरिका और चीन जैसी आर्थिक महाशक्तियों की आंच अन्य देशों पर भी पड़ेगी जिससे दुनियाभर के बाजारों में खलबली मच गई है।

विदेशी बाजारों से मिले कमजोर संकेतों के बीच टोटम इंडस्ट्रीज द्वारा 8 बैंकों को लगभग 1,400 करोड़ रुपए का चूना लगाने की खबरों से बैंकिंग समूह के सूचकांक में जबरदस्त गिरावट दर्ज की गई। इसी दबाव में सेंसेक्स 355.38 अंक की गिरावट के साथ 32,650.89 अंक पर खुला और पूरे दिन 33,000 के आंकड़े को छू नहीं पाया।

कारोबार के दौरान यह 32,720.03 अंक के उच्चतम और 32,483.84 अंक के निचले स्तर को छूता हुआ गत दिवस की तुलना में 1.24 प्रतिशत फिसलकर 32,596.54 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स की मात्र 6 कंपनियां ही हरे निशान में जगह बना पाईं, शेष 24 कंपनियां लाल निशान में रहीं। निफ्टी भी 29.25 अंक की गिरावट में 9,968.80 अंक पर खुला।

कारोबार के दौरान 10,027.70 अंक के उच्चतम और 9,951.90 अंक के निचले स्तर से होता हुआ यह गत दिवस की तुलना में 1.15 प्रतिशत की गिरावट में 9,951.90 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी की एक कंपनी के शेयरों के भाव अपरिवर्तित रहे जबकि 38 में गिरावट और 11 में तेजी रही। बीएसई में कुल 2,862 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ जिनमें 164 में कोई बदलाव नहीं हुआ जबकि 2,107 में गिरावट और 591 में तेजी रही।

छोटी और मझौली कंपनियों पर बिकवाली का अधिक दबाव रहा। बीएसई का मिडकैप 1.36 प्रतिशत यानी 216.57 अंक लुढ़ककर 15,694.11 अंक पर और स्मॉलकैप 1.54 प्रतिशत यानी 262.94 अंक की गिरावट में 16,801.18 अंक पर बंद हुआ। (वार्ता)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :