हीरो इंडियन सुपर लीग में क्रेमारेविक के आत्मघाती गोल से सत्र में पहली बार हारा ब्लास्टर्स

पुनः संशोधित मंगलवार, 6 नवंबर 2018 (16:55 IST)
कोच्चि। के कारण केरला ब्लास्टर्स को यहां जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में खेले गए (आईएसएल) मुकाबले में बेंगलुरू एफसी के हाथों 1-2 से हार मिली। मेजबान टीम की यह पांचवें सीजन की पहली हार है जबकि बेंगलुरू पांच मैचों में चौथी जीत के साथ अंक तालिका में टॉप पर पहुंच गया है।

मैच का पहला गोल बेंगलुरू एफसी के लिए करिश्माई कप्तान सुनील छेत्री ने 17वें मिनट में किया। मेजबान टीम ने 30वें मिनट में हासिल पेनल्टी पर गोल करते हुए स्कोर 1-1 से बराबर कर दिया लेकिन 81वें मिनट में के आत्मघाती गोल ने उसे हार पर मजबूर कर दिया। केरल की 6 मैचों में यह पहली हार है। बेंगलुरू की टीम अब तक अजेय है। उसके खाते में 13 अंक हैं। केरल की टीम 7 अंकों के साथ 7वें स्थान पर है।

पहले हाफ में दोनों टीमों ने बराबरी का खेल दिखाया। मैच का पहला मौका तीसरे मिनट में हालांकि मेजबान टीम ने बनाया। प्रशांत के. और सीके विनीत का यह प्रयास बेकार चला गया लेकिन 9वें मिनट में केरल ने एक और जोरदार हमला किया।

सहल अब्दुल समद ने स्लाविस्ला स्टोजानोविक की मदद से अपनी टीम का खाता खोलना चाहा लेकिन बेंगलुरू के गोलकीपर गुरप्रीत सिंह संधू सावधान थे। अगले कुछ मिनट तक दोनों टीमों के बीच गेंद के लिए रस्साकसी चलती रही। 17वें मिनट में इस प्रतिस्पर्धा में जीत बेंगलुरू की हुई क्योंकि कप्तान छेत्री ने उसका खाता खोल दिया।

छेत्री ने यह गोल अपने सबसे भरोसेमंद साथी मीकू की मदद से किया। मीकू के ही थ्रू बॉल पर छेत्री ने अपनी टीम का खाता खोला। मेजबान टीम ने इसके जवाब में 21वें मिनट में एक जोरदार हमला किया। इस हमले के केंद्र में विनीत थे लेकिन बेंगलुरू के डिफेंडरों ने उन्हें सफल नहीं होने दिया। केरल ने 28वें मिनट में एक और मौका बनाया और इस पर उसे पेनाल्टी मिल गया क्योंकि थ्रोइन पर समद गोल करने की स्थिति में थे लेकिन नीशू कुमार ने उन्हें गिरा दिया।

इस पेनाल्टी पर स्टोजानोविक ने 30वें मिनट में गोल करते हुए स्कोर 1-1 कर दिया। बराबरी का गोल होने के बाद मीकू ने कमान सम्भाली और 33वें मिनट में एक जोरदार हमला किया लेकिन वह सफल नहीं हो सके। 1-1 के स्कोर पर पहला हाफ समाप्त हुआ। दूसरे हाफ का खेल शुरू होने से पहले ही मैदान के एक छोर के फ्लडलाइट ने काम करना बंद कर दिया। लगभग 20 मिनट बाद खेल फिर से शुरू हुआ।

दूसरे हाफ की शुरुआत में केरल के लालरुआथारा को पीला कार्ड मिला। 52वें मिनट में मीकू और छेत्री ने एक अच्छा मूव बनाया। मीकू ने बॉक्स के मध्य से एक करारा शॉट लिया लेकिन रास्ते में नेमांजा पेसिक आ गए। गेंद उन्हें लगी और कार्नर के लिए बाहर चली गई। 56वें मिनट में मीकू ने एक और जोरदार हमला किया लेकिन नवीन कुमार ने उसे नाकाम कर दिया।

बेंगलुरू ने 62वें मिनट में पहला बदलाव किया। उदांता बाहर गए और कीन लेविस अंदर आए। चार मिनट नवीन ने छेत्री के एक हमले को नाकाम किया और इसी मिनट में केरल ने समद को बाहर कर करेज पेकुसन को अंदर लिया। दो मिनट बाद केरल ने एक और बदलाव करते हुए सिमेनलेन को बाहर किया और होलीचरण नारजारे को अंदर लिया। 73वें मिनट में बेंगलुरू ने जिस्को हर्नांदेज को अंदर किया। जुआनन बाहर गए।

नारजारे ने 77वें मिनट में एक लोक्रास के माध्यम से संधू को छकाना चाहा। संधू सावधान थे लेकिन गेंद पर पूरी तरह काबू नहीं पा सके। सौभाग्य से केरल का कोई खिलाड़ी आसपास नहीं था। 79वें केरल के सीके विनीत और बेंगलुरू के अल्बर्ट सेरान बुरी तरह भिड़ गए। दोनों को पीला कार्ड मिला। 81वें मिनट में बेंगलुरू ने एक और हमला किया, जिसे बचाने के प्रयास में क्रेमारेविक दुर्भाग्य से आत्मघाती गोल कर बैठे। बेंगलुरू की टीम 2-1 से आगे हो गई। अंतिम मिनट में केरल को काफी करीब से फ्रीकिक मिला लेकिन वह उसे भुना नहीं सकी। (वार्ता)


और भी पढ़ें :