विंबलडन : सेरेना-कर्बर के बीच फाइनल रहेगा रोमांचक

मयंक मिश्रा| Last Updated: शुक्रवार, 13 जुलाई 2018 (15:19 IST)
सेरेना के नहीं खेलने के समय महिलाओं का टेनिस काफी बराबरी का लगता था। जिसमें कभी भी कोई भी जीत सकता था। अब जब सेरेना की वापसी हो गई है तो यह फिर से एकतरफा हो गया है। गुरुवार को उन्होंने जूलिया को लगभग एक घंटे में ही हरा दिया। इस मैच के लंबे चलने की संभावनाएं ज्यादा तो नहीं थी। मगर इसका इतना एकतरफा होना भी सोचा नहीं गया था।


सेरेना के लिए जहां पिछले साल चलना तक मुश्किल था। उनका फ़ाइनल में पहुंचना ही एक बडी उपलब्धि हैं। कल के मैच में जूलिया ने सेरेना को कोई मुश्किलें नहीं दी। वे सेरेना को बेसलाइन रैलियों में हराना चाह रहीं थी जबकि सेरेना को इससे कोई दिक्कतें नहीं हो रहीं थी। जूलिया अगर सेरेना को हर शॉट में सोचने को थोड़ा मजबूर करती तो शायद अच्छी टक्कर दे पाती।

जूलिया के प्लेयर बॉक्स में कल सिर्फ दो ही लोग थे। विंबलडन जैसे टूर्नामेंट के सेमीमें पहुंचना जहां अपने आप में एक उपलब्धि है। ऐसे मौकों पर खिलाडी को प्रोत्साहित करने के लिए छोटी-छोटी बातें भी काफी मायने रख सकती है। शायद कल उनकी यह जरूरतें पूरी नहीं हो पाई।

सेरेना को फ़ाइनल से खेलना है। कर्बर ने भी जेलेना ओस्टापेंको को लगभग एक घंटे में ही हरा दिया था। ओस्टापेंको ने मैच की शुरुआत तो बढ़िया की थी मगर उन्होंने काफी गलतियां की। वो कर्बर की एक गलती के मुकाबले दस गलतियां कर रही थी और उनकी हार का मुख्य कारण यही रहा था। ओस्टापेंको का कल गलतियों के बाद खुद पर नाराज होना भी उनके लिए अच्छा नहीं रहा। बेहतर होता की इन मौकों पर शांत रहती।

ओस्टापेंको का गुस्सा करना कर्बर के लिए फायदेमंद साबित हो रहा था। उनका खुद पर विश्वास बढ़ रहा था। जहां पहले वे सिर्फ डिफेंसिव खेल रही थी उन्होंने अटैक करना भी शुरू कर दिया था। विंबलडन में कर्बर के लिए इवन-ऑड की स्किम जैसा ही चल रहा है। उनके लिए ऑड साल जहां अच्छे नहीं रहे हैं। वही उन्होंने यहां इवन सालों में बढ़िया प्रदर्शन किया है और यह साल इवन है। शनिवार को पता चल जाएगा की यह इवन साल उनके लिए और कितना अच्छा होने वाला है।

नडाल और डेलपोत्रो जब सेंटर कोर्ट पर खेल रहे थे। तब रॉयल बॉक्स के पीछे की काफी सीटें खाली थीं। वजह इंग्लैंड और क्रोएशिया का फुटबॉल मैच था। साल के सबसे अच्छे माने जा रहे नडाल-डेलपोत्रो के मैच में भलें ही कुछ सीटें खाली रह गई थी। आज नडाल और जोकोविच के बीच होने वाले मैच में शायद ही कोई सीट खाली मिले। नडाल के कोच ने हाल ही में कहा था की फेडरर अब खेल रहे है क्योंकि वे खुद को सबसे महान खिलाडी साबित कर सकें। जबकि नडाल इसलिए खेल रहे हैं क्योंकि वे ग्रैंड स्लैम जीत सके।

नडाल जरूर यहां जीत सकते है बस एक मुश्किल है वो जोकोविच है। जोकोविच के लिए विंबलडन में हर मैच अपनी पहचान और जगह बताने वाला हो गया है। इसलिए वो एक बड़ा खतरा है इस मैच से पहले इस्नेर और एंडरसन के बीच पहला सेमीफाइनल खेला जाना है। एंडरसन के लिए इस मैच में सबसे बड़ी मुश्किल फेडरर से हुए मैच जैसा फोकस बनाए रखना होगा। अपने करियर की सबसे यादगार जीत के बाद अगर वे ऐसा करने में कामयाब रहे तो रंकिंग से लेकर खेल में वे इस्नेर से आगे ही हैं।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

धोनी वनडे क्रिकेट से संन्यास ले रहे हैं, संकेत तो ऐसे ही ...

धोनी वनडे क्रिकेट से संन्यास ले रहे हैं, संकेत तो ऐसे ही मिल रहे हैं...
तो क्या आलोचनाओं से जूझ रहे महेंद्रसिंह धोनी दे रहे हैं वनडे क्रिकेट से संन्यास के संकेत! ...

अर्जुन तेंदुलकर ने लिया पहला अंतरराष्ट्रीय विकेट, विनोद ...

अर्जुन तेंदुलकर ने लिया पहला अंतरराष्ट्रीय विकेट, विनोद कांबली को आए आंसू
कोलंबो। महान भारतीय बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर के बेटे अर्जुन तेंदुलकर ने अंतरराष्ट्रीय ...

धोनी की सफेद दाढ़ी का क्या है राज?

धोनी की सफेद दाढ़ी का क्या है राज?
टीम के विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी ने दूसरे मैच में खासी सुर्खियां बटोरी।

फ्रांस के 'सुपर स्टार' बने एम्बाप्पे ने विश्व कप की पूरी ...

फ्रांस के 'सुपर स्टार' बने एम्बाप्पे ने विश्व कप की पूरी कमाई दान की
पेरिस। 1998 के बाद दूसरी बार फीफा विश्व चैंपियन बनने वाली फ्रांस टीम की चर्चा दुनिया में ...

पिता थे चपरासी, बेटा बना भारतीय फुटबॉल टीम का मेसी

पिता थे चपरासी, बेटा बना भारतीय फुटबॉल टीम का मेसी
यूपी के मुजफ्फरनगर जिले के एक फुटबॉल खिलाड़ी नीशू कुमार को भारतीय नेशनल टीम में शामिल ...

श्रीलंका 12 वर्षों में द. अफ्रीका से पहली सीरीज जीत की ...

श्रीलंका 12 वर्षों में द. अफ्रीका से पहली सीरीज जीत की दहलीज पर
कोलंबो। श्रीलंका अपने स्पिनरों के एक और दमदार प्रदर्शन की बदौलत दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ ...

पंत में विभिन्न शैली में बल्लेबाजी करने का जज्बा और कौशल : ...

पंत में विभिन्न शैली में बल्लेबाजी करने का जज्बा और कौशल : द्रविड़
नई दिल्ली। ऋषभ पंत ने सीमित ओवरों के प्रारूप में अपनी आक्रामक बल्लेबाजी से खूब वाहवाही ...

स्टिच और सुकोवा 'टेनिस हॉल ऑफ फेम' में शामिल

स्टिच और सुकोवा 'टेनिस हॉल ऑफ फेम' में शामिल
न्यूयॉर्क। पूर्व विंबलडन चैंपियन जर्मनी के माइकल स्टिच और चेक गणराज्य की हेलेना सुकोवा को ...

विश्व कप के बाद गेंद की तरफ देखना भी नहीं चाहता था: नेमार

विश्व कप के बाद गेंद की तरफ देखना भी नहीं चाहता था: नेमार
ब्राजील। ब्राजील के दिग्गज खिलाड़ी नेमार ने स्वीकार किया है कि फुटबॉल विश्व कप क्वार्टर ...

तेज गेंदबाजी विभाग में भारत के पास मजबूत विकल्प: जहीर खान

तेज गेंदबाजी विभाग में भारत के पास मजबूत विकल्प: जहीर खान
मुंबई। पूर्व तेज गेंदबाज जहीर खान का मानना है कि भारत के पास चोटिल तेज गेंदबाजों ...

ईरान में भूकंप के तेज झटके, 25 घायल

ईरान में भूकंप के तेज झटके, 25 घायल
दुबई। ईरान के पश्चिमी क्षेत्र में रविवार को भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए जिससे कम से कम ...

पाकिस्तान में आत्मघाती हमले में उम्मीदवार की मौत

पाकिस्तान में आत्मघाती हमले में उम्मीदवार की मौत
पेशावर। हिंसाग्रस्त खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के डेरा इस्माइल खान में रविवार को एक आत्मघाती ...

महिला को समलैंगिक साथी के आरोप के मामले में मिली अग्रिम ...

महिला को समलैंगिक साथी के आरोप के मामले में मिली अग्रिम जमानत
मुंबई। बंबई उच्च न्यायालय ने शहर की एक महिला को अग्रिम जमानत दे दी है। उस महिला पर उसकी ...

अमेरिका में रह रहे सिखों के लिए खुशखबर, न्यूयॉर्क के ...

अमेरिका में रह रहे सिखों के लिए खुशखबर, न्यूयॉर्क के स्कूलों में सिख धर्म के बारे में होगी पढ़ाई
न्यूयॉर्क। अमेरिका में 70 प्रतिशत से ज्यादा नागरिकों को सिख धर्म की जानकारी नहीं होने के ...

दीप्ति नवल बनाना चाहती थीं अमृता शेरगिल पर बायोपिक

दीप्ति नवल बनाना चाहती थीं अमृता शेरगिल पर बायोपिक
मुंबई। फिल्म अभिनेता जिमी शेरगिल ने खुलासा किया है कि जानी-मानी अभिनेत्री दीप्ति नवल उनकी ...