राष्ट्रमंडल खेलों में भारत का शानदार प्रदर्शन, 26 स्वर्ण समेत जीते 62 पदक

गोल्ड कोस्ट| पुनः संशोधित रविवार, 15 अप्रैल 2018 (14:44 IST)
गोल्ड कोस्ट। ने अपने खिलाड़ियों के शानदार और दमदार खेल की बदौलत 26 स्वर्ण, 20 रजत और 20 कांस्य सहित कुल 66 पदक जीतकर में 21वें राष्ट्रमंडल खेलों में अपने इतिहास का तीसरा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया। भारत ने इन 66 पदकों के साथ राष्ट्रमंडल खेलों के इतिहास में 500 पदक भी पूरे कर लिए और यह उपलब्धि हासिल करने वाला वह 5वां देश बन गया।
भारत मेजबान ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बाद तीसरे स्थान पर रहा। ऑस्ट्रेलिया ने 80 स्वर्ण सहित 198 पदक जीते जबकि इंग्लैंड ने 45 स्वर्ण सहित 136 पदक जीते। कनाडा 15 स्वर्ण सहित 82 पदक जीतकर चौथे और न्यूजीलैंड 15 स्वर्ण सहित 46 पदक जीतकर 5वें नंबर पर रहा।

भारत ने 2014 के ग्लास्गो राष्ट्रमंडल खेलों की 15 स्वर्ण सहित 64 की कुल पदक संख्या को कहीं पीछे छोड़ दिया। भारत का राष्ट्रमंडल खेलों में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन अपनी मेजबानी में 2010 दिल्ली में दूसरा स्थान रहा था, जहां उसने 38 स्वर्ण सहित कुल 101 पदक जीते थे। भारत ने 2002 के मैनचेस्टर राष्ट्रमंडल खेलों में 30 स्वर्ण सहित 69 पदक जीते थे और उस समय वह चौथे स्थान पर रहा था।
राष्ट्रमंडल खेलों के इतिहास में भारत के अब कुल 504 पदक हो गए हैं जिनमें 181 स्वर्ण, 175 रजत और 148 कांस्य पदक शामिल हैं। भारत ने खेलों के अंतिम दिन रविवार को 7 पदक जीतकर अपने पदकों की ओवरऑल संख्या को 66 पहुंचा दिया।

भारत ने इन खेलों में कई प्रतियोगिताओं में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया। खासतौर पर मुक्केबाजी, भारोत्तोलन, निशानेबाजी, टेबल टेनिस, कुश्ती और बैडमिंटन में भारत का प्रदर्शन चरम पर रहा और भारत ने अपने सर्वाधिक पदक इन्हीं खेलों में जीते।
निशानेबाजी में भारत ने सबसे ज्यादा पदक हासिल किए। युवा निशानेबाजों के शानदार प्रदर्शन की बदौलत भारत ने 7 स्वर्ण, 4 रजत और 5 कांस्य पदक सहित कुल 16 पदक जीते। इसके बाद कुश्ती का नंबर रहा, जहां भारत ने 5 स्वर्ण, 3 रजत और 4 कांस्य सहित कुल 12 पदक जीते। इसके बाद मुक्केबाजी और भारोत्तोलन का नंबर रहा, जहां भारतीय खिलाड़ियों ने 9-9 पदक जीते। भारोत्तोलन में भारत को 5 स्वर्ण, 2 रजत और 2 कांस्य
तथा मुक्केबाजी में 3 स्वर्ण, 3 रजत और 3 कांस्य पदक मिले।
टेबल टेनिस की कामयाबी हर लिहाज से हैरतअंगेज रही जिसमें भारतीय खिलाड़ियों ने 3 स्वर्ण, 2 रजत और 3 कांस्य सहित कुल 8 पदक जीते। बैडमिंटन में भारत ने 2 स्वर्ण, 3 रजत और 1 कांस्य सहित 6 पदक हासिल किए। एथलेटिक्स में भारत को 1 स्वर्ण, 1 रजत और 1 कांस्य पदक मिला। स्क्वैश में भारत के हिस्से में 2 रजत पदक आए। पैरा पॉवरलिफ्टिंग में भारत को 1 कांस्य पदक मिला।

भारत ने गोल्ड कोस्ट में 226 सदस्यीय दल उतारा था जिसमें 8 पैरा खिलाड़ी भी शामिल थे। इन खिलाड़ियों में कुल 66 पदक जीतकर देश का नाम रोशन कर दिया। गोल्ड कोस्ट में भारत को स्वर्ण पदक दिलाने की शुरुआत भारोत्तोलक मीराबाई चानू ने की थी और इन खेलों का समापन बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल ने स्वर्ण पदक जीतकर किया।
भारत के लिहाज से इन खेलों की सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी टेबल टेनिस की मणिका बत्रा रहीं जिन्होंने कमाल का प्रदर्शन करते हुए 4 पदक हासिल किए। मणिका ने महिला टीम स्वर्ण, महिला एकल स्वर्ण, महिला युगल रजत और मिश्रित युगल कांस्य पदक जीता। बैडमिंटन
में साइना ने 8 साल पहले की दिल्ली की उपलब्धि को दोहराया। उन्होंने भारत को ऐतिहासिक टीम स्वर्ण दिलाने के साथ-साथ महिला एकल स्वर्ण भी जीता और वे राष्ट्रमंडल खेलों में 2 बैडमिंटन स्वर्ण जीतने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी बन गईं।
कुश्ती के लीजेंड पहलवान सुशील कुमार ने अपने आलोचकों को गलत साबित करते हुए 74
किग्रा वर्ग में स्वर्ण पदक जीता और राष्ट्रमंडल खेलों में खिताबी हैट्रिक पूरी की। सुशील ने
2010 दिल्ली और 2014 ग्लास्गो में भी स्वर्ण पदक जीते थे। सुशील ने ग्लास्गो में स्वर्ण जीतने के बाद एक बार फिर सफल वापसी की और दिखाया कि वे आगामी ओलंपिक के लिए भी तैयार हैं। (वार्ता)

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :