दो बार 2-2 साल भराया था सिंहस्थ...

पुनः संशोधित शनिवार, 2 अप्रैल 2016 (18:12 IST)
- आलोक अनु यूं तो सिंहस्थ का पर्व 12 साल में एक बार आयोजित होने की जानकारी सभी को है लेकिन यह बहुत कम लोगों को पता होगा कि सिंहस्थ के इतिहास में ऐसा दौर भी आया जब 2 बार 2-2 साल तक शहर में कुंभ भराया और लोगों ने श्रद्धा के साथ पुण्य सलिला में स्नान किया। ये दुर्लभ घटनाएं भी इतिहास के पन्नों में दर्ज हैं।
जानकारी के अनुसार श्री करपात्री एवं दंडीस्वामियों ने सन् 1956 में उज्जैन का सिंहस्थ मनाने का निर्णय लिया लेकिन षड्दर्शन अखाड़ों को यह निर्णय मान्य नहीं हुआ और उन्होंने सन् 1957 में सिंहस्थ करने को कहा। इस बात पर विवाद चला। उसके बाद दंडीस्वामियों ने 1956 में एवं षड्दर्शन अखाड़ों ने सन् 57 में सिंहस्थ का पर्व मनाया। 
 
इसी सिंहस्थ में शाही स्नान के जुलूस में जाने के विषय में 4 प्रमुख संन्यासी अखाड़ों- जूना, दत्त, महानिर्वाणी व निरंजनी ने 13 मई 1957 को शाही स्नान के लिए समझौता किया कि सबसे आगे दत्त अखाड़े का निशान फिर तीनों अनि अखाड़ों के निशान घोड़ों पर समान संस्थान के कर्मचारी, उनके पीछे नए उदासीन अखाड़े के साधु-संतों की गाड़ी, उनके पीछे उदासीन अखाड़े के साधु और उनके पीछे निर्मल अखाड़े के साधु रहेंगे।
 
स्नान के बाद भगवान की पालकी के मंदिर में वापस आते समय आगे निरंजनी और जूना अखाड़े के साधु फिर भगवान की पालकी, उसके पीछे निर्वाणी व अटल अखाड़ा फिर संस्थान कर्मचारी, बड़े उदासीन अखाड़े के साधु फिर नए उदासी अखाड़े के साधु और फिर निर्मल अखाड़े के साधु रहेंगे। 
 
इसी तरह सन् 1969 के उज्जयिनी सिंहस्थ को लेकर वैष्णव अनि अखाड़ों में विवाद उत्पन्न हो गया। वैष्णव अनि अखाड़ों ने सन् 1968 में कुंभ मनाया जबकि अन्य समस्त अखाड़ों ने सन् 1969 में सिंहस्थ का स्नान किया। मुख्य शाही स्नान वैशाख पूर्णिमा को 2 मई 1969 को हुआ।

वेबदुनिया हिंदी मोबाइल ऐप अब iOS पर भी, डाउनलोड के लिए क्लिक करें। एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें। ख़बरें पढ़ने और राय देने के लिए हमारे फेसबुक पन्ने और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं।

और भी पढ़ें :

सोने की लंका का असली इतिहास

सोने की लंका का असली इतिहास
श्रीलंका सरकार ने 'रामायण' में आए लंका प्रकरण से जुड़े तमाम स्थलों पर शोध कराकर उसकी ...

खांडव वन में इस तरह बसाया था इंद्रप्रस्थ और पांडवों को मिले ...

खांडव वन में इस तरह बसाया था इंद्रप्रस्थ और पांडवों को मिले थे अद्भुत हथियार
कौरव और पांडवों के बीच जब राज्य बंटवारे को लेकर कलह चली, तो मामा शकुनि की अनुशंसा पर ...

क्यों सुनना चाहती थीं पार्वती अमरनाथ की अमरकथा, पढ़ें रोचक ...

क्यों सुनना चाहती थीं पार्वती अमरनाथ की अमरकथा, पढ़ें रोचक जानकारी...
एक बार पार्वतीजी से ने शंकरजी से पूछा, ‘मुझे इस बात का बड़ा आश्चर्य है कि आपके गले में ...

अगर ऐसे करते हैं उपवास तो नहीं मिलेगा आपको फल

अगर ऐसे करते हैं उपवास तो नहीं मिलेगा आपको फल
हिन्दू धर्म में संपूर्ण वर्ष में कई प्रकार के उपवास आते हैं, जैसे वार के उपवास, माह में ...

श्री देवी सहस्रनामावली : सफलता का परचम लहराना है तो पढ़ें ...

श्री देवी सहस्रनामावली : सफलता का परचम लहराना है तो पढ़ें मां दुर्गा के 1000 दुर्लभ नाम...
प्रतिदिन देवी सहस्रनामावली का जाप जीवन को वैभवशाली और ऐश्वर्यशाली बनाता हैं। इन नामों को ...

ब्रज में मुड़िया पूनो मेला शुरू, 2 करोड़ श्रद्धालुओं के भाग ...

ब्रज में मुड़िया पूनो मेला शुरू, 2 करोड़ श्रद्धालुओं के भाग लेने की संभावना
मथुरा। ब्रजभूमि के 'मिनी कुंभ' के नाम से मशहूर मुड़िया पूनो मेला में अब तक 5 लाख से अधिक ...

देवी लक्ष्मी ने आखिर बिल्ववृक्ष का रूप क्यों लिया, पढ़ें एक ...

देवी लक्ष्मी ने आखिर बिल्ववृक्ष का रूप क्यों लिया, पढ़ें एक ऐसी कथा जो आपने कहीं नहीं सुनी
हे प्रभु, मेरी यह जानने की बड़ी उत्कट इच्छा हो रही है कि आपको बिल्व पत्र इतने प्रिय क्यों ...

देवशयनी एकादशी के 3 खास मंत्र, क्या कहती है आपकी राशि, ...

देवशयनी एकादशी के 3 खास मंत्र, क्या कहती है आपकी राशि, जानिए अचूक उपाय, राशि मंत्र
देवशयनी एकादशी को देव प्रबोधिनी एकादशी के समान ही बड़ी और पवित्र माना गया है। इस दिन ...

श्रावण से पूर्व ही इस सोमवार को करें शिव की ऐसे पूजा, ...

श्रावण से पूर्व ही इस सोमवार को करें शिव की ऐसे पूजा, मिलेगा शुभ आशीर्वाद(12 राशि अनुसार)
श्रावण के आरंभ होने से पहले वाले सोमवार को भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए हर राशि के ...

चमत्कारी है महामृत्युंजय मंत्र, लेकिन जरूरी हैं यह 16 ...

चमत्कारी है महामृत्युंजय मंत्र, लेकिन जरूरी हैं यह 16 सावधानियां,  कब करें इस मंत्र का जाप...
महामृत्युंजय मंत्र से शिव पर अभिषेक करने से जीवन में कभी सेहत की समस्या नहीं आती। ...

राशिफल