'वैचारिक कुंभ' की एक बानगी इंदौर एयरपोर्ट पर...

पुनः संशोधित शुक्रवार, 13 मई 2016 (21:54 IST)
इंदौर। सदी के दूसरे सिंहस्थ महाकुंभ का आयोजन इन दिनों में चल रहा है। इस महाकुंभ में देश-विदेश से लाखों श्रद्धालु आस्था की डुबकियां लगा रहे हैं। उज्जैन सिंहस्थ के तारतम्य में मध्यप्रदेश सरकार ने एक अनूठा प्रयोग उज्जैन से सटे निनोरा गांव में तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय 'वैचारिक कुंभ' का आयोजन कर किया है। 
इस में देश-विदेश से 850 से अधिक विद्वानों और मनीषी हिस्सा ले रहे हैं। उज्जैन जाने के पूर्व वैचारिक महाकुंभ की एक बानगी इंदौर के देवी अहिल्‍याबाई होलकर विमानतल पर भी दिखाई दी। इस वैचारिक महाकुंभ के समापन में मुख्य अतिथि के रूप में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और विशेष अतिथि के रूप में श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाल सिरिसेना शामिल होंगे।  
 
इंदौर के विमानतल पर बाकायदा एक स्टॉल लगाया गया है, जहां पर वैचारिक महाकुंभ की तत्काल जानकारी उपलब्ध है। देश-विदेश से वैचारिक महाकुंभ में हिस्सा लेने वाले अतिथियों को इस स्टॉल पर से समस्त जानकारियां दी जा रही हैं। यह वैचारिक महाकुंभ ठीक उसी व्यवस्था शैली पर संयोजित किया जा रहा है, जिस तरह कुछ महीनों पूर्व भोपाल में विश्व हिन्दी सम्मेलन आयोजित किया गया था।
 
उल्लेखनीय है कि विश्व हिन्दी सम्मेलन के सफलतापूर्वक आयोजन में अनिल दवे ने महती भूमिका निभाई थी। मध्यप्रदेश सरकार ने 'वैचारिक महाकुंभ' की जिम्मेदारी भी अनिल दवे के हाथों में ही सौंपी और वे आयोजन समिति के अध्यक्ष भी हैं। इस वैचारिक महाकुंभ की प्रशंसा संघ प्रमुख मोहन भागवत, जूनापीठाधीश्वर अवधेशानंदजी, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, गायत्री परिवार के प्रमुख डॉ. प्रणव पंड्‍या एवं अन्य अतिथि भी कर चुके हैं। 
 
वैचारिक महाकुंभ के मुख्य द्वार को भी विश्व हिन्दी सम्मेलन के द्वार जैसा भव्य बनाने की कोशिश की गई है। यहां पर अलग-अलग सभास्थलों को नाम भी दिए गए हैं। यही नहीं, यहां पर प्रदर्शनी भी लगाई गई है, जो आगंतुकों को आकर्षित कर रही है।

Widgets Magazine
वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।



और भी पढ़ें :

अत्यंत आश्चर्यजनक है श्री घंटाकर्ण यंत्र, जानिए कैसे करें ...

अत्यंत आश्चर्यजनक है श्री घंटाकर्ण यंत्र, जानिए कैसे करें पूजन
श्री घंटाकर्ण यंत्र अति विशिष्ट एवं प्रभावशाली है, जो वर्तमान में अन्य किसी पुस्तक में ...

गंगा में विसर्जित अस्थियां कहां गायब हो जाती हैं?

गंगा में विसर्जित अस्थियां कहां गायब हो जाती हैं?
हिन्दू धर्म में व्यक्ति को समाधी देने या दाह संस्कार दोनों की ही परंपरा है, जो कि शास्त्र ...

करोड़ों खर्च लेकिन फिर भी गंगा मैली की मैली, कौन है ...

करोड़ों खर्च लेकिन फिर भी गंगा मैली की मैली, कौन है गुनाहगार...
गंगा भारत की सबसे महत्वपूर्ण नदी है और इसका धार्मिक महत्व भी बहुत अधिक है। कहते है कि ...

किस दिशा में प्राप्त होगी सफलता, जानिए अपनी कुंडली से...

किस दिशा में प्राप्त होगी सफलता, जानिए अपनी कुंडली से...
अक्सर अपनी जन्म पत्रिका का परीक्षण करवाते समय लोगों का प्रश्न होता है कि किस दिशा में ...

कर्मकांड करवाने वाले आचार्य व पुरोहित कैसे हो, आप भी ...

कर्मकांड करवाने वाले आचार्य व पुरोहित कैसे हो, आप भी जानिए...
कर्मकांड हमारी सनातन संस्कृति का अभिन्न अंग है। बिना पूजा-पाठ व कर्मकांड के कोई भी हिन्दू ...

अप्सरा मेनका ने क्यों छोड़ दिया था विश्वामित्र को?

अप्सरा मेनका ने क्यों छोड़ दिया था विश्वामित्र को?
विश्वामित्र वैदिक काल के विख्यात ऋषि थे। उनके ही काल में ऋषि वशिष्ठ थे जिसने उनकी अड़ी ...

खुलासा, इन पांच में से इस स्त्री के कारण हुआ था महाभारत का ...

खुलासा, इन पांच में से इस स्त्री के कारण हुआ था महाभारत का युद्ध?
आम धारणा है कि जर, जोरू और जमीन के लिए ही युद्ध होते रहे हैं। महाभारत में भूमि बंटवारा ...

पुण्य फलदायी है मोहिनी एकादशी, पढ़ें पौराणिक व्रतकथा, आरती ...

पुण्य फलदायी है मोहिनी एकादशी, पढ़ें पौराणिक व्रतकथा, आरती एवं महत्व
वैशाख मास में जो एकादशी आती है उसका नाम मोहिनी एकादशी है। इसका व्रत करने से मनुष्य सब ...

यह है भगवान नृसिंह के रौद्र अवतार की पौराणिक कथा

यह है भगवान नृसिंह के रौद्र अवतार की पौराणिक कथा
हिरण्यकशिपु का शासन बहुत कठोर था। देव-दानव सभी उसके चरणों की वंदना में रत रहते थे। भगवान ...

इस एकादशी पर करें ये 3 उपाय, शीघ्र होगा आपका विवाह...

इस एकादशी पर करें ये 3 उपाय, शीघ्र होगा आपका विवाह...
धार्मिक शास्त्रों के अनुसार एकादशी के व्रत-उपवास का बहुत महत्व है।जिन लोगों की शादी नहीं ...

राशिफल